• Hindi News
  • Rajasthan
  • Bhawani Mandi
  • पटवारी गिरदावरी रिपोर्ट नहीं दे रहे, फिर भी भवानीमंडी तौल कांटे पर पंजीयन फुल
--Advertisement--

पटवारी गिरदावरी रिपोर्ट नहीं दे रहे, फिर भी भवानीमंडी तौल कांटे पर पंजीयन फुल

सरकारी समर्थन मूल्य पर भवानीमंडी में चना तुलाई केंद्र पर 9 दिन में ही चना तुलाई फुल हो गई है। 15 मार्च से चना तुलाई...

Dainik Bhaskar

Mar 29, 2018, 02:15 AM IST
पटवारी गिरदावरी रिपोर्ट नहीं दे रहे, फिर भी भवानीमंडी तौल कांटे पर पंजीयन फुल
सरकारी समर्थन मूल्य पर भवानीमंडी में चना तुलाई केंद्र पर 9 दिन में ही चना तुलाई फुल हो गई है। 15 मार्च से चना तुलाई शुरू हुई और 24 मार्च से ही इस पर नया पंजीयन यह कहते हुए बंद हो गया है कि यह तौल केंद्र आगे तुलाई में सक्षम नहीं है। भवानीमंडी में 15 मार्च से बुधवार तक 2800 क्विंटल चने की तुलाई हो चुकी है। किसान बता रहे है कि 24 तारीख से ही नया पंजीयन नहीं हो रहा है। ध्यान रहे कि भवानीमंडी में 24 पटवार हलकों में से 9 पटवार हलकों के पटवारी नहीं होने से उनके बस्ते तहसील कार्यालय में रखे हुए है। उनकी गिरदावरी रिपोर्ट नहीं मिल पा रही है।

ऐसे में तुलाई शुरू होने के महज 9 दिन बाद ही केवल 15 पटवार हलकों से ही पंजीयन फुल हो जाना और नया पंजीयन नहीं होना कई तरह के सवाल खड़े कर रहा है। वर्तमान में खुले बाजार में चने के भाव करीब 3300 रुपए प्रति क्विंटल है, जबकि सरकारी समर्थन मूल्य पर 4400 रुपए क्विंटल में गेहूं तौले जा रहे है। एक हजार रुपए का अंतर होने से कई तरह के बिचौलिए भी सक्रिय हो गए है। जिला परिषद सदस्य सुदीप सालेचा, ईश्वरसिंह खारपा आदि ने जरा से समय में ही तौल केंद्र पर नया पंजीयन बंद हो जाने पर आश्चर्य जताया है। तौल केंद्र प्रभारी ललित कुमार ने बताया कि किसान बता रहे है कि तौल केंद्र के लिए नया पंजीयन नहीं हो रहा है।

भवानीमंडी. सरकारी तौल कांटें पर चना तुलाई का नया पंजीयन बंद हो गया। तौल कांटे पर तुलने आए चने।

अकलेरा में समर्थन मूल्यों पर चने की खरीद शुरू

अकलेरा. कृषि उपज मंडी में सहकारी समिति की ओर से समर्थन मूल्यों पर चने की खरीद का केंद्र बुधवार से शुरू हो गया। समर्थन मूल्यों पर सरसों, गेहूं, चना की खरीद का काम अब एक ही स्थान पर शुरू हो चुका है। केंद्र प्रभारी राजूलाल मीना ने बताया कि समर्थन मूल्यों पर खरीद के लिए किसानों को ऑनलाइन पंजीकरण कराना होगा। उसके बाद किसानों की कृषि जिंस की खरीद की जाएगी। अकलेरा सहित 6 क्रय-विक्रय सहकारी समितियों पर समर्थन मूल्यों पर खरीद का काम शुरू हो चुका है। सहकारी समिति की ओर से 1 पखवाड़े पहले सरसों की खरीद शुरू हो गई है। सरसों का समर्थन मूल्य 4 हजार रुपए एवं चने का 4400 रुपए वहीं गेहूं का समर्थन मूल्य 1735 रुपए निर्धारित किया गया है। किसानों को पंजीकरण के लिए भामाशाह, आधार कार्ड गिरदावरी लाना होगा। इसमें फसल का रकबा अंकित होना चाहिए। पंजीकरण के लिए किसान की कृषि भूमि उसी क्षेत्र में होना आवश्यक है। केंद्र के शुभारंभ पर प्रबंध निदेशक रविंद्र कुमार पुरोहित, व्यवस्थापक सत्यनारायण शर्मा मौजूद रहे।

अभी नहीं आया ऋण माफी का आदेश

किसानों का 50 हजार रुपए तक का सहकारी कर्ज माफ करने की घोषणा का अभी तक आदेश नहीं आया है। हालांकि भवानीमंडी जेकेएसबी शाखा ने सभी समितियों के बकायादारों की सूची मुख्यालय भिजवा दी है। उधर, किसानों का जीरो प्रतिशत ब्याज का लाभ पाने के लिए अपना सहकारी कर्ज 31 मार्च तक जमा करवाना होता है। कर्ज माफी की आस में अभी तक 90 प्रतिशत किसानों ने अपना कर्ज जमा नहीं करवाया है। 31 मार्च के बाद इस पर कॉमर्शियल 14 प्रतिशत ब्याज देय हो जाता है। जेकेएसबी प्रबंधक अभिषेक तंवर ने बताया कि किसानों का कर्ज माफी का आदेश आने पर आगे वह राशि इनके बचत खाते में जमा हो जाएगी।

X
पटवारी गिरदावरी रिपोर्ट नहीं दे रहे, फिर भी भवानीमंडी तौल कांटे पर पंजीयन फुल
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..