• Home
  • Rajasthan News
  • Bhawani Mandi News
  • गंदे नाले को बांध में मिलने से रोकने को सीवरेज प्लांट जरूरी, कौन बनवाएगा-सभी जिम्मेदार मौन
--Advertisement--

गंदे नाले को बांध में मिलने से रोकने को सीवरेज प्लांट जरूरी, कौन बनवाएगा-सभी जिम्मेदार मौन

आरटीएम में दूषित पानी पीने से बीमार हुए 16 श्रमिक और भवानीमंडी के पेयजल स्त्रोत पिपलाद बांध में मिल रहे गंदे नाले को...

Danik Bhaskar | Feb 02, 2018, 02:10 AM IST
आरटीएम में दूषित पानी पीने से बीमार हुए 16 श्रमिक और भवानीमंडी के पेयजल स्त्रोत पिपलाद बांध में मिल रहे गंदे नाले को लेकर गुरुवार को एडीआरएम भवानीसिंह पालावत के नेतृत्व में अधिकारियों ने आरटीएम के पेयजल संयंत्र एवं अस्पताल में भर्ती बीमार और पेयजल स्त्रोत पिपलाद बांध में मिल रहे गंदे नाले की स्थिति की जानकारी ली।

जिसमें मुख्य रूप से आरटीएम को आस-पास के कुओं से लिए जा रहे पानी का रसायनिक उपचार करने की कहा गया। आरटीएम के पानी रसायन अपशिष्ट शुद्धिकरण संयंत्र का भी जायजा लिया। आरटीएम का कहना था कि वह बिल्कुल भी बाहर पानी नहीं छोड़ रहा। इस पर आरटीएम के बाहर रामटी पुलिया के यहां रपट पर मिट्टी बेग रखकर पानी को वहीं पर रोकने की कहा गया है।

गंदा नाला नहीं मिलना चाहिए, लेकिन ट्रीटमेंट प्लांट को नगर पालिका बनाए: जलदाय विभाग: गंदे नाले को पिपलाद बांध में मिलने से रोकने के लिए तीन पक्ष जलदाय विभाग, नगर पालिका और आरटीएम की जिम्मेदारी है। आरटीएम अपना रसायनिक अपशिष्ट पानी शुद्धिकरण संयंत्र लगाकर खुद को इस जिम्मेदारी से अलग कर चुका है। जलदाय विभाग इसे नगर पालिका की जिम्मेदारी बता रहा है। नगर पालिका का कहना है कि वह मौका देखकर कार्रवाई करेंगे। जलदाय विभाग के एक्सईएन अशोक कुमार कुंभट ने एडीआरएम को गंदे नाले के बहाव क्षेत्र में बांडियाबाग और बाईपास के पास की स्थिति दिखलाई। इसमें दोनों जगह पानी दूरी पर दिखा। कुंभट का कहना था कि हम पिपलाद पेयजल स्त्रोत से पानी को शुद्ध करके देते है। लेकिन फिर भी शहर का गंदा नाला पिपलाद बांध में नहीं मिलना चाहिए। इसके लिए नगर पालिका जिम्मेदार है। पूर्व में पीडब्ल्यूडी ने उसे इस पर रोक के लिए करीब 4 करोड़ रुपए लागत से सीवरेज एवं ट्रीटमेंट प्लांट लगाने के लिए इस्टीमेट बनाकर दिया था। वह उसे मंजूर करवाए और कार्य करवाए। नगर पालिका का कहना है कि वह मौका देखकर कार्रवाई करेंगे।

भवानीमंडी. आरटीएम के प्लांट का अवलोकन करते अधिकारी।

ये अधिकारी भी रहे मौजूद

एडीआरएम के साथ एसडीएम राकेश मीणा, जल संसाधन विभाग एसई, एक्सईएन डीएन शर्मा, एईएन आजाद कुमार जैन आदि भी साथ थे। उन्होंने आरटीएम में कार्यकारी अध्यक्ष एसएस माहेश्वरी आदि से संयंत्रों की जानकारी ली।