वैज्ञानिक तरीके से खेती होने के कारण पशुधन में आ रही है गिरावट : भानूप्रताप

Bharatpur News - मेले हमारी सांस्कृतिक धरोहर एवं विरासत हैं। इनको सजो कर रखना हमारा दायित्व ही नहीं बल्कि मौलिक अधिकार भी हंै। यह...

Jan 25, 2020, 10:55 AM IST
Rupbas News - rajasthan news livestock is coming down due to scientific farming science
मेले हमारी सांस्कृतिक धरोहर एवं विरासत हैं। इनको सजो कर रखना हमारा दायित्व ही नहीं बल्कि मौलिक अधिकार भी हंै। यह बात मेला मैदान में नगर पालिका की ओर से आयोजित बसंत पशु मेला एवं प्रदर्शनी के उद्घाटन के अवसर पर मुख्यअतिथि के रूप में पूर्व प्रधान रविंद्र सिंह परमार ने कही। अध्यक्षता चेयरमैन बवीता खितौलीया ने की। विशिष्ट अतिथि पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष भानुप्रताप सिंह, उपाध्यक्ष जितेंद्र गोयल, पूर्व सरपंच अर्जुनसिंह कुशवाह, राकेश भातरा, अहमद हुसैन, विनोद गुप्ता, ज्ञानेश शर्मा, प्रेमसिंह अंधाना, मटोलीराम, भूरा खितौलीया, हेमो गोयल थे। कार्यक्रम का संचालन कवि मनोज मधुर ने किया। पूर्व जिलाध्यक्ष भानुप्रताप सिंह राजावत ने कहा कि प्रचीन समय से मेलों के आयोजन का उद्देश्य लोगों से आपसी मेल जोल बढाना तथा पशुधन को बढ़ावा देना था। लेकिन वैज्ञानिक तरीके से कृषि कार्य होने के कारण आज पशुधन की संख्या में गिरावट आ रही हंै। इसलिए हमें कृषि व पशुधन दोनों को बचाने के लिए कारगर कदम उठाने होगें। वही मेले में रहट, सर्कस, झूला, जादूगर जैसे मनोरंजन के साधन भी आए हैं। ईओ नटवर बसवाल ने मेले का प्रतिवेदन प्रस्तुत करने के बाद नगर पालिका के सहयोग से मेहंदी, मटका दौड, चम्मच दौड, रंगोली, साफा बांध, रस्साकशी की प्रतियोगिता व भजन जिकडी, कुश्ती दंगल, कवि सम्मेलन, नौटंकी, रसिया, ढोला गायन जैसे कार्यक्रमों के बारे में बताया। मेला कमेटी की ओर से अतिथियों का साफा बांधा व माला पहनाकर एवं स्मृति चिंह भेंटकर स्वागत किया। इससे पूर्व आचार्य नेमीचंद शर्मा ने विधि विधान से पूजा करायी तथा अतिथियों के तिलक लगाकर कलावा बांधा। मुख्य अतिथि ने ध्वजारोहण कर सशस्त्र पुलिस गार्ड की सलामी लेकर मेले के उद्घाटन की घोषणा की। मेले में आज सुबह 10 बजे से प्रजापिता बह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय की ओर से चैतन्य झांकियों की प्रदर्शनी लगाकर योग शिक्षा का कार्यक्रम होगा। 26 को चलचित्र प्रदर्शनी, 27 को महिलाओँ व बालिकाओं की रंगोली व मेहंदी प्रतियोगिता, 28 को दिन में पुरूषों की लंबी कूद व रात को नृत्य प्रतियोगिता, 30 को दोपहर तीन बजे से कुश्ती दंगल व शाम 7 बजे से भजन जिकडी, 31 को भजन जिकडी का समापन, एक फरवरी को सुबह 10 बजे से महिलाओं की मटका व बच्चों की चम्मच दौड़, 2 को सुबह 10 बजे से आर्य समाज का कार्यक्रम व रात 8 बजे से रासलीला, 4 को सुबह 11 बजे से कर्मचारियों की रस्साकशी प्रतियोगिता व रात 9 बजे से धर्मपाल की नौटंकी, 5 को सुबह 11 बजे से साफा बांध प्रतियोगिता व रात 9 बजे से कवि सम्मेलन, 6 को दोपहर 1 बजे से पशु प्रतियोगिता व रात में हरीराम का ढोला गायन होगा तथा 7 फरवरी को नगरपालिका अध्यक्ष बवीता खितौलीया की अध्यक्षता में पुरस्कार वितरण समारोह व मेले का समापन होगा।

रूपवास. कस्बे के मेला मैदान में पूजा अर्चना कर मेले का उद्घाटन करते अतिथिगण।

X
Rupbas News - rajasthan news livestock is coming down due to scientific farming science
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना