• Home
  • Rajasthan News
  • Bharatpur News
  • Bharatpur - कॉलोनी में कभी 20 बीघा जमीन थी, इसलिए लोगों को बरसाती पानी से लाने-ले जाने में करते हैं मदद
--Advertisement--

कॉलोनी में कभी 20 बीघा जमीन थी, इसलिए लोगों को बरसाती पानी से लाने-ले जाने में करते हैं मदद

शहर की 30 से ज्यादा कॉलोनियों में पिछले डेढ़-दो महीने से पानी भरा है। हालांकि कुछ कॉलोनियों में हालांकि पानी उतरने...

Danik Bhaskar | Sep 12, 2018, 04:20 AM IST
शहर की 30 से ज्यादा कॉलोनियों में पिछले डेढ़-दो महीने से पानी भरा है। हालांकि कुछ कॉलोनियों में हालांकि पानी उतरने लगा है, लेकिन कुछ कॉलोनियों के लोग अभी भी बरसाती पानी से परेशान हैं। गिरीश विहार कॉलोनी के लोगों ने पिछले दिनों जिला कलेक्टर से मिलकर बरसाती पानी निकलवाने की मांग भी की थी। वहां अभी भी करीब दो फुट पानी भरा हुआ है। लेकिन, जिला प्रशासन ने तो उनकी सुनी नहीं। ऐसे में दो स्थानीय लोग सामने आए। ये अपने ट्रैक्टर-ट्रॉली के जरिए कॉलोनी के लोगों की बाहर तक आने-जाने में नि:शुल्क मदद कर रहे हैं। जी हां, ये हैं पप्पू सैन छतरी वाले और मनीष शर्मा बजरी वाले। ये दोनों लोग खुद अथवा उनका कोई प्रतिनिधि कॉलोनी के लोगों को मुख्य रास्ते से उनके घरों तक पहुंचाने का कार्य कर रहे हैं। सुबह 7 से रात्रि 8 बजे तक दोनों ट्रैक्टर ट्रॉलियां करीब 10-10 चक्कर लगाती हैं।

इनमें से एक पप्पू सैन ने बताया कि उनकी इस कॉलोनी में करीब 20 बीघा भूमि थी जिसे एक व्यक्ति को बेच दिया। इसके बाद कई प्लॉट कट गए। भूमि से लगाव होने के नाते उनका जुड़ाव कॉलोनी वासियों से भी हो गया। यहां के लोगों को वे परिवार की तरह मानते हैं। यही वजह है कि वे अपने खर्चे पर ट्रैक्टर-ट्रॉली से इन लोगों की सेवा कर रहे हैं। कॉलोनी में आने-जाने का एक फेरा लगाने पर करीब 75 रुपए का डीजल खर्च होता है। जबकि अन्य खर्चे अलग हैं। भास्कर संवाददाता ने मंगलवार को गिरीश विहार कॉलोनी में जाकर देखा कि करीब 150 घर अभी भी पानी से घिरे हैं। कई घरों में दरारें आई हैं। जहरीले जीव-जंतु घरों में घुस रहे हैं। मकानों के आगे किया गया प्लांटेशन चौपट हो चुका है। कई लोग पानी में गिरकर चोटिल भी हो चुके हैं। पानी निकासी नहीं होने की वजह से कई लोग पलायन कर चुके हैं।

भरतपुर। गिरीश विहार कॉलोनी में भरे बारिश के पानी के कारण लोगों को ट्रैक्टर ट्रॉली निकालते समाजसेवी।

इन कॉलोनियों में अभी भी भरा है बरसाती पानी:

विजय नगर, रुधिया नगर, तिलक नगर, अशोक विहार, श्यामा प्रसाद मुखर्जी नगर समेत कई कॉलोनियों में अभी भी बरसाती पानी भरा है। इन कॉलोनियों के लोगों का कहना है कि बरसाती पानी की निकासी के लिए जिला प्रशासन हर साल लाखों रुपए खर्च करता है। लेकिन, उनकी कॉलोनी से पानी की निकासी नहीं कराई जा रही है।