दैनिक भास्कर से विशेष अनुबंध के तहत

Bharatpur News - दैनिक भास्कर से विशेष अनुबंध के तहत शिवकुमार उलगनाथन | लंदन वर्ल्ड कप-2019 के शुरुआती 15 दिन में ही चार मुकाबले...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 10:40 AM IST
Senth News - rajasthan news under special contract from dainik bhaskar
दैनिक भास्कर से विशेष अनुबंध के तहत

शिवकुमार उलगनाथन | लंदन

वर्ल्ड कप-2019 के शुरुआती 15 दिन में ही चार मुकाबले बारिश की वजह से धुल चुके हैं। इनमें से 4 मैच तो ऐसे रहे, जिनमें एक भी गेंद नहीं फेंकी जा सकी। इन मुकाबलों में गुरुवार का भारत-न्यूजीलैंड मैच भी शामिल रहा। अब तक किसी भी वर्ल्ड कप में बारिश से धुले मैचों की अधिकतम संख्या 2 थी। यह 1992 और 2003 वर्ल्ड कप में हुआ था। यानी बारिश से 4 मैच धुलने की वजह से 2019 वर्ल्ड कप अब रिकॉर्ड बुक में दर्ज हो चुका है। बारिश ने भारत के मैच से पहले टीम के प्रैक्टिस सेशंस को भी बुरी तरह प्रभावित किया था। आगे भी पूरे हफ्ते बारिश होने की संभावना है। मतलब ये हुआ कि 16 जून को मैनचेस्टर में पाकिस्तान के खिलाफ होने वाले मैच में भी खलल पड़ सकता है। दुनिया के इस हिस्से में बारिश सूरज की चमकती रोशनी के तुरंत बाद ही कुछ घंटों के लिए बूंदा-बांदी या तेज बौछार के रूप में होती है। लेकिन ये बारिश टूर्नामेंट के लिए अच्छा संकेत नहीं है।

बीते रविवार को ओवल में मैच देखने के लिए बाथ से लंदन पहुंचे सेंथिल कुमार कहते हैं- ‘मैच ना होने से निराशा तो होती है, लेकिन आप आयोजनकर्ताओं को इसके लिए दोषी नहीं ठहरा सकते। फिर भी मैं उम्मीद करता हूं कि कम से कम भारत के तो सभी मैच हो सकें। टीम अच्छी फॉर्म में है। एक-दो मैच और जीतकर टीम सेमीफाइनल में भी जगह बना लेगी। इस समय तो इंग्लैंड, वेस्टइंडीज के पास ही भारत को रोकने का थोड़ा सा मौका है।’ दरअसल आईसीसी ने तो टूर्नामेंट का शेड्यूल तय करने से पहले 5 साल की जून-जुलाई की वेदर रिपोर्ट भी देखी थी, पर इस साल सामान्य से ज्यादा बारिश हो गई और सारी गणित गड़बड़ा गई।

लगातार हो रही बारिश और इससे प्रभावित हुए मैचों ने वर्ल्ड कप के चढ़े बुखार को कम कर दिया है। एशियाइयों को छोड़कर टूर्नामेंट के बारे में कोई ज्यादा बात नहीं कर रहा है। भारत की तरह यहां लोग वर्ल्ड कप मैचों के लिए टीवी से चिपके नहीं रहते हैं। इंग्लैंड के अच्छे प्रदर्शन और खिताब जीतने के दावेदारों में से एक होने के बावजूद ब्रिटेन के लोगों के बीच टूर्नामेंट को लेकर ज्यादा उतावलापन नहीं है। इंग्लैंड के एक क्रिकेट प्रशंसक टेरी कहते हैं- ‘पिछले 2 दशकों में फुटबॉल यहां के युवाओं का सबसे पसंदीदा खेल रहा है। हां, लेकिन अगर इंग्लैंड यह खिताब जीत लेता है या टूर्नामेंट में बड़ा प्रभाव डालने में कामयाब रहता है तो इससे इस खेल को लेकर बड़े पैमाने पर बदलाव आ सकता है।’ वर्ल्ड कप को लेकर जो थोड़ा-बहुत माहौल बना भी था, उसे बारिश ने खराब कर दिया। यही वजह है कि वहां इंग्लैंड के क्रिकेट मैच (5 लाख व्यू) से ज्यादा व्यू महिला फुटबॉल मैच (करीब साढ़े 6 लाख व्यू) को मिल रहे हैं।

आईसीसी ने 5 साल की वेदर रिपोर्ट देखी थी, इस बार ज्यादा बारिश हो गई

एशियाई फैंस बारिश से निराश, पर उत्साह बरकरार; इंग्लिश फैंस में वर्ल्ड कप का जो थोड़ा-बहुत उत्साह था, वो भी खत्म

भारत-न्यूजीलैंड मैच के लिए भी काफी भारतीय फैंस आए थे, पर निराश हुए।

X
Senth News - rajasthan news under special contract from dainik bhaskar
COMMENT