Hindi News »Rajasthan »Bhawani Mandi» डूब विस्थापितों को मकान बनाने के लिए मिलेंगे न्यूनतम पांच लाख रुपए

डूब विस्थापितों को मकान बनाने के लिए मिलेंगे न्यूनतम पांच लाख रुपए

राजगढ़ सिंचाई बांध डूब क्षेत्र के विस्थापितों को पुनर्वास काॅलोनी में भूखंड देने के लिए मंगलवार को भी लाॅटरी...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 21, 2018, 02:05 AM IST

राजगढ़ सिंचाई बांध डूब क्षेत्र के विस्थापितों को पुनर्वास काॅलोनी में भूखंड देने के लिए मंगलवार को भी लाॅटरी निकाली गई। इसमें किसान के नाम की पर्चियों को एक बाल्टी में डालकर निकाला गया।

जिस किसान के जो नंबर आया, उससे उस पर्ची पर साइन करवाकर लाॅटरी की कार्रवाई पूरी की गई। प्रभावितों को 30 गुणित 60 फीट का भूखंड दिया जाएगा। आंवटन की कारवाई पूर्ण होने पर मकान निर्माण अनुदान के रूप में 5-5 लाख रुपए का अनुदान दिया जाएगा। जल संसाधन विभाग परिसर में मंगलवार को कोचरियाखेड़ी गांव के 165 परिवारों को झीकड़िया में बसाने के लिए लॉटरी निकाली गई थी। इसके बाद अब 22 फरवरी को धतुरियाकलां के शेष रहे ग्रामीणों को पूरा काॅलोनी में बसाने के लिए लाॅटरी निकाली जाएगी। लाॅटरी निकालने के दौरान एसडीमए राकेश मीणा, एक्सईएन अजय कुमार त्यागी, डीएसपी वैभव शर्मा एईएन राजीव विजय, शशी चतुर्वेदी, आरके गुप्ता आदि मौजूद थे।

840 विस्थापितों की काॅलोनियों में विकसित होंगी सुविधाएं

राजगढ़ डूब प्रभावितों का विभिन्न जगह पुनर्वास किया गया है। इनकी काॅलोनियोें सुविधाओें का विकास भी किया जाएगा। झीकड़िया काॅलोनी में अभी तक स्कूल, आंगनबाड़ी ओर शौचालय तथा ग्रेवल रोड बनाया जा चुका है। इसी तरह अरनियाखेड़ी में स्कूल भवन बनाया जा रहा है, सार्वजनिक शौचालय बना दिया गया है और ग्रेवल सड़क बनाई गई है। झीकड़िया और मिश्रौली पुनर्वास काॅलोनी में नाली, सड़क निर्माण के प्रस्ताव तैयार किए गए हैं। एक अन्य पूरा काॅलोनी में अभी सुविधाओं का विकास नहीं हुआ है। यहां पर रोड और व अन्य सुविधाओं के लिए 1.40 करोड़ रु़पए के प्रस्ताव बनाए गए है। उधर किसान संघ नेता रोडसिंह ने बताया कि पूरा काॅलोनी में अभी संपूर्ण सुविधाओं का विकास नहीं किया गया। वहां पर पास के स्कूल की सुविधा उठाने के लिए कहा जा रहा है, लेकिन यह करीब दो किमी दूर है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bhawani Mandi

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×