Hindi News »Rajasthan »Bhawani Mandi» अवैध वाहनों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होने से थमे रोडवेज के पहिए, 2 साल में 50 बसें बंद

अवैध वाहनों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होने से थमे रोडवेज के पहिए, 2 साल में 50 बसें बंद

जिले में अवैध वाहनों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होने से एक के बाद एक रोडवेज बसों के पहिये थमते जा रहे हैं। दो सालों में...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 12:12 PM IST

जिले में अवैध वाहनों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होने से एक के बाद एक रोडवेज बसों के पहिये थमते जा रहे हैं। दो सालों में विभिन्न मार्गों की 50 से अधिक बसें बंद कर दी गईं। इसके कारण यात्री निजी या लोडिंग वाहनों में यात्रा करने को मजबूर है। एक समय था जब हर दस मिनट बाद रोडवेज बस यात्रियों के लिए उपलब्ध होती थी, लेकिन आज दो घंटे इंतजार करने पर भी रोडवेज बस नहीं आती। डग-भवानीमंडी मार्ग पर रोडवेज की 22 बसों का संचालन होता था, अब केवल 4 गाड़ियां चल रही हैं। रटलाई के लिए एक बस चलती थी, वह भी बंद हो गई। यही हाल अन्य मार्गों का भी है।

रोडवेज कर्मचारियों ने यात्रियों की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए परिवहन मंत्री, कलेक्टर, परिवहन अधिकारी सभी को ज्ञापन दिया, धरना-प्रदर्शन किए, लेकिन किसी ने अवैध वाहनों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की। जबकि यहां विभिन्न मार्गों पर कई निजी वाहन बिना परमिट चल रहे हैं। अवैध वाहनों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होने से उनके हौसले इतने बुलंद हो गए हैं कि परिवहन नियमों को ताक पर रखते हुए वे रोडवेज बस स्टैंड के गेट से सवारियां बिठाकर ले जा रहे हैं। जबकि नियमानुसार रोडवेज बस स्टैंड से एक किमी क्षेत्र के अंदर कोई निजी वाहन खड़ा नहीं होना चाहिए। अब बस स्टैंड के गेट पर ही ट्रैवल्स ऑफिस खुल चुके हैं।

झालावाड़. रोडवेज बसों के अभाव में लोडिंग वाहनों में यात्रा करते यात्री।

यातायात समिति की बैठक में हर बार उठा मुद्दा, आश्वासनों से आगे नहीं बढ़े जिम्मेदार

जिला प्रशासन समय-समय पर यातायात समिति की बैठक आयोजित करता है। इसमें रोडवेज प्रशासन से भी अधिकारी भाग लेते हैं। उनके द्वारा हर बार अवैध वाहनों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की जाती है, लेकिन हर बार आश्वासन मिलता है, कार्रवाई अभी तक नहीं की गई। प्रदेश में निजी वाहनों के साथ सड़क दुर्घटना आए दिन हो रही है। रोडवेज बसों को ओवरटेक करते तेज गति से बसें भगाकर लोगों की जान जोखिम में डाली जा रही हैं। इसके बाद भी उन पर नियंत्रण के लिए कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। जिले में ही तीन माह में चार बस हादसे हुए हैं, जिनमें 30 से अधिक लोग घायल हुए।

अवैध वाहनों के खिलाफ कार्रवाई नहीं हो रही है। वे रोडवेज बसों के आगे-आगे वाहन भगाते हैं। इससे यात्रीभार नहीं मिलने पर बसें बंद करनी पड़ रही हैं। डिपो की मध्यप्रदेश बीनागंज जाने वाली बसों को समझौते से बाहर कर दिया गया है। कई बार उच्च अधिकारियों को भी अवगत कराया गया है, लेकिन कुछ नहीं हुआ। -अनिल पारीक, मुख्य प्रबंधक, झालावाड़ डिपो

सरकार ने भी खींचे हाथ

विभिन्न मार्गों पर एक के बाद एक रोडवेज बसें बंद हो रही हैं। इसके कारण रोडवेज की हालत भी खराब होती जा रही है। बसें बंद होने व यात्री भार कम होने से झालावाड़ डिपो को ही प्रतिदिन 80 हजार से 1 लाख रुपए तक का घाटा उठाना पड़ रहा है। सरकार से भी रोडवेज को कोई मदद नहीं मिल रही है। रोडवेज प्रशासन न तो नई बसें खरीद रहा है और न ही नए चालक-परिचालक भर्ती किए जा रहे हैं। यहां तक कि बसों के उपकरण तक उपलब्ध नहीं कराए जा रहे हैं।

किस मार्ग पर कितनी बसें बंद

डग-भवानीमंडी पहले 22 बसें चलती थीं, अब 4 चल रही हैं।

सोयत-पिड़ावा वाया भवानीमंडी पहले 12 बसें थीं, अब 1 बस चल रही।

मनोहरथाना-बीनागंज-5 बसें चलती थीं, अब एक भी नहीं

जयपुर से इंदौर 3 बसें चल रही थीं, वर्तमान में तीनों बंद

कोटा-उज्जैन एक बस थी, वह भी बंद

झालावाड़-रटलाई, सरदारशहर-इंदौर, नागौर-इंदाैर, भीलवाड़ा-इंदौर, चूरू-इंदौर आदि बसें बंद हो गईं

फैक्ट फाइल

झालावाड़ डिपो में बसें-102

अतिरिक्त बसों की आवश्यकता- 50

प्रतिदिन किलोमीटर चलते हैं -32 हजार

ड्राइवर- रोडवेज के 102 व एजेंसी के 16 कुल 118

परिचालक -114 और 23 एजेंट, जबकि अावश्यकता 160

पत्र वितरक 20 पद, एक भी नहीं है। परिचालकों से भरे पद

तकनीकी कर्मचारी -33, आवश्यकता 70

मंत्रालयिक कर्मचारी- 18

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bhawani Mandi

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×