• Home
  • Rajasthan News
  • Bhawani Mandi News
  • छह माह की बच्ची को आईसीयू में छोड़कर 12वीं का पेपर देने गई पूजा
--Advertisement--

छह माह की बच्ची को आईसीयू में छोड़कर 12वीं का पेपर देने गई पूजा

बच्ची को जन्म देने के छह दिन बाद महिला मंगलवार को उसे आईसीयू में छोड़कर बोर्ड का पेपर देने के लिए पहुंच गई। वहां से...

Danik Bhaskar | Mar 28, 2018, 02:05 AM IST
बच्ची को जन्म देने के छह दिन बाद महिला मंगलवार को उसे आईसीयू में छोड़कर बोर्ड का पेपर देने के लिए पहुंच गई। वहां से लौटने के बाद उसने बच्ची को संभाला। महिला पूजा (20) पुत्री हरीश नागर का शिक्षा के प्रति समर्पण देख लोग उसकी तारीफ किए बिना नहीं रह सके।

6 दिन पहले ही उसने एक कन्या को जन्म दिया। मंगलवार को हिंदी साहित्य का पेपर था। पेपर छोड़ने का मतलब एक साल बिगड़ना। वह भला उसे कैसे छोड़ती, लेकिन इधर मां की ममता उसे नवजात से दूर नहीं होने की ताकीद कर रही थी,लेकिन उसने दोनों का मान रखा। पढ़ाई को महत्वपूर्ण माना। कुछ देर अपनी बच्ची को अस्पताल के आईसीयू में छोड़, परीक्षा देने आ गई। जवाहर कॉॅलोनी निवासी उसके दादा भंवरलाल नागर ने बताया कि पूजा गर्ल्स सीनियर हायर सैकंडरी स्कूल में पढ़ाई कर रही थी। तभी उसका खामणी गांव निवासी धीरज नागर से विवाह हो गया। इसी 8 मार्च से उसकी कक्षा 12वीं परीक्षा शुरू हुई। इस दौरान वह गर्भवती थी। 20 मार्च को उसने एक कन्या को जन्म दिया। बच्ची चिकित्सकीय कारणों से आईसीयू में रखनी पड़ी। मंगलवार हिंदी साहित्य का पेपर था। वह अपनी बच्ची को अस्पताल छोड़, अपनी मां के साथ एक वाहन से परीक्षा देने आ गई। परीक्षा के बाद वापस अस्पताल पहुंच गई थी।

परीक्षा देकर अच्छा लगा

अस्पताल में भर्ती पूजा बोली-शिक्षा तो शिक्षा है, पेपर देकर अच्छा लगा। उसने कहा कि वह अपनी पढ़ाई पूरी करके नौकरी करना चाहती है। पेपर छूट जाने पर एक साल बिगड़ जाता। उसने बताया कि पेपर देते समय उसका सारा ध्यान परीक्षा में ही रहा, लेकिन वह ज्योंही अस्पताल आई, सबसे पहले उसने अपनी बेटी का संभाला।