भागवत कथा में गोवर्धन पूजन का महत्व बताया

Bharatpur News - क्षेत्र के गांव कौंरेर के श्री ओंकारेश्वर महादेव मंदिर पर मंदिर प्रांगण में चल रही श्रीमद् भागवत कथा में कान्हा...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 09:30 AM IST
Kumher News - rajasthan news the importance of govardhan worship in bhagwat katha
क्षेत्र के गांव कौंरेर के श्री ओंकारेश्वर महादेव मंदिर पर मंदिर प्रांगण में चल रही श्रीमद् भागवत कथा में कान्हा जन्मोत्सव धूमधाम से मनाया गया। रासबिहारी सरन महाराज ने भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का वर्णन किया। उन्होंने कान्हा द्वारा पुतना के वध, वक्रासुर का वध व कंस द्वारा भेजे गए राक्षसों के वध की कथा सुनाई तथा कथा के दौरान गोवर्धन पूजन कराया तथा गिर्राज जी पूजन का महत्व बताया। भगवान इन राक्षसों के वध के रूप में इस धरा पर सभी बुराइयों के अंत का संदेश दिया। काम, क्रोध, मोह, ईर्ष्या व द्वेष सभी बुराइयां ही हैं, जिन्हें परमात्मा ने मिटाया है। कथावाचक रासबिहारी शरण द्वारा गाए गए भजनों पर सभी श्रद्धालु मंत्रमुग्ध होकर झूमने पर मजबूर हुए।

इसी प्रकार गांव सैह में पंडित श्याम सुंदर शर्मा ने और बावैन में बाल व्यास कृष्णा प्रिया जू द्वारा भागवत कथा में भगवान कृष्ण की माटी खाने व अपनी माता यशोदा को समस्त ब्रह्मांड का दर्शन करवाने की बाल लीलाओं का प्रसंग सुनाया। विभिन्न कलाकारों ने भगवान शंकर व पार्वती की बहुत सी मनमोहिनी झांकी प्रस्तुत की। पंडित श्याम सुंदर ने भगवान कृष्ण द्वारा गऊओं की सेवा, गऊचरण व कालिया सर्प को नयने की कथा भी सुनाई। पंडित ने भगवान कृष्ण द्वारा बार-बार इस धरां पर उत्पन्न बुराइयों का संहार करने की कथा सुनाई और संदेश दिया कि अगर हम सच्चे दिल व पवित्र हृदय से भगवान पर विश्वास करते हैं, तो पालनहार हर संकट में प्राणी मात्र की रक्षा के लिए तत्पर रहता है।

कुम्हेर. बावैन में भागवत कथा सुनाती बाल व्यास।

X
Kumher News - rajasthan news the importance of govardhan worship in bhagwat katha
COMMENT