--Advertisement--

एक दिन में 614 प्रकरणों का निस्तारण

Bhawani Mandi News - राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण जयपुर के निर्देशानुसार अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण (जिला एवं सेशन...

Dainik Bhaskar

Feb 11, 2018, 02:35 AM IST
एक दिन में 614 प्रकरणों का निस्तारण
राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण जयपुर के निर्देशानुसार अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण (जिला एवं सेशन न्यायाधीश) झालावाड़ डॉ. राजेन्द्र सिंह चौधरी ने शनिवार को जिला कारागृह झालावाड़ में राज्य की पहली डिजिटलाइज्ड विधिक सेवा क्लिनिक के डिजिटलाइजेशन की प्रक्रिया का शुभारंभ किया।

इस डिजिटलाइज्ड विधिक सेवा क्लिनिक में कैदियों के रिकॉर्ड को डिजिटलाइज करने के साथ ही कैदियों के वकीलों का नाम भी संधारित किया जाएगा। ताकि कोई भी कैदी पैरवी से वंचित नहीं रहे। कलेक्टर ने एनआईसी के जिला सूचना विज्ञान अधिकारी बादल अग्रवाल को इस कार्य में मदद करने के निर्देश दिए। सिस्टम ऑफिसर के द्वारा जेल में स्थापित विधिक सेवा क्लिनिक की नई मेल आईडी. बनाई गई। भविष्य में विधिक सेवा क्लिनिक से संपूर्ण सूचनाएं मेल के जरिए ही आदान-प्रदान की जाएंगी। जिला एवं सेशन न्यायाधीश डॉ. राजेन्द्र सिंह चौधरी के साथ कलेक्टर डॉ. जितेन्द्र कुमार सोनी, एसपी आनन्द शर्मा, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट स्वाति शर्मा, पूर्णकालिक सचिव हनुमान सहाय जाट व जेल उपाधीक्षक परमजीत सिंह सिद्धू, सिस्टम ऑफिसर सोमेश मित्तल, पैनल अधिवक्ता भगवती, भैरुलाल बंशीवाल, जाकिर हुसैन तथा पीएलवी प्रियारानी सैनी भी उपस्थित थी।

नवोदय स्कूल में खोला जाएगा विधिक क्लब

भवानीमंडी.
ताल्लुका विधिक सेवा समिति अध्यक्ष एडीजे डाॅ. प्रभात कुमार अग्रवाल की अध्यक्षता में शनिवार को बैठक कर 15 फरवरी से जवाहर नवोदय स्कूल में खोले जाने वाले विधिक क्लब पर विचार-विमर्श किया गया। इसका इसका उद्घाटन जिला सेशन न्यायधीश राजेन्द्र सिह चौधरी करेंगे। इस क्लब में लगे एलसीडी, किताबें आदि के जरिए विद्यार्थियों को विभिन्न कानून की जानकारी दी जाएगी। बैठक में एसीजेएम नरेशसिह, जेएम नीति वर्मा, एसडीएम राकेश मीणा आदि मौजूद थे।

झालावाड़. जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की ओर से आयोजित राष्ट्रीय लोक अदालत में समस्याएं सुनते हुए।

एक ही अधिवक्ता के 25 मामलों में राजीनामा

राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण एवं राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण जयपुर के निर्देशानुसार एवं अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण (जिला एवं सेशन न्यायाधीश) डॉ. राजेन्द्र सिंह चौधरी के मार्गदर्शन में वर्ष 2018 की प्रथम राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन शनिवार को जिला मुख्यालय एवं सभी तालुका मुख्यालयों पर किया गया। पूर्णकालिक सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण झालावाड़ हनुमान सहाय जाट ने बताया कि राष्ट्रीय लोक अदालत में न्यायालयों के लम्बित प्रकरणों में शमनीय दांडिक अपराध, अन्तर्गत धारा 138, पराक्रम्य विलेख अधिनियम, बैंक रिकवरी मामले, एमएसीटी मामले, वैवाहिक विवाद, श्रम विवाद, भूमि अधिग्रहण मामले (केवल जिला न्यायालय में लम्बित), राजस्व मामले, मजदूरी, भत्ते, पेंशन भत्तों से संबंधित सेवा मामले, अन्य सिविल मामले से संबंधित 3278 प्रकरण चिन्हित किए गए। प्री-लिटिगेशन स्तर के 1735 प्रकरण चिन्हित किए गए। इनमें से आपसी समझौते से न्यायालय में लंबित 454 प्रकरण एवं प्री-लिटिगेशन स्तर के 133 प्रकरण निस्तारित किए गए एवं 3 करोड़, 24 लाख, 45 हजार 139 रुपए के अवार्ड पारित किए गए। पारिवारिक प्रकरणों में 5 केसों आपसी राजीनामे से निस्तारण किया गया। साथ ही जिला मुख्यालय पर एनडीपीएस जज अनुपमा बिजलानी की बैंच में कुल 114 प्रकरण निस्तारित हुए जो कि जिले में एक ही बैंच के समक्ष निस्तारित मामलों में सर्वोच्च हैं। साथ ही अधिवक्ता रामबाबू माहेश्वरी के द्वारा कुल 25 प्रकरणों में राजीनामा करवाया गया जो कि जिले में एक ही अधिवक्ता द्वारा कराए गए मामलों में सर्वोच्च हैं। बार अध्यक्ष मुकेश जैन ने दोनों को प्रतीक चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। यह परम्परा राजीनामा कराने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए बार अध्यक्ष द्वारा शुरू की गई है।

चौमहला. न्यायालय परिसर में अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट अंकित रमन की अध्यक्षता में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन हुआ। इसमें 54 प्रकरणों का निस्तारण राजीनामे द्वारा किया गया। इसमें 3 वर्षों से अलग अलग रह रहे दंपती ने एक-दूसरे को माला पहनाकर एक साथ रहना स्वीकार किया। लोक अदालत में कुल 323 प्रकरणों में से 54 प्रकरणों का निस्तारण किया गया। लोक अदालत में मंदसौर के बेटी खेड़ी निवासी कालीबाई व धारा सिंह दोनों पति-प|ी ने पुनः एक साथ रहने का निर्णय किया। दोनों पति-प|ी करीब 3 वर्षों से अलग-अलग रह रहे थे। कोर्ट परिसर में दोनों ने एक दूसरे को माला पहनाकर फिर से अपने दांपत्य जीवन की शुरुआत की। लोक अदालत को सफल बनाने में बेंच सदस्य अधिवक्ता लियाकत अली ,रतनलाल राठौर ,कर्मचारी फिरोज खान ,दीपक प्रजापति, नरेंद्र बारेगामा, विवेक डोगरा, मनोज नकवाल, रमेश शर्मा व समस्त पीएलवी ने अपना योगदान दिया।

अकलेरा में 71 मामले निपटाए

अकलेरा. तालुका विधिक सेवा समिति अकलेरा एवं मनोहरथाना मुख्यालय पर प्रथम राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया। तालुका मुख्यालय पर कुल 220 प्री-लिटिगेशन एवं 546 राजीनामा योग्य लंबित प्रकरण लोक अदालत के समक्ष समझाइश के लिए प्रस्तुत हुए। इनमें से 16 प्री-लिटिगेशन प्रकरण, 28 आपराधिक प्रकरण, 3 एनआई एक्ट प्रकरण, 14 एमएसीटी प्रकरण एवं 05 पारिवारिक प्रकरणों का निस्तारण किया गया। इनमें 1147368 रुपए के अवार्ड प्री-लिटिगेशन प्रकरण, 3 लाख 96 हजार 220 रुपए एनआई एक्ट प्रकरण एवं 46 लाख 88 हजार 100 रुपए के अवार्ड एमएसीटी इजराय प्रकरणों में पारित किए।

खानपुर में 18 प्रकरणों का निस्तारण किया गया

खानपुर. न्यायिक मजिस्ट्रेट राजेश कुमार मीणा की अध्यक्षता में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया। इसमें फौजदारी 9, दीवानी 2 प्रकरणों का दोनों पक्षों की आपसी समझाइश व सहमति से राजीनामा करवाया गया। 5 प्रकरणों में बकाया बिलों की वसूली व धारा 138 एन आई एक्ट के 7 प्रकरणों में 3 लाख 66 हजार 61 रुपए की वसूली की गई। सिविल न्यायालय खानपुर में 18 प्रकरणों को आपसी समझाइश से सहमति राजीनामा हुआ। इसमें 3 लाख 16 हजार 851 रुपए की वसूली हुई।

पिड़ावा. तालुका विधिक सेवा समिति अध्यक्ष मयंक पालीवाल की अध्यक्षता में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया। जिसमें लोक अदालत बैंच के सदस्य एडवोकेट मोहम्मद हनीफ मेव व मिथिलेश टेलर की उपस्थिति में पक्षकारों के मध्य राजीनामा का प्रयास किया गया। पक्षकारों के मध्य लोक अदालत की भावना से हुए राजीनामा के आधार पर न्यायालय में लंबित कुल 34 प्रकरणों का सेटलमेंट राशि 3 लाखा 2 हजार 400 रुपए व बैंक वसूली के 34 प्रकरणों के कुल 58 प्रकरणों का निस्तारण में सेटलमेंट राशि 57 लाख 32 हजार 800 रुपए का निस्तारण किया गया।

अलग रह रहे पति-प|ी को मिलाया

मनोहरथाना. न्यायालय परिसर मे लोक अदालत लगाई गई। इसमें लंबे समय से दहेज प्रताड़ना के मामले में अलग हुए पति-प|ी अतिरिक्त मुख्य न्यायाधीश के समझाने पर दुबारा साथ रहने को राजी हुए। वकील राजेश वर्मा ने बताया कि चार वर्ष पूर्व पिपलिया लोठान निवासी सुनीता बाई ने अपने पति पवन कुमार व ससुर कंवरलाल पर दहेज प्रताड़ना का केस मनोहरथाना न्यायालय में लगा रखा था। दोनों दहेज प्रताड़ना को लेकर कानूनी लड़ाई लड़ रहे थे, लेकिन शनिवार को लोक अदालत में अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट राम चरण मीणा के प्रयासों से दोनों पति-प|ी ने साथ रहने पर सहमति बनाई व खुशी जाहिर करते हुए मिठाई बांटी गई।

खानपुर. आपसी समझाइश से प्रकरणों का निस्तारण करते हुए।

पिड़ावा. राष्ट्रीय लोक अदालत में प्रकरणों का निस्तारण करते हुए।

X
एक दिन में 614 प्रकरणों का निस्तारण
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..