पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Deeg News Rajasthan News Prisoner Injured In Deeg Jail Accused Of Demanding Money On Personnel

डीग जेल में बंदी घायल, कर्मियों पर पैसे मांगने का लगाया आरोप

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

डीग सब जेल डीग में पिछले दो माह से सजा काट रहा एक बंदी शनिवार को शाम करीब 6 बजे घायल हो गया। इसके सिर में चोट आई। सूचना मिलने पर डीग पुलिस ने घायल बंदी का उपचार व मेडिकल कराया तथा बाद में उसे वापस जेल में छोड़ दिया। जानकारी के अनुसार सब जेल डीग में गांव बहज निवासी अरुण कुमार पुत्र रघुराज पिछले दो माह से अपराध की धारा हत्या के प्रयास, आर्म्स एक्ट आदि के मामले में बंद है। चौंकाने वाली बात ये है कि घायल बंदी ने जेल प्रशासन पर आरोप लगाया है कि जेल में बंदियों से पैसा मांगा जाता है। पैसा लेकर बंदियों को मोबाइल, नशीले पदार्थ आदि उपलब्ध कराए जाते हैं। अरुण कुमार का आरोप है कि उसने भी जेल में मोबाइल की उपलब्ध कराने की बात की। जिसके एवज में जेल प्रशासन के हैड बसीर ने 20 हजार रुपए की डिमांड की, कुछ दिन पूर्व मैंने 10 हजार रुपए दे दिए, बाकी के पैसे नहीं देने पर उन्होंने मेरे साथ मारपीट की और सिर फोड़ दिया। लेकिन इधर जब इस संबंध में सब जेल डीग के जेलर जगदीश शर्मा से बातचीत की तो उन्होंने कहा के जेल प्रशासन पर बंदी द्वारा लगाए गए आरोप निराधार हैं।

असल बात ये है कि शनिवार को बंदी अरुण की मां और भाई सुशील मुलाकात करने आए थे। परिजनों का कहना था कि आज अरुण का जन्म दिन है और वे उसे मिठाई खिलाना चाहते हैं। हमने उन्हें यह कहते हुए मिठाई खिलाने से मना कर दिया कि जेल में मिठाई प्रतिबंधित है। और मुलाकात इसलिए नहीं कराई कि कोरोना वायरस का कहर चल रहा है। इसलिए मुलाकात पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है। समझाइश के बाद बंदी के भाई और मां को वापस भेज दिया गया। लेकिन किसी तरह से यह जानकारी बंदी अरुण को लग गई। और वह जेल प्रशासन पर उखड़ गया। गाली गलौच और जान से मारने की धमकी देने लगा।

हमने उसे समझा बुझा कर बैरक में भेज दिया। लेकिन शाम का करीब पौने छह बजे उसने दीवार में सिर मारकर अपना सिर फोड़ लिया। जब इस बात की जानकारी हमें हुई तो थाना डीग को सूचना देकर बुलाया और उसका उपचार कराया। उल्लेखनीय है कि पूर्व में भी जेल में इस तरह के मामले सामने आ चुके हैं।

खबरें और भी हैं...