--Advertisement--

मंडी भाव

Bhawani Mandi News - भवानीमंडी. कृषिमंडी में बुधवार को सोयाबीन 3550 से 3650, गेहूं 1400 से 1500, चना 2900 से 3300, धनिया 3350 से 5000, सरसों 3400 से 3650, मेहंदी 3000 से 4200,...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 12:12 PM IST
मंडी भाव
भवानीमंडी. कृषिमंडी में बुधवार को सोयाबीन 3550 से 3650, गेहूं 1400 से 1500, चना 2900 से 3300, धनिया 3350 से 5000, सरसों 3400 से 3650, मेहंदी 3000 से 4200, मैथी 2500 से 2800 रुपए प्रति क्विंटल रहे।

इंदौर| प्याज की आवक सामान्य रहने के बावजूद भावों में गिरावट आती जा रही है। आलू की आवक नहीं बढ़ने से भावों में सुधार आया है। वर्तमान में आवक को देखते ऐसा लग ही नहीं लग रहा है कि आलू का सीजन चल रहा है। नई लहसुन की आवक बढ़ने लगी है और नए माल के भाव भी बढ़ने लगे हैं। प्याज की आवक 60 से 70 ट्रक आलू 17-18 हजार कट्‌टे लहसुन नया 2 हजार और पुरानी 7-8 हजार कट्‌टे की रही। प्याज बेस्ट क्वालिटी 800 से 850 एवरेज 700 से 750 गोल्डी 500 से 550 रुपए। आलू चिप्स 400 से 425 ज्योति-लॉकर 340 से 370 एवरेज 290 से 300 (40 किलो)। लहसुन नई तुअर बोल्ड नई 3000 से 3200 पुरानी 2200 से 2300 एवरेज 1800 से 2000 पुरानी 1500 से 1600 बारीक 1000 से 1100 पुरानी 700 से 800 रुपए (क्विंटल)।

इंटरनेट केबल कटने से... जिला परिवहन अधिकारी भगवान कर्मचंदानी ने मुख्यालय को पत्र लिखकर अवगत कराया है कि विभाग के पास आरएसडब्ल्यूएएन इंटरनेट कनेक्टिविटी ही उपलब्ध है और बार-बार केबल कटने के कारण काम बाधित होता है। ऐसे में अतिरिक्त इंटरनेट सेवा उपलब्ध कराई जाए।

पेज 15 का शेष

सिस्टम या दुकानदार से.... ये जानना भी जरूरी : बिल गलत जारी हुआ है तो 24 घंटे में करना होगा निरस्त-

प्रश्न-ई-वे बिल किसे जनरेट करना होगा ?

उत्तर-जो 50 हजार से अधिक मूल्य का माल परिवहन कर रहा है। जीएसटी में अनरजिस्टर्ड व्यक्ति पोर्टल पर रजिस्टर्ड कर ई-वे बिल जनरेट कर सकता है।

प्रश्न-ई-वे बिल से पहले क्या जरूरी है ?

उत्तर-ई-वे बिल सिस्टम में रजिस्टर्ड होना जरूरी है। टैक्स इन वाइस, बिक्री बिल, डिलीवरी चालान और ट्रांसपोर्टर आईजी व वाहन क्रमांक जिससे माल परिवहन होना है, यह जरूरी है।

प्रश्न-ई-वे बिल में क्या करना होगा ?

उत्तर-ई-वे बिल के पार्ट-बी में जाकर वाहन क्रमांक बदलना होगा। जितनी बार वाहन बदलेंगे, उतनी बार पार्ट-बी में बदलाव कर सकेंगे।

प्रश्न-ई-वे बिल किस तरह जनरेट होता है?

उत्तर- वेब आधारित सिस्टम, बल्क अपलोड सुविधा, एसएमएस, एंड्राइड एप, साइट- टू-साइट इंट्री गेशन सिस्टम और माल व सेवा कर सुविधा प्रोवाइडर व्यवस्था।

प्रश्न-क्या ई-वे बिल संशोधित हो सकता है ?

उत्तर- ई-वे बिल के पार्ट-ए में कोई बदलाव नहीं कर सकते हैं। केवल पार्ट-बी को ही अपडेट कर वाहन की जानकारी दे सकते हैं। बिल गलत जारी होने पर निरस्त कर दूसरा जारी कर सकते हैं, परंतु इसे 24 घंटे के भीतर ही निरस्त करना होगा।

प्रश्न-सिस्टम में लॉग-इन करने पर अलग-अलग संदेश आए तो क्या करें ?

उत्तर- अकाउंट ब्लाॅक करने का संदेश आए तो संभव है कि पांच-छह बार गलत यूजर नाम, पासवर्ड के चलते हो गया हो। थोड़ी देर बाद उपयोग करें। मोबाइल पर ओटीपी नहीं आए तो ओटीपी ई-मेल पर भी देख सकते हैं।

X
मंडी भाव
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..