18 हजार किताबों का संग्रह, पढ़ने आते हैं व्याख्याता व शोधार्थी

Bhilwara News - मीरचंदानी ने सिंधी साहित्य की 5 हजार से अधिक किताबों का संरक्षण किया हुआ है। जो भी सिंधी साहित्य पढ़ना चाहता है वह...

Nov 11, 2019, 07:22 AM IST
मीरचंदानी ने सिंधी साहित्य की 5 हजार से अधिक किताबों का संरक्षण किया हुआ है। जो भी सिंधी साहित्य पढ़ना चाहता है वह यहां पढ़ सकता है। अधिकांश सिंधी साहित्य अरबी लिपि में उपलब्ध है जो सिंधी युवा पीढ़ी को समझ नहीं आती हैं। ऐसे में अब देवनागरी लिपि में अनुवाद कर रहे हैं। रोज चार से पांच घंटे निकालकर सिंधी भाषा की किताबों का अनुवाद करते हैं। मीरचंदानी ने मूलत: अजमेर से हैं। नौकरी का अधिकांश समय भीलवाड़ा में बीतने के बाद शहर के बापू नगर में रहने लगे। 100 साल पुरानी अाैर कई दुर्लभ किताबें भी इनके पास मिल सकती हैं।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना