--Advertisement--

अभी कैंसर, शुगर और हृदयरोग से लड़ना है: जीनत

दिवंगत सर जीके नून कहा करते थे कि मेरे लिए अस्पताल और स्कूल ही मंदिर मस्जिद है। उनके इसी मानवता वादी आदर्श की...

Danik Bhaskar | Mar 08, 2018, 02:20 AM IST
दिवंगत सर जीके नून कहा करते थे कि मेरे लिए अस्पताल और स्कूल ही मंदिर मस्जिद है। उनके इसी मानवता वादी आदर्श की परिणति करीब 10 साल पहले भवानीमंडी में जन सेवार्थ नून हॉस्पिटल के रूप में सामने आई थी। नून अब इस दुनिया में नहीं है, लेकिन उनकी बेटी जीनत नून हरनाल ने पिता के इन्हीं उच्चतम आदर्शों का अनुसरण करते हुए अस्पताल में आंखों की नई केरी विंग बनवाकर उसका लोकार्पण करवाकर, नून के सेवा कार्य को नई ऊंचाई प्रदान कर दी। ये कदम यही नहीं रुके, इसके लिए आगे शुगर, हृदय रोग, कैंसर को रोकने की चिकित्सा व्यवस्था भी विकसित करने की उन्होंने इच्छा जाहिर कर दी।

उन्होंने कहा कि ये सभी कार्य आप सबके सहयोग से साकार करने है, लेकिन यह समुचित साधन व धन की उपलब्धता पर निर्भर है। जनता के विश्वास और केरी ग्रुप की उदारता से इसका मार्ग भी प्रशस्त होगा। वे जब संबोधन कर रही थी, तो कैंसर का जिक्र आते ही उन्हें उनके पिता नून की याद आते ही आंखें भर आई। केरी ग्रुप के सहयोग से ही अस्पताल में आंखों की अत्याधुनिक आई विंग का सपना साकार हो सका। इस अवसर पर कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मेवाड़ के पूर्व राणा अरविंंदसिंह ने जीनत नून हरनाल को आशीर्वाद प्रदान किया। केरी ग्रुप के सीईओ डंकन एवर्ड ने दिवंगत नून से जुड़ी अपनी यादों का जिक्र किया। सांसद दुष्यंतसिंह ने इस अवसर पर भामाशाह व केंद्र सरकार की चिकित्सा की मोदी केयर योजना का जिक्र किया। ब्रिटेन के लाॅर्ड कमलेश ने कहा कि 5 साल पहले वे यहां आए तो आंखों के रोजाना 100 तक रोगी आने लगे। तब आई विंग का विचार बना। डंकन के सहयोग से यह संभव हो सका। कार्यक्रम में पेट्रीयट व अन्य कई गणमान्य मौजूद थे। इस अवसर पर अतिथियों को स्मृति चिन्ह प्रदान किए गए। इस अवसर पर कलेक्टर जितेंद्र कुमार सोनी व अन्य कई गणमान्य मौजूद थे। कार्यक्रम का एडवोकेट ईश्वरचंद भटनागर ने संचालन किया।

भवानीमंडी. पूर्व महाराणा अरविंदसिंह जीनत का सम्मान करते हुए।

भवानीमंडी. सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करतीं महिला कलाकार।