Hindi News »Rajasthan »Bhilwara» 60 लोग 300 कैन से 15 हजार यात्रियों को पिलाएंगे ठंडा पानी

60 लोग 300 कैन से 15 हजार यात्रियों को पिलाएंगे ठंडा पानी

भास्कर संवाददाता | चित्तौड़गढ़ गर्मी में रेलवे स्टेशन आते ही ट्रेन में सवार यात्री सबसे पहले ठंडा पानी ही मांगते...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 17, 2018, 06:55 AM IST

भास्कर संवाददाता | चित्तौड़गढ़

गर्मी में रेलवे स्टेशन आते ही ट्रेन में सवार यात्री सबसे पहले ठंडा पानी ही मांगते हैं। इसके लिए या तो महंगी बोतल खरीदो या फिर वाटर कूलर की तलाश में भटकते फिरो । इसमें भी ट्रेन छूटने का डर अलग। यात्रियों की यही परेशानी मिटाने को शहर की एक संस्था से जुड़े 60 महिला-पुरुष रोजाना घंटों स्टेशन पर यात्रियों का गला तर करेंगे।

इसकी शुरुआत सोमवार सुबह से हो गई। सिलसिला दो महीने चलेगा। मानव जल सेवा संस्थान समिति के बैनर पर प्रतिदिन 250 से 300 पानी की कैन खपत होगी। पांचों प्लेटफार्म पर सुबह 9 बजे से शाम 6 बजे तक 60 लोग लगे हैं। इनमें हर उम्र के महिला व पुरुष शामिल हैं। जो प्रतिदिन इस दौरान गुजरने वाली 12 से 15 ट्रेन में 15 से 20 हजार यात्रियों को ठंडा पानी उपलब्ध कराएंगे। स्टेशन के गेट नंबर दो के बाहर प्याऊ भी शुरू की। उपाध्यक्ष कमल खटोड़ ने बताया कि जल सेवा का उद‌्घाटन नगर परिषद सभापति सुशील शर्मा, वरिष्ठ नागरिक मंच के अध्यक्ष नवरतन पटवारी, राष्ट्रीय कवि अब्दुल जब्बार, रेलवे के एसआर छपरीबंध ने किया। क्षेत्रीय पार्षद अशोक जोशी, रेलवे लोको पायलट महेश रावत, समिति के अध्यक्ष सुरेश कल, सचिव राजेश गोठवाल, संरक्षक लालाशंकर, सह सचिव अशोक छीपा, अमित प्रतापसिंह, शंकरलाल शर्मा, प्रफुल्ल त्रिवेदी, गोविंद तोतला, जगदीश आगाल, इंद्रा कुमावत, अनिता खटोड़, मधु चपलोत, गीता आगाल, सुनीता चाष्टा, मधु शर्मा, उषा शर्मा, संतोष बसेर, तुलसी उपाध्याय, विमला शर्मा ने जलसेवा की शुरुआत की।

गर्मी में यात्रियों की सुविधा के लिए प्रतिदिन सुबह 9 से शाम 6 बजे तक रेलवे स्टेशन के पांचों प्लेटफार्म पर करेंगे जल सेवा

रेलवे स्टेशन पर मानव जल सेवा संस्थान के सदस्यों ने शुरू की सुविधा, बीस महिलाओं ने भी निभाई भागीदारी

भास्कर संवाददाता | चित्तौड़गढ़

गर्मी में रेलवे स्टेशन आते ही ट्रेन में सवार यात्री सबसे पहले ठंडा पानी ही मांगते हैं। इसके लिए या तो महंगी बोतल खरीदो या फिर वाटर कूलर की तलाश में भटकते फिरो । इसमें भी ट्रेन छूटने का डर अलग। यात्रियों की यही परेशानी मिटाने को शहर की एक संस्था से जुड़े 60 महिला-पुरुष रोजाना घंटों स्टेशन पर यात्रियों का गला तर करेंगे।

इसकी शुरुआत सोमवार सुबह से हो गई। सिलसिला दो महीने चलेगा। मानव जल सेवा संस्थान समिति के बैनर पर प्रतिदिन 250 से 300 पानी की कैन खपत होगी। पांचों प्लेटफार्म पर सुबह 9 बजे से शाम 6 बजे तक 60 लोग लगे हैं। इनमें हर उम्र के महिला व पुरुष शामिल हैं। जो प्रतिदिन इस दौरान गुजरने वाली 12 से 15 ट्रेन में 15 से 20 हजार यात्रियों को ठंडा पानी उपलब्ध कराएंगे। स्टेशन के गेट नंबर दो के बाहर प्याऊ भी शुरू की। उपाध्यक्ष कमल खटोड़ ने बताया कि जल सेवा का उद‌्घाटन नगर परिषद सभापति सुशील शर्मा, वरिष्ठ नागरिक मंच के अध्यक्ष नवरतन पटवारी, राष्ट्रीय कवि अब्दुल जब्बार, रेलवे के एसआर छपरीबंध ने किया। क्षेत्रीय पार्षद अशोक जोशी, रेलवे लोको पायलट महेश रावत, समिति के अध्यक्ष सुरेश कल, सचिव राजेश गोठवाल, संरक्षक लालाशंकर, सह सचिव अशोक छीपा, अमित प्रतापसिंह, शंकरलाल शर्मा, प्रफुल्ल त्रिवेदी, गोविंद तोतला, जगदीश आगाल, इंद्रा कुमावत, अनिता खटोड़, मधु चपलोत, गीता आगाल, सुनीता चाष्टा, मधु शर्मा, उषा शर्मा, संतोष बसेर, तुलसी उपाध्याय, विमला शर्मा ने जलसेवा की शुरुआत की।

5 काउंटर: यात्रियों को बोतल में भी भरकर देंगे पानी... प्लेटफार्म एक से पांच तक सुबह 9 से शाम 6 बजे तक के लिए समिति की ओर से पांच काउंटर लगाए गए हैं। प्रत्येक काउंटर पर 10 से 12 स्वयंसेवक रहेंगे। कोई बुजुर्ग यात्री नीचे उतरने की स्थिति में नहीं है तो उनको ट्रेन के अंदर जाकर पानी पिलाएंगे। कोई यात्री बोतल लेकर आता है तो उसकी बोतल में पानी भरेंगे।

3 लाख का खर्च: आपसी सहयोग से उठाएंगे ... समिति के एक पदाधिकारी ने बताया कि इस सेवा में दो माह तक प्रतिदिन करीब 300 कैन पानी लगेगा। अधिक यात्री दबाव के दिनों में यह संख्या 400 तक भी होगी। प्रति कैन 15 रुपए के हिसाब से प्रतिदिन 4500 से 6000 हजार रुपए खर्च सिर्फ कैन पर होगा। दो माह में कुल तीन लाख रुपए का खर्च अनुमानित है। जो समिति सदस्य आपस में चंदे से एकत्र करेंगे।

कैन पहुंचाने के लिए मोबाइल स्टैंड ... कैन को एक से दूसरे स्थान तक ले जाने के लिए समिति द्वारा मोबाइल स्टैंड भी बनाए गए। ताकि ट्रेन के अंदर या बाहर दूर तक बैठे यात्रियों तक पहुंच हो सके। पानी के लोटों सहित कुंपियां भी काउंटरों पर रखी हैं।

कैंटीन व पार्किंग वाले भी जुटे मदद में ... प्लेटफार्म नंबर पांच पर कैंटीन संचालक शरीफ भाई ने बताया कि समिति दो-तीन साल से यह काम कर रही है। इससे भले ही हमारी कैंटीन पर पानी की पैक बोतलों की बिक्री पर असर पड़ेगा पर हम खुद हर संभव सेवा व सहयोग देंगे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bhilwara

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×