• Hindi News
  • Rajya
  • Rajasthan
  • Bharatpur
  • Bharatpur News rajasthan news dial the emergency number 100 in trouble the call does not even happen if it starts the police says take the accused to the post

मुसीबत में आपातकालीन नंबर 100 डायल करो तो कॉल ही नहीं लगता, लग जाए तो पुलिस कहती है आरोपी को चौकी ले जाओ

Bharatpur News - किसी भी संकट में फंसने पर सामान्य तौर पर पुलिस सहायता के लिए लोग आपातकालीन नंबर 100 पर फोन करते हैं। लेकिन, भरतपुर...

Dec 04, 2019, 08:22 AM IST
Bharatpur News - rajasthan news dial the emergency number 100 in trouble the call does not even happen if it starts the police says take the accused to the post
किसी भी संकट में फंसने पर सामान्य तौर पर पुलिस सहायता के लिए लोग आपातकालीन नंबर 100 पर फोन करते हैं। लेकिन, भरतपुर जिले में पुलिस कंट्रोल रूम के इस नंबर का हाल यह है कि या तो फोन लगता ही नहीं है। अगर, लग भी जाए तो काफी देर तक ट्यून सुनाई देने के साथ ही पहले 1 दबाएं, फिर 2 दबाएं जैसी प्रक्रिया चलती रहती है। इसके बाद जब कंट्रोल रूम मंें बात होती तो ज्यादातर टालमटोल वाले जवाब मिलते हैं। आपातकालीन परिस्थितियों में लोगों को अलग-अलग नंबरों पर डायल नहीं करना पड़े, इसलिए केंद्र सरकार ने पिछले दिनों देश व्यापी एक ही इमरजेंसी नंबर 112 लागू किया है। इसे राजस्थान समेत कई राज्य लागू कर चुके है। इसका एक उद्देश्य सूचना मिलने के बाद पुलिस का रिस्पांस टाइम कम से कम रखना है। आपातकालीन नंबर 100 हो या 112 इनके लिए अभी रिस्पांस टाइम 10 से 12 मिनट है। जबकि कवायद इस रिस्पांस टाइम को 5 से 8 मिनट तक पर लाने की चल रही है। इसके लिए दिल्ली, जयपुर, कोलकाता जैसे कई बड़े महानगरों में चेतक, पीसीआर वेन गाड़ियों और ग्रामीण इलाकों में सिग्मा जैसे दुपहिया वाहन चालक गश्ती पुलिस की व्यवस्था की गई है।

इस रिस्पांस टाइम को ही जांचने के लिए दैनिक भास्कर की ओर से मंगलवार को भरतपुर शहर समेत जिले की ज्यादातर तहसीलों से आपातकालीन 100 नंबर पर फोन किए गए। तो किसी को निकटवर्ती थाने पर जाकर सूचना देने की सलाह दी गई। रारह के गनुसारा में 11.55 बजे झगड़े की सूचना दी गई जिस पर 12.01 पर पुलिस का रिटर्न कॉल आया वहीं 12.14 बजे चौकी से कांस्टेबल मौके पर पहुंच गए। सीकरी में भगतसिंह चौराहे पर झगड़े की सूचना 2.15 बजे दी गई। सूचना के 14 मिनट बाद दो हैड कांस्टेबल और दो कांस्टेबल मौके पर पहुंच गए।

भास्कर ने जाना पुलिस सहायता का सच, सूचना के दो घंटे बाद तक नहीं पहुंची पुलिस, संभवत: इसीलिए अलवर पुलिस ने पकड़े हमारे वांछित बदमाश

कहीं पहली बार में ही मिला फोन तो कहीं 20 बार डायल करने के बावजूद पुलिस को नहीं दे पाए सूचना

सीकरी। भास्कर के स्टिंग के दौरान कुछ ही देर में मौके पर पहुंची पुलिस टीम

यहां नहीं मिल सका था कॉल

उच्चैन के नगला धौर में एक साल पूर्व हुई लूट, तब नहीं मिला नंबर

उच्चैन के नगला धौर में अगस्त, 2018 में लूट की वारदात हुई उस समय पीड़ित परिवार की लड़की ने कई बार 100 नंबर डायल किया लेकिन नहीं मिला और घटना हुई।

बयाना: 7 बार में कॉल हुआ कनेक्ट, पुलिस वाले बोले- शराबी को चौकी पर ले जाओ

मंगलवार सुबह 10.40 बजे बयाना से 100 नम्बर पर फोन किया तो 15 मिनट की अवधि में लगातार 6 बार प्रयास करने के बाद 7वीं बार में जाकर फोन कनेक्ट हुआ। कंट्रोल रुम को सूचना दी कि सुभाष चौक स्कूल से बामडा मंदिर रोड पर एक शराबी उत्पात मचाकर राहगीरों और दुकानदारों को परेशान कर रहा है। फोन रिसीव करने वाले पुलिसकर्मी ने कहा कि सुभाष चौक के पास ही टाउन पुलिस चौकी है, उत्पाती शराबी को पकड कर वहां ले जाओ।

कैथवाड़ा: बीमार गाय की दी सूचना, बोले थाने पर फोन करो

दोपहर डेढ़ बजे कैथवाड़ा से 100 नंबर पर कॉल किया तो 10 वीं बार डायल करने कनेक्ट हुआ। एक गाय को गोतस्करों द्वारा छोड़ जाने की सूचना देते कहा गाय बीमार है और वह चल फिर नहीं सकती है तो पुलिसकर्मी ने पुलिस थाना कैथवाड़ा का मोबाइल नंबर बता दिया।

कंप्यूटर से आवाज आती रही ‘पुलिस सहायता केंद्र में आपका स्वागत है’ लेकिन किसी ने नहीं उठाया फोन

भरतपुर में सुबह 10 से 12 बजे के बीच 12 बार फोन किया। लेकिन, कॉल कनेक्ट ही नहीं हुआ। 7 बार तो कॉल ड्रॉप हो गई, जबकि 5 बार कॉल पर कंप्यूटर बोला कि पुलिस कंट्रोल भरतपुर में आपका स्वागत है, पुलिस सहायता के लिए 2 दबाएं, लेकिन दो दबाने के बाद ट्यून ही आती रही किसी पुलिसकर्मी ने कॉल अटेंड ही नहीं किया। यही हाल अन्य क्षेत्रों का रहा। पहाड़ी से भी 11 से 2 बजे के बीच लगातार 20 बार पुलिस कंट्रोल के 100 नम्बर पर फोन मिलाया गया, लेकिन फोन कनेक्ट ही नहीं हुआ।

एडिशनल एसपी बोले: बीएसएनएल का नेटवर्क है फोन लग जाए तो सौभाग्य

कंट्रोल के 100 नंबर को बीएसएनएल की सेवाएं प्राप्त हैं। इसका नेटवर्क सिस्टम बेहद कमजोर है। यह सही बात है कि 100 नंबर डायल करने पर एक बार में मिल जाए तो किसी का सौभाग्य ही है। इसके लिए कई बार पत्र लिखकर बीएसएनएल के अधिकारियों को शिकायत की जा चुकी है। लेकिन सिस्टम में कोई सुधार नहीं हुआ है। वहीं 100 डायल को शिकायत मिलने पर वहां से संबंधित थाने के एसएचओ को सूचना दी जाती है, लेकिन कभी-कभार उनका नंबर व्यस्त होता है, ऐसे में परिवादी को संबंधित थाना या चौकी पर पहुंचकर घटना की जानकारी देने की सलाह दे दी जाती है। सूचना मिलने पर पुलिस को रवानगी आदि में समय तो लगता ही है।

डीग: बाइक चोरी की सूचना, 2 घंटे तक भी नहीं पहुंची पुलिस

डीग से बुधवार सुबह 10.42 बजे पुलिस कंट्रोल रूम के 100 नंबर पर सूचना दी गई कि राजा मानसिंह शहीद स्थल के निकट खड़ी एक बाइक चोरी हो गई है। लेकिन सूचना के बाद दो घंटे तक पुलिस घटना स्थल पर पहुंची ही नहीं।

कामां: झगड़े की सूचना पर 5 मिनट में ही पहुंचे चौकी प्रभारी

मंगलवार सुबह 10.15 बजे 100 नंबर पर कॉल किया कि धिलावटी के निकट दो ट्रक ड्राइवर झगड़ा कर रहे हैं। उसके 5 मिनट बाद कामां थाने से फोन आया कितना बड़ा झगड़ा है और कहां हो रहा है क्यों हुआ है तथा फिर उसके 5 मिनट बाद चौकी प्रभारी हरवीर सिंह मौके पर पहुंचे।

नगर: एक्सीडेंट की सूचना पर 11 मिनट में आई पुलिस

नगर से मंगलवार शाम 100 नंबर पर कॉल किया तो 6 वीं बार में जाकर कनेक्ट हुआ। सूचना कर बताया कि कस्बा के नदबई रोड स्थित होली दरवाजा पर दो बाइकों की आपस में भिड़ंत हुई है। सूचना के 11 मिनट बाद पुलिस घटनास्थल पर पुलिस पहुंची।

Bharatpur News - rajasthan news dial the emergency number 100 in trouble the call does not even happen if it starts the police says take the accused to the post
X
Bharatpur News - rajasthan news dial the emergency number 100 in trouble the call does not even happen if it starts the police says take the accused to the post
Bharatpur News - rajasthan news dial the emergency number 100 in trouble the call does not even happen if it starts the police says take the accused to the post
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना