Hindi News »Rajasthan »Bhawani Mandi» भवानीमंडी में रीको को विस्तार के लिए नहीं मिल रही है जमीन

भवानीमंडी में रीको को विस्तार के लिए नहीं मिल रही है जमीन

भवानीमंडी शहर का लघु उद्योग विस्तार ठहर सा गया है। नई फैक्ट्रियां रीको एरिये में लगाई जा सकती हैं, लेकिन वहां पर नई...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 05, 2018, 02:30 AM IST

भवानीमंडी शहर का लघु उद्योग विस्तार ठहर सा गया है। नई फैक्ट्रियां रीको एरिये में लगाई जा सकती हैं, लेकिन वहां पर नई फैक्ट्रियों के लिए जगह ही नहीं बची है। रीको के क्षेत्रीय कार्यवाहक प्रबंधक विक्रमादित्य मोढ़ ने बताया कि रीको के लिए नई जमीन मिल नहीं रही है। चारागाह भूमि मिलती है तो उसके बदले में उतनी ही जमीन उपलब्ध करवानी पड़ती है। यह भी नहीं हो रहा है। निजी जमीन की अवाप्ति करो तो नए नियमों में अधिग्रहण करना भी मुश्किल हो रहा है।

सफेदा ने खड़ी की परेशानी, हादसे का खतरा भी: स्थानीय रीको इंडस्ट्रीज एरिये को विस्तार की दरकार है। लेकिन कोटा स्टोन फैक्ट्री मालिकों ने सड़क किनारे खाली पड़ी जमीन पर घिसाई से निकला सफेदा (सिल्ट) डालना शुरू कर दिया है। जो सड़क किनारे तक फैल गया और उड़कर आस-पास की फैक्ट्री मालिकों के लिए परेशानी का सबब बना हुआ है। पिछले दिनों रीको प्रशासन ने इस सिल्ट को डालने के लिए गोशाला में बने गड्ढे को भरने के लिए वहां पर डंपिंग यार्ड बना दिया था। सभी फैक्ट्री मालिकों से अपने यहां से निकले सफेदा को गोशाला में डलवाने को कहा था, लेकिन फैक्ट्री मालिकों ने गोशाला तक की दूरी अधिक पड़ने की बात कहते हुए सफेदा रीको क्षेत्र में एकदम मेगा हाइवे किनारे ही फेंकना जारी रखा। उधर, यह सफेदा फैलकर सड़क किनारे तक आ गया है। इसके साथ ही आस-पास के लोगों ने गुमटियां रखकर अतिक्रमण करना भी शुरू कर दिया है, जिससे इस जगह सड़क दुर्घटना का खतरा बढ़ गया है।

भवानीमंडी की समस्या

सड़क किनारे तक डाला सफेदा, गोशाला स्थित डंपिंग यार्ड का नहीं किया उपयोग

भवानीमंडी. सड़क किनारे तक डाला जा रहा कोटा स्टोन घिसाई का सफेदा।

सफेदा को गोशाला में डालने का निर्णय किया हुआ है। कोटा स्टोन फैक्ट्रियों को इसे वहीं पर डालने के लिए पाबंद किया गया है। ये वहां पर जाते ही नहीं है। -प्रदीप शर्मा, अध्यक्ष, स्माॅल स्केल इंडस्ट्रीज, भवानीमंडी।

कोटा स्टोन फैक्ट्रियों वालों को मीटिंग में कह रखा है। सबको लेटर भी लिखकर दे रखा है कि सफेदा गोशाला के डंपिंग यार्ड में ही डालें। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड इस मामले में बहुत सख्त है। पालना नहीं करेंगे तो कार्रवाई होगी। -विक्रमादित्य मोढ़, कार्यवाहक क्षेत्रीय प्रबंधक रीको, झालावाड़।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bhawani Mandi

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×