पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • Bharatpur News Rajasthan News In The House Where The Daughter Is Not Respected Poverty Only Comes Balayogi

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जिस घर में बेटी का सम्मान नहीं होता वहां दरिद्रता ही आती है:बालयोगी

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भरतपुर| मोहल्ला गोपालगढ़ में चल रही संगीतमय श्रीमद भागवत कथा के चौथे दिन प्रवचन करते मथुरा के कार्ष्णि कथाव्यास बालयोगी ब्रह्मानंद महाराज ने रुकमणि का उदाहरण दिया और समाज में बेटियों की आवश्यकता के बारे में प्रसंग सुनाया तो पांडाल में मौजूद महिलाएं और युवतियाें की आंखें छलछला उठीं। उन्होंने कहा कि जिस घर में बेटी का सम्मान नहीं होता वहां दरिद्रता आती है। उन्होंने कहा कि कथा वह है जो व्यथा को मिटा दे, कथा मनुष्य के जीवन का आधार है। प्रभु भजन जीवन के उद्धार का सबसे बड़ा हथियार है। सत्संग और कथा श्रवण मेहनत व पुरुषार्थ का फल नहीं है। यह ठाकुर जी के अनुग्रह का ही फल है। उन्होंने पार्वती जन्म से लेकर भगवान शंकर के साथ विवाह प्रसंग पर विवेचना करते कहा कि शंकर विश्वास और पार्वती श्रद्धा का प्रतीक हैं। श्रद्धा के बिना धर्म नहीं हो सकता। धर्म की शुरुआत घर की रसोई से कराएं, आहार सात्विक, शुद्ध और पवित्र होगा कर्म शुद्ध होंगे और कर्म शुद्ध होगा तो धर्म अपने आप जीवन में साथ हो जाएगा।

अहंकार से स्वाभिमान नहीं खोना: डॉ. अर्चना प्रिय
भरतपुर| कंजौली लाइन में चल रही श्रीराम कथा में पांचवें दिन संस्कार जागृति मिशन की अध्यक्षा कथावाचक डॉ. अर्चना प्रिय आर्य ने कहा कि अहंकार व्यक्ति का नाश करता है। इसलिए धन, पद, सौंदर्य, बल का अभिमान नहीं करना चाहिए। भरत का जीवन त्याग भाव से ओतप्रोत था, इसलिए उन्होंने अपनी मां का वचन न मानकर एक चक्रवती सम्राट के पद को स्वीकार नहीं किया और अपने भाई श्रीराम को चित्रकूट में से वापस लाने के लिए नंगे पैर पहुंचे। पिता की आज्ञा सर्वोपरि मानते श्रीराम की पादुकाओं के साथ 14 वर्ष धरती में ही सोए। इस अवसर पर आयोजक पदम सैनी, रामकली देवी सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालु मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा पारिवारिक गतिविधियों में आपकी व्यस्तता बनी रहेगी। किसी प्रिय व्यक्ति की मदद से आपका कोई रुका हुआ काम भी बन सकता है। बच्चों की शिक्षा व कैरियर से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य भी संपन...

    और पढ़ें