• Hindi News
  • Rajasthan
  • Bhilwara
  • बहेड़िया: उप चुनाव में हार पर संगठन मंथन कर रहा है, हम माफियाराज नहीं पनपाते हैं
--Advertisement--

बहेड़िया: उप चुनाव में हार पर संगठन मंथन कर रहा है, हम माफियाराज नहीं पनपाते हैं

Dainik Bhaskar

Apr 02, 2018, 04:05 AM IST
बहेड़िया: उप चुनाव में हार पर संगठन मंथन कर रहा है, हम माफियाराज नहीं पनपाते हैं

- बहेड़िया : जीएसटी में जो दिक्कत आई थी उसमें मैंने व्यक्तिगत रूप से सरकार तक बात पहुंचाकर कपड़ा उद्यमियों को राहत दिलवाई। उद्यमियों के लिए ही मुंबई ट्रेन को छह दिन करवाया। हरिद्वार, जम्मू, यशवंतपुर, नई दिल्ली के लिए नई ट्रेन चलवाई। मेरे कार्यकाल में ही भीलवाड़ा ट्रैक के विद्युतीकरण सहित कई काम हो रहे। गुलाबपुरा-उनियारा नेशनल हाईवे और किशनगढ़-चित्तौड़गढ़ सिक्सलेन का काम शुरू करवाया। पिछले कार्यकाल में रेलवे ट्रैक ब्रॉडगेज हुआ था।


- बहेड़िया: मेमू कोच फैक्ट्री की घोषणा केवल राजनीतिक थी। इस बारे में रेल मंत्री से बात कर चुका हूं। मैं जल्द ही इस बारे में एक बार और रेल मंत्री से मिलने वाला हूं।


- बहेड़िया: उपचुनाव में विकास का कोई इश्यू नहीं रहा। जनता की कोई नाराजगी भी भाजपा से नहीं है। आपकी सरकार तो ऐसी योजनाओं की घोषणा करती है जो चुनाव खत्म होने के साथ बंद हो जाती हंै। हमारी सरकार हर घोषणा के साथ बजट भी जारी करती है और उसे पूरा करती है। फरवरी में मांडलगढ़ विधानसभा उपचुनाव क्यों हारे, इस पर संगठन के स्तर पर मंथन चल रहा है।


- बहेड़िया: मैं पहले भी कह चुका हूं कि विकास कोई इश्यू नहीं है। आपने तो केवल घोषणाएं करके पत्थर लगा दिए थे। कई जगह से तो अब पत्थर भी गायब हो गए हैं। हिंडौली विधानसभा चुनाव होने के बाद हुए लोकसभा चुनाव में आपकी जीत का अंतर भी काफी कम रह गया था। हमारा काम कैसा है इसके लिए मुझे कांग्रेस से सर्टिफिकेट लेने की जरूरत नहीं है।


- बहेड़िया: यह गलत है। उस समय चंबल प्रोजेक्ट की केवल घोषणा हुई थी। कई तरह की एनओसी लेना बाकी था। बजट भी प्रोपर जारी नहीं हुआ था। फॉरेस्ट की एनओसी के कारण काम अटका हुआ था जो मंैने दिलवाई। इसके बाद वापस काम शुरू हुआ। भीलवाड़ा शहर को नवंबर 2016 से पानी मिल रहा है। इस साल के अंत तक जिले के अधिकांश गांवों में चंबल नदी का पानी पहुंचा देंगे।

सुभाष बहेड़िया

सुभाष बहेड़िया भाजपा से दूसरी बार सांसद बने हैं। क्षेत्र के वरिष्ठ भाजपा नेता भी हैं। ऐसे में इनकी जिम्मेदारी बनती है कि वे जनता की मांग सरकार तक पहुंचाएं तथा समस्या का समाधान कराएं।

अशोक चांदना

अशोक चांदना हिंडौली से पहली बार विधायक बने। भीलवाड़ा से सांसद का चुनाव लड़े थे। यूथ कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष भी हैं। इनकी जिम्मेदारी है कि सरकार की जनविरोधी नीतियों का विरोध करें।

बहेड़िया- आपके खिलाफ अवैध खनन के मामले बने हैं

चांदना: सरकार के खिलाफ आंदोलन पर मेरी माइंस बंद करा दी, इस चुनाव में तारे दिखा दूंगा


- चांदना : जब भी मैंने जन आंदोलन किए तब सरकार ने दबाव की राजनीति करते हुए कार्रवाई की। सभी मामले कोर्ट में हैं। कोर्ट ने मुझे स्टे दिया है और सरकार को फटकार लगाई है। जिस दिन मैं आंदोलन करता हूं, अगले ही दिन मेरी खान पर कार्रवाई होती है। बाकी दिनों में कोई दिक्कत नहीं है। मुझमें खोट होती तो चुप बैठ जाते। एक रुपए की कमी कोई नहीं निकाल सकता।


- चांदना: कांग्रेस के समय भी कोई माफिया राज नहीं होता है। यूथ कांग्रेस कार्यकर्ता सरकार की गलत नीतियों पर अग्रेसिव तो होंगे ही, वे ड्रामा नहीं करते हैं। हमने जब भी जनता के मुद्दों पर संघर्ष किया तो हमारे पर लाठियां बरसाई। बेरोजगारों पर लाठी चार्ज किया गया जो गलत है।


-चांदना: हमारे नेता डॉ. सीपी जोशी ने भीलवाड़ा को चंबल प्रोजेक्ट के लिए सभी तरह की एनओसी व बजट स्वीकृत कर दिया था। सब स्वीकृतियां होने के बावजूद भाजपा समय पर चंबल प्रोजेक्ट का काम पूरा नहीं करवा पाई। हमारी सरकार ने मेमू कोच फैक्ट्री का शिलान्यास किया लेकिन भाजपा ने इसे भी अटका दिया। काम तो भाजपा अटकाती है।


-चांदना: मैं भाजपा की प्रचंड लहर में हिंडौली से जीता हूं। लोकसभा के समय मेरी पर्सनल टीम हिंडौली नहीं थी। मैं केवल एक दिन हिंडौली जाकर जीता हूं। इस विधानसभा चुनाव में तो मैं भाजपा को तारे दिखा दूंगा। केंडिडेट खड़ा करके तो दिखाए। मेरी लोकप्रियता कम हुई या नहीं यह विधानसभा चुनाव में पता चल जाएगा।


- चांदना: अभी हिंडौली पंचायत समिति उप चुनाव में आप और आपके तीन मंत्री आए थे। इसके बावजूद भाजपा हारी है। कांग्रेस को हराने के लिए भाजपा ने कांग्रेसी को ही टिकट दे दिया। पैसा देकर एक कांग्रेसी को निर्दलीय खड़ा किया। इसके बावजूद भाजपा और निर्दलीय प्रत्याशी हमारे प्रत्याशी से आधे वोट भी नहीं ले पाए। मांडलगढ़ में कांग्रेस का निर्दलीय प्रत्याशी खड़ा होने के बावजूद हम जीते। निर्दलीय के वोट जोड़ दे तो भाजपा को तो आधे वोट भी नहीं मिले हैं। जनता ने बता दिया कि वह भाजपा को क्या देना चाहती है। केवल बातें नहीं जनता के काम कीजिए वरना जनता माफ नहीं करेगी।

X
बहेड़िया: उप चुनाव में हार पर संगठन मंथन कर रहा है, हम माफियाराज नहीं पनपाते हैं
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..