• Home
  • Rajasthan News
  • Bhawani Mandi News
  • कांग्रेस पार्षदों ने बोर्ड से खर्च का ब्यौरा मांगा नहीं दिया तो हंगामा, 5 मिनट में बजट पास
--Advertisement--

कांग्रेस पार्षदों ने बोर्ड से खर्च का ब्यौरा मांगा नहीं दिया तो हंगामा, 5 मिनट में बजट पास

नगर पालिका बोर्ड की एक सूत्रीय एजेंडे को लेकर गुरुवार को बैठक हुई। इसमें 47 करोड़ रुपए का वार्षिक बजट सर्वसम्मति से...

Danik Bhaskar | Feb 16, 2018, 02:25 AM IST
नगर पालिका बोर्ड की एक सूत्रीय एजेंडे को लेकर गुरुवार को बैठक हुई। इसमें 47 करोड़ रुपए का वार्षिक बजट सर्वसम्मति से पारित कर बैठक समाप्ति की घोषणा कर दी गई। कांग्रेस पार्षदों ने आय-व्यय का विस्तृत विवरण मांगा, नहीं बताने पर बैठक में जोरदार हंगामा खड़ा हो गया। कांग्रेस पार्षदों के विरोध में सुर मिलाने में भाजपा की पार्षद भी खड़ी हो गई। हंगामे के बाद सभी कांग्रेसी पार्षद नगरपालिका परिसर के बाहर धरने पर बैठ गए, नारेबाजी की।

बैठक गुरुवार को दोपहर 3 बजे नगरपालिका सभागार में हुई। इसमें विधायक व 4 सहवरित पार्षद, कुल 35 में से 31 पार्षदों की उपस्थिति रही। सर्वप्रथम नगरपालिका अध्यक्ष पिंकी गुर्जर ने बैठक शुरू करने की अनुमति दी। ईओ मनीष मीणा ने वर्ष 2018-19 के लिए अनुमानित आय 4720.06 करोड़ व व्यय 4452.51 करोड़ बताया।

उपाध्यक्ष विनय पोरवाल ने बजट प्रस्ताव पढ़कर सुनाया व सर्वसम्मति से इसके पारित होने की घोषणा के साथ ही 5 मिनट के भीतर बैठक समाप्ति की घोषणा कर दी। इस पर कांग्रेस पार्षदों हरीश राठौड़, विनय आस्तोलिया ने हंगामा खड़ा कर दिया। उनकी मांग थी की आय-व्यय की जानकारी दी जाए।

बोर्ड के खिलाफ यूं जताया विरोध

भवानीमंडी. पालिका के बाहर धरने पर बैठे कांग्रेस पार्षद व कार्यकर्ता।

भास्कर न्यूज | भवानीमंडी

नगर पालिका बोर्ड की एक सूत्रीय एजेंडे को लेकर गुरुवार को बैठक हुई। इसमें 47 करोड़ रुपए का वार्षिक बजट सर्वसम्मति से पारित कर बैठक समाप्ति की घोषणा कर दी गई। कांग्रेस पार्षदों ने आय-व्यय का विस्तृत विवरण मांगा, नहीं बताने पर बैठक में जोरदार हंगामा खड़ा हो गया। कांग्रेस पार्षदों के विरोध में सुर मिलाने में भाजपा की पार्षद भी खड़ी हो गई। हंगामे के बाद सभी कांग्रेसी पार्षद नगरपालिका परिसर के बाहर धरने पर बैठ गए, नारेबाजी की।

बैठक गुरुवार को दोपहर 3 बजे नगरपालिका सभागार में हुई। इसमें विधायक व 4 सहवरित पार्षद, कुल 35 में से 31 पार्षदों की उपस्थिति रही। सर्वप्रथम नगरपालिका अध्यक्ष पिंकी गुर्जर ने बैठक शुरू करने की अनुमति दी। ईओ मनीष मीणा ने वर्ष 2018-19 के लिए अनुमानित आय 4720.06 करोड़ व व्यय 4452.51 करोड़ बताया।

उपाध्यक्ष विनय पोरवाल ने बजट प्रस्ताव पढ़कर सुनाया व सर्वसम्मति से इसके पारित होने की घोषणा के साथ ही 5 मिनट के भीतर बैठक समाप्ति की घोषणा कर दी। इस पर कांग्रेस पार्षदों हरीश राठौड़, विनय आस्तोलिया ने हंगामा खड़ा कर दिया। उनकी मांग थी की आय-व्यय की जानकारी दी जाए।

अपने ही बरसे बोर्ड पर

भाजपा पार्षद प्रतिनिधि बृजमोहन धारीवाल व संतोष मराठा ने अपने ही बोर्ड का विरोध करते हुए कहा कि उनके वार्ड विकास को तरस रहे हैं। हमें वार्डवासियों के सामने जाने में शर्म आती है। कई बार विकास कार्य कराने के लिए कहा, लेकिन भाजपा बोर्ड उनकी सुनता ही नहीं। पालिका अध्यक्ष व उपाध्यक्ष ने कहा कि सभी वार्डों में बराबर विकास कार्य करवाए जा रहे हैं। बजट बैठक को पांच मिनट में समाप्त करने पर कांग्रेस पार्षदों के अलावा भाजपा पार्षद, पार्षद प्रतिनिधियों ने विरोध जताया। कांग्रेस नेता प्रतिपक्ष हरीश राठौर व भाजपा पार्षद शिल्पा मिरोलिया का आरोप था कि बजट बोर्ड बैठक को मात्र 5 मिनट में समाप्त कर दिया गया, जबकि इस बजट में शहर में कोई विकास होता नजर नहीं आ रहा है। वहीं पार्षद विनय आस्तोलिया ने विनाशकारी बजट कहते हुए इससे विकास नहीं होगा।

कांग्रेसी बोले-अपने सदस्य ही खोल रहे भाजपा की पोल

कांग्रेस पार्षदों के वार्डों में विकास कार्य नहीं कराए जाने की बात, जब बजट बैठक में नहीं सुनी गई तो सभी पार्षद नगर पालिका परिसर के बाहर आ गए एवं सांकेतिक धरने पर बैठ गए और राज्य सरकार, पालिका प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। इस दौरान नेता प्रतिपक्ष हरीश राठौर ने कहा कि शहर में भाजपा बोर्ड कितना विकास कार्य करवा रहा है, इसकी पोल भाजपा पार्षद ही खोल रहे हैं। उनको उनके वार्डों में जाने में शर्म महसूस हो रही है। इसी से समझा जा सकता है कि भाजपा बोर्ड विकास कार्यों में कितना भेदभाव कर रही है। धरने पर शहर कांग्रेस अध्यक्ष कालूलाल सालेचा, पूर्व पालिका अध्यक्ष कैलाश बोहरा, युवक कांग्रेस अध्यक्ष मुकेश प्रजापति, एससी प्रकोष्ठ के प्रदेश मंत्री दुर्गाशंकर ठेकेदार, पार्षद विजय लक्ष्मी सालेचा, दिनेश यादव आदि बैठे।