• Hindi News
  • National
  • Deeg News Rajasthan News Go Home At 12 O39clock On Airstrike Night And Cut The Birthday Cake So That There Is No Doubt Then Came The Control Room And Completed The Mission Air Marshal Hari

एयरस्ट्राइक की रात 12 बजे घर जाकर बर्थडे केक काटा, ताकि शक न हो; फिर कंट्रोल रूम आकर मिशन पूरा किया: एयर मार्शल हरि

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पाकिस्तान के बालाकोट में इस साल 25-26 फरवरी की रात जिस एयरस्ट्राइक ने दुनिया को चौंकाया था, उस मिशन के चीफ रहे एयर मार्शल सी. हरि कुमार हमले के दो दिन बाद रिटायर हो गए। उन्होंने भास्कर को बताया कि मिशन वाली रात उन्होंने 12 बजे घर जाकर बर्थडे केक काटा, ताकि किसी को शक न हो। फिर कंट्रोल रूम आकर मिशन पूरा किया। रात 3:28 बजे स्ट्राइक शुरू हुई और 4 बजे विमान लौट आए। एयरस्ट्राइक के बाद मीडिया को दिया यह उनका पहला इंटरव्यू है। 39 साल की सर्विस के आखिरी पंद्रह दिन उनके लिए सबसे रोमांचक रहे। इस दौरान उन्होंने एयरस्ट्राइक की रूपरेखा बनाकर उसे अंजाम दिया। पेश हैं उनसे बातचीत के संपादित अंश...

बालाकोट एयरस्ट्राइक के 6 महीने बाद मिशन के चीफ पहली बार बता रहे हैं उस रात की पूरी कहानी...
स्ट्राइक का फैसला कब और कैसे लिया गया?

14 फरवरी को जब पुलवामा में हमला हुआ, उसी दिन एयरफोर्स चीफ ने मुझसे बात की। कहा कि हमारी भूमिका की जरूरत पड़ सकती है, इसलिए हमारे पास योजना होनी चाहिए। तभी कैबिनेट कमेटी ऑन सिक्योरिटी की बैठक हुई। उसमें एयरचीफ भी थे। चीफ ने ही वहां एयरस्ट्राइक का ऑप्शन दिया था।

उसके बाद तैयारी कैसे शुरू हुई?

ये बताने का कोई फायदा नहीं है। हम मिशन के लिए तैयार थे। हमें बस टारगेट चाहिए थे।

आपको टारगेट (बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद का आतंकी िठकाना) की जानकारी कब मिली?

25-26 फरवरी की रात तय हुई थी। उससे ठीक 7 दिन पहले हमें इसकी जानकारी दे दी गई थी।

मिशन के लिए पायलट कैसे चुने?

यह जानने से किसी को कोई फायदा नहीं होगा। हमने हर जरूरी संसाधन झोंक दिया था।

मिशन की रात क्या हुआ? उस शाम रिटायरमेंट पार्टी थी। 28 फरवरी को आप रिटायर होने वाले थे...

दिल्ली के इंडिया गेट पर आकाश मेस की वह शाम हमेशा यादगार रहेगी। उसी रात 12 बजे के बाद मेरा जन्मदिन था और मेरे जहन में एक बड़ा मिशन था। रिटायरमेंट पार्टी पहले से तय थी, इसलिए मिशन की सीक्रेसी बनाए रखने के लिए उसे स्थगित नहीं किया। पार्टी में मैंने वेटर को बुलाया और उसके कान में कहा कि लाइम कोर्डियल (जूस और चीनी से बनी नॉन-अल्कोहलिक ड्रिंक) की डबल डोज के साथ पानी देना, ताकि रंग व्हिस्की सा दिखाई दे। पार्टी में 80 अफसर थे। एयरचीफ बीएस धनोआ मुझे लॉन की तरफ ले गए। मुझसे अंतिम तैयारियों के बारे में पूछा और कहा कि जब ऑपरेशन हो जाए तो फोन पर सिर्फ ‘बंदर’ बोल देना।

मिशन को सीक्रेट रखना कितना कठिन था?

रात को आकाश मैस से लौटते समय मैंने प|ी से कहा कि कल शायद चंडीगढ़ में विशेष बच्चों के लिए बने स्कूल के उद्घाटन पर नहीं जा सकूंगा। यह सुनकर वह बहुत नाराज हो गईं। वह एयरफोर्स वाइफ्स वेलफेयर एसोसिएशन की अध्यक्ष होने के नाते मेरे साथ एयरक्राफ्ट में चलने की हकदार थीं। पश्चिमी कमान पहुंचते ही मैं जरूरी काम के बहाने घर से निकलकर ऑपरेशन रूम में पहुंच गया। मिशन की जानकारी एयरचीफ को देनी थी, जो एनएसए के संपर्क में थे। रात 12 बजे घर से संदेश आया कि दोस्त केक लेकर जन्मदिन मनाने पहुंचे हैं। किसी को मिशन का शक न हो, इसलिए मैं घर गया। केक काटा और कंट्रोल रूम आ गया।

एयर स्ट्राइक के लिए 25-26 फरवरी की रात का समय ही क्यों चुना गया?

कुछ कारण तो मैं आपको नहीं बता सकता लेकिन, मकसद से जुड़ी तीन परिस्थितियों से आपके सवाल का समाधान हो जाएगा। पहला और बड़ा कारण यह था कि हम ऐसे समय हमला करना चाहते थे, जब सभी आतंकी एक जगह जमा हों। यह रात का समय हो सकता था। हमने गौर किया था कि इस आतंकी ठिकाने पर सुबह चार बजे हलचल शुरू हो जाती है, जब तड़के की नमाज होती है। लिहाजा एक घंटे पहले वे अपने बिस्तरों में होने थे। भारत में उस समय साढ़े तीन बजे होंगे और पाकिस्तान में तीन। दूसरा कारण, चांद की खास स्थिति थी। 19 फरवरी को पूर्णमासी थी। मिशन के समय 3 से 4 बजे तक चांद क्षितिज से 30 डिग्री पर होना था। ऐसे में चांदनी एकदम आदर्श थी। उस दिन मौसम की पश्चिमी हलचलों का असर कम था। सटीक बमबारी में हवाएं आड़े आ सकती थीं।

पाक को चकमा देने के लिए 6 जेट दूसरी तरफ भेजे, तब बालाकोट में हमला किया | पेज-11

एयरचीफ ने कहा था मिशन पूरा होते ही फोन पर सिर्फ ‘बंदर’ बोल देना
एयरचीफ बीएस धनोआ ने प्री रिटायरमेंट पार्टी के दौरान मुझे लॉन में ले जाकर पूछा कि तैयारियां कैसी हैं? साथ ही कहा कि मिशन पूरा होते ही फोन पर सिर्फ बंदर बोल देना।’ - सी. हरि कुमार, एयर मार्शल (रिटा.)

ऐसे बनाए रखी गोपनीयता
स्ट्राइक से पहले शाम को प्री रिटायरमेंट पार्टी में व्हिस्की जैसे रंग का जूस पीते रहे, प|ी को भी भनक तक नहीं लगी

खबरें और भी हैं...