--Advertisement--

भंसाली ने जाह्नवी कपूर को ऑफर की फिल्म ?

Bhilwara News - भंसाली ने जाह्नवी कपूर को ऑफर की फिल्म ? Áहाल ही में जाह्नवी और खुशी कपूर ने डायरेक्टर संजय लीला भंसाली से...

Dainik Bhaskar

Apr 01, 2018, 04:35 AM IST
भंसाली ने जाह्नवी कपूर को ऑफर की फिल्म ?
भंसाली ने जाह्नवी कपूर को ऑफर की फिल्म ?

Áहाल ही में जाह्नवी और खुशी कपूर ने डायरेक्टर संजय लीला भंसाली से मुलाकात की थी। इस मुलाकात के बाद से इंडस्ट्री में कयास लगाए जा रहे हैं कि भंसाली ने जाह्नवी को फिल्म ऑफर की है। जाह्नवी फिलहाल करण जौहर के प्रोड्क्शन हाउस में बन रही अपनी डेब्यू फिल्म ‘धड़क’ की शूटिंग कर रही हैं। इसके बाद ही वे अपने अगले प्रोजेक्ट में जुटेंगी।

अजय परफेक्ट फैमिली मैन हैं : इलियाना डीक्रूज

Áइलियाना डीक्रूज अपनी पिछली फिल्म ‘रेड’ के को-स्टार अजय देवगन की तारीफें करते नहीं थक रही हैं। इलियाना ने हाल ही में दिए एक इंटरव्यू में कहा है, ‘अजय बेहद साधारण इंसान हैं। उनके साथ काम करना आसान हो जाता है क्योंकि आप खुद को सिक्योर फील करते हो। वे परफेक्ट फैमिली मैन हैं और हर वक्त अपने बच्चों न्यासा और युग के बारे में बातें करते रहते हैं। उनके साथ काम करके मुझे बहुत अच्छा लगा।’ अजय अौर इलियाना ने इससे पहले ‘बादशाहो’ में भी साथ काम किया था।

गवर्नमेंट के इनिशिएटिव से खुश हैं राधिका आप्टे

Áराधिका आप्टे गवर्नमेंट के नए इनिशिएटिव से बेहद खुश नजर आ रही हैं। इस इनिशिएटिव के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में लो कॉस्ट सेनेटरी नैपकिन दिए जा रहे हैं। इस स्कीम के तहत डिस्ट्रिक्ट स्कूल की बच्चियों को पांच रूपए के पैकेट बांटे जा रहे हैं। यह इनिशिएटिव कई लोगों का जीवन सशक्त बनाएगा। राधिका ने कहा है, ‘मुझे खुशी है कि गवर्नमेंट ने इस बारे में सोचा और अब वे इस स्कीम के जरिए महिलाआंें और बच्चियों का जीवन सशक्त बना रहे हैं।’

अपकमिंग प्रोजेक्ट्स

 इस समय भोपाल में स्त्री’ की शूटिंग चल रही है। अगली फिल्म अनुभव सिन्हा की होगी, जिसके लिए 9 अप्रैल को लखनऊ जाएंगे। ‘एक-दो प्रोजेक्ट और हैं जिसके बारे में बताने की अनुमति नहीं है।’

मिशेल ओबामा और ओप्रा विन्फ्रे संग स्टेज शेयर करेंगी कंगना

गांधी गोज ग्लोबल समिट में...

Áकंगना रनोट ने हाल ही में अपनी अपकमिंग फिल्म ‘मणिकर्णिका : द क्वीन अॉफ झांसी’ की शूटिंग पूरी की है। अब वे ‘गांधी गोज ग्लोबल’ समिट में इंडिया काे रिप्रेजेंट करेंगी। इस समिट का आयोजन न्यू जर्सी, यूएसए में 18 और 19 अगस्त को किया जाएगा। इस मौके पर वे अमेरिका की पूर्व फर्स्ट लेडी मिशेल ओबामा और ओप्रा विन्फ्रे के साथ स्टेज शेयर करेंगी। इस प्रोग्राम में सभी गांधी की ग्लोबल फिलॉसफी पर चर्चा करेंगे। इस बारे में कंगना ने कहा है, ‘मेरे लिए यह हमेशा महत्व रखता है कि मैं सोसायटी पर किस तरह प्रभाव डाल रही हूं और कितना कॉन्ट्रीब्यूट कर रही हूं। मिशेल और ओप्रा के साथ स्टेज शेयर करना मेरे लिए बहुत इंस्पायरिंग होगा। मैं कभी किसी की फैन नहीं रही पर ओप्रा जैसी लेडी मेरी आइडल रही हैं।’

दैिनक भास्कर, भीलवाड़ा, रविवार, 1 अप्रैल, 2018

‘इंडस्ट्री में 12 साल लग गए लोगों को पहचानने में’

नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा, दिल्ली से पास आउट एक्टर पंकज त्रिपाठी का सिनेमा से दूर-दूर तक कोई नाता नहीं था। बिहार के गोपालगंज जिले के रहने वाले पंकज के पिता किसान हैं। वे पंकज को डॉक्टर बनाने का सपना देखते थे, लेकिन पंकज की किस्मत उन्हें बॉलीवुड ले आई। मुंबई आए तो यहां लंबा संघर्ष चला। पंकज से बातचीत:

 जब पिता जी का सपना चकनाचूर हुआ, तब उनका क्या कहना था?

वे सरल और साधारण इंसान हैं। उनका कोई दबाव नहीं रहा। उन्होंने कहा कि अगर नाटक करने से रोजी-रोटी चल जाए, तो करो। मेरे पेरेंट्स लिबरल हैं, उन्होंने मुझे काफी छूट दे रखी है। गांव में रूढ़िवादी लोग हैं, लेकिन मैंने लव मैरिज की। उस पर भी उन्होंने कोई आपत्ति नहीं जताई।

 लेकिन इंडस्ट्री के बाहर से आने वाले लोगों के बारे में भेदभाव की बातें सुनने को मिलती हैं, आपका अनुभव क्या कहता है?

देखिए, भेदभाव तो पूरे संसार में है। आदमी ही क्या, जानवरों में भी है। एक बंदर अपने झंुड का सरगना होता है, वह नहीं चाहता कि दूसरे झुंड का बंदर आकर उसके झुंड का सरगना बन जाए। जाहिर-सी बात है, यहां भीड़ बहुत है। अगर कोई बाहर से फिल्म इंडस्ट्री में आएगा तो बहुत वेलकम नहीं किया जाएगा। अगर आपका काम बहुत अच्छा है, तब भी लोग कोशिश करेंगे कि आपको आपकी जगह ना मिले। क्योंकि यहां जो पहले से बैठा है, वह हटना नहीं चाहता है। यह मानवीय प्रक्रिया है, यह किसी भी इंडस्ट्री में हो सकता है। यहां लोगों को पहचानने में मुझे 12 साल लग गए। मुझे यहां काफी वक्त लगा, इससे ज्यादा कुछ नुकसान नहीं हुआ। आज सभी बैनर की फिल्में कर रहा हूं। पिछले साल मेरी ‘बरेली की बर्फी’, ‘फुकरे रिटर्न्स’, ‘न्यूटन’, ‘मुन्ना माइकल’ सहित 7 फिल्में आईं, सब में अलग-अलग तरह का रोल किया। लोगों को बहुत पसंद भी आया।

 फिल्म ‘काला’ के जरिए साउथ में डेब्यू करने जा रहे हैं और वो भी सुपरस्टार रजनीकांत के साथ। यह ब्रेक कैसे मिला?

फिल्म के डायरेक्टर ने मेरी दो फिल्में, ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ और ‘निल बट्‌टे सन्नाटा’ देखी थी। दोनों में बड़ा डायवर्स रोल था। एक में विलेन था तो दूसरे में स्कूल के मास्टर का रोल किया था। उन्होंने ही बोला कि मुझे यह एक्ट चाहिए, तब उनकी टीम मुझसे मुंबई आकर मिली। मुझे जब पता चला कि रजनीकांत की फिल्म है, तब बिना सोचे काम करने को तैयार हो गया। क्योंकि मुझे रजनी सर से मिलना था। मैं उनके व्यक्तित्व से बहुत प्रभावित हूं। उनमें सुपरस्टार जैसा कोई घमंड नहीं है। मैं जब साउथ में शूटिंग कर रहा था, तब मुझसे पूछते थे कि तुम्हें खाने में दिक्कत तो नहीं हो रही है। अब इतने बड़े एक्टर को पूछने की क्या जरूरत है, लेकिन वे अपने को-स्टार्स की हर छोटी से छोटी बात का खयाल रखते हैं। उनसे विनम्रता सीखने को मिली।

 श्रद्धा कपूर के साथ ‘स्त्री’ की शूटिंग कर रहे हैं, उनके बारे में क्या कहेंगे?

बड़ी मेहनती एक्ट्रेस हैं। बड़ों का बहुत सम्मान करती हैं। मैंने उनसे बोला भी कि तुम एक्ट्रेस जैसी नहीं लगती। ऐसा लगता है जैसे अपने ही घर की कोई लड़की आई हो। उन्होंने जवाब में कहा कि आप भी परिवार के सदस्य जैसे ही लगते हो। राजकुमार राव बहुत अच्छे स्वभाव के हैं। हम सब साथ में ही वक्त गुजारते हैं।

पंकज त्रिपाठी बोले...

Áकंगना रनोट ने हाल ही में अपनी अपकमिंग फिल्म ‘मणिकर्णिका : द क्वीन अॉफ झांसी’ की शूटिंग पूरी की है। अब वे ‘गांधी गोज ग्लोबल’ समिट में इंडिया काे रिप्रेजेंट करेंगी। इस समिट का आयोजन न्यू जर्सी, यूएसए में 18 और 19 अगस्त को किया जाएगा। इस मौके पर वे अमेरिका की पूर्व फर्स्ट लेडी मिशेल ओबामा और ओप्रा विन्फ्रे के साथ स्टेज शेयर करेंगी। इस प्रोग्राम में सभी गांधी की ग्लोबल फिलॉसफी पर चर्चा करेंगे। इस बारे में कंगना ने कहा है, ‘मेरे लिए यह हमेशा महत्व रखता है कि मैं सोसायटी पर किस तरह प्रभाव डाल रही हूं और कितना कॉन्ट्रीब्यूट कर रही हूं। मिशेल और ओप्रा के साथ स्टेज शेयर करना मेरे लिए बहुत इंस्पायरिंग होगा। मैं कभी किसी की फैन नहीं रही पर ओप्रा जैसी लेडी मेरी आइडल रही हैं।’

Pankaj Tripathi

 जब पिता जी का सपना चकनाचूर हुआ, तब उनका क्या कहना था?

वे सरल और साधारण इंसान हैं। उनका कोई दबाव नहीं रहा। उन्होंने कहा कि अगर नाटक करने से रोजी-रोटी चल जाए, तो करो। मेरे पेरेंट्स लिबरल हैं, उन्होंने मुझे काफी छूट दे रखी है। गांव में रूढ़िवादी लोग हैं, लेकिन मैंने लव मैरिज की। उस पर भी उन्होंने कोई आपत्ति नहीं जताई।

 लेकिन इंडस्ट्री के बाहर से आने वाले लोगों के बारे में भेदभाव की बातें सुनने को मिलती हैं, आपका अनुभव क्या कहता है?

देखिए, भेदभाव तो पूरे संसार में है। आदमी ही क्या, जानवरों में भी है। एक बंदर अपने झंुड का सरगना होता है, वह नहीं चाहता कि दूसरे झुंड का बंदर आकर उसके झुंड का सरगना बन जाए। जाहिर-सी बात है, यहां भीड़ बहुत है। अगर कोई बाहर से फिल्म इंडस्ट्री में आएगा तो बहुत वेलकम नहीं किया जाएगा। अगर आपका काम बहुत अच्छा है, तब भी लोग कोशिश करेंगे कि आपको आपकी जगह ना मिले। क्योंकि यहां जो पहले से बैठा है, वह हटना नहीं चाहता है। यह मानवीय प्रक्रिया है, यह किसी भी इंडस्ट्री में हो सकता है। यहां लोगों को पहचानने में मुझे 12 साल लग गए। मुझे यहां काफी वक्त लगा, इससे ज्यादा कुछ नुकसान नहीं हुआ। आज सभी बैनर की फिल्में कर रहा हूं। पिछले साल मेरी ‘बरेली की बर्फी’, ‘फुकरे रिटर्न्स’, ‘न्यूटन’, ‘मुन्ना माइकल’ सहित 7 फिल्में आईं, सब में अलग-अलग तरह का रोल किया। लोगों को बहुत पसंद भी आया।

 फिल्म ‘काला’ के जरिए साउथ में डेब्यू करने जा रहे हैं और वो भी सुपरस्टार रजनीकांत के साथ। यह ब्रेक कैसे मिला?

फिल्म के डायरेक्टर ने मेरी दो फिल्में, ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ और ‘निल बट्‌टे सन्नाटा’ देखी थी। दोनों में बड़ा डायवर्स रोल था। एक में विलेन था तो दूसरे में स्कूल के मास्टर का रोल किया था। उन्होंने ही बोला कि मुझे यह एक्ट चाहिए, तब उनकी टीम मुझसे मुंबई आकर मिली। मुझे जब पता चला कि रजनीकांत की फिल्म है, तब बिना सोचे काम करने को तैयार हो गया। क्योंकि मुझे रजनी सर से मिलना था। मैं उनके व्यक्तित्व से बहुत प्रभावित हूं। उनमें सुपरस्टार जैसा कोई घमंड नहीं है। मैं जब साउथ में शूटिंग कर रहा था, तब मुझसे पूछते थे कि तुम्हें खाने में दिक्कत तो नहीं हो रही है। अब इतने बड़े एक्टर को पूछने की क्या जरूरत है, लेकिन वे अपने को-स्टार्स की हर छोटी से छोटी बात का खयाल रखते हैं। उनसे विनम्रता सीखने को मिली।

 श्रद्धा कपूर के साथ ‘स्त्री’ की शूटिंग कर रहे हैं, उनके बारे में क्या कहेंगे?

बड़ी मेहनती एक्ट्रेस हैं। बड़ों का बहुत सम्मान करती हैं। मैंने उनसे बोला भी कि तुम एक्ट्रेस जैसी नहीं लगती। ऐसा लगता है जैसे अपने ही घर की कोई लड़की आई हो। उन्होंने जवाब में कहा कि आप भी परिवार के सदस्य जैसे ही लगते हो। राजकुमार राव बहुत अच्छे स्वभाव के हैं। हम सब साथ में ही वक्त गुजारते हैं।

कंगना ने बताया...

मैं जैसे ही मुंबई पहुंच जाऊंगी। मुझे सब कुछ क्लीयर हो जाएगा कि मुझे वहां कितनी देर स्पीच देनी है और किस मुद्दे पर बात करनी है।’

फैन बॉय मोमेंट

Áशाहरुखखान ने मुंबई पहुंचे हॉलीवुड डायरेक्टर क्रिस्टोफर नोलन से मुलाकात की। इस मुलाकात की एक तस्वीर उन्होंने अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर करते हुए लिखा...My Fanboy moment. Inspiring to hear Mr.Nolan & Ms.Tacita Dean talk of the virtues of celluloid as an artist’s medium. Thanks @shividungarpur for having me over

आगरा में...

विदेशी दोस्ताें के साथ ताज महल पहुंची सुहाना

Áशाहरुख खान की बेटी सुहाना खान बीते दिन अपने विदेशी दोस्तों के साथ आगरा में ताज महल देखने पहुंची। इस मौके पर उनके साथ मां गौरी खान भी मौजूद थीं। ट्रिप की कुछ तस्वीरें शेयर करते हुए गौरी खान ने लिखा...

A Day trip to one of India’s most celebrated structures.. The Taj Mahal...

फोटो में सुहाना इंडो वेस्टर्न लुक में नजर आ रही हैं। बता दें, उनके ये दोस्त लंदन से आए हुए हैं, जहां वे सुहाना पढ़ाई कर रही हैं। गौरी बच्चों की सेफ्टी को ध्यान में रखते हुए साथ गई थीं।

8

X
भंसाली ने जाह्नवी कपूर को ऑफर की फिल्म ?
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..