तीन केंद्रीय एजेंसियाें की टीम पहुंची पुर जांच से पहले दिलाई घाटारानी की शपथ

Bhilwara News - भास्कर संवाददाता | भीलवाड़ा पुर के मकानाें व अन्य स्थानाें पर दरारों की जांच करने केंद्रीय संस्थानों की टीम...

Bhaskar News Network

Nov 10, 2019, 07:32 AM IST
Bhilwara News - rajasthan news the team of three central agencies reached ghatarani39s oath before the investigation
भास्कर संवाददाता | भीलवाड़ा

पुर के मकानाें व अन्य स्थानाें पर दरारों की जांच करने केंद्रीय संस्थानों की टीम शनिवार को पहुंची। जांच शुरू कराने से पहले इन्हें लाेगाें ने घाटारानी मंदिर ले जाकर शपथ दिलाई। पुर संघर्ष समिति ने मंदिर में अखंड भी ज्योत जलाई। यह ज्योत जांच जारी रहने तक अनवरत रहेगी। ज्याेत जलाकर लाेगाें ने जांच टीम को कहा कि हमें घाटारानी पर विश्वास है। इसलिए अब आप पर भी विश्वास हाे गया। पूरा उपनगर आपके विश्वास पर टिका हुआ है। सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ माइनिंग एंड फ्यूल रिसर्च, सेंट्रल बिल्डिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट के वरिष्ठ वैज्ञानिकाें वाली टीम के सदस्याें ने भी लाेगाें को आश्वासन दिया कि हम जांच निष्पक्ष करेंगे। जांच में करीब छह महीने लग सकते हैं। समिति के लाेगाें ने एक खनन कंपनी पर आरोप लगाया कि उसका प्रबंधन जांच प्रभावित करता है। घाटारानी मंदिर में पुर के कई लाेग, समिति से जुड़े लाेग समेत एसडीएम टीना डाबी व तहसीलदार अजीतसिंह मौजूद थे। उल्लेखनीय है कि केंद्रीय संस्थानाें की टीमाें में करीब 15 से 20 सदस्य हैं। इनके साथ कई उपकरण भी हैं। समय-समय पर ये टीमें डेटा अपने संस्थानाें में ले जाकर अध्ययन करेंगे। इनकी सहायता के लिए स्थानीय स्तर से भी अधिकारी-कर्मचारी रहेंगे। इस तरह पूरी टीम में करीब 40-45 सदस्य हाेंगे। चित्ताैड़गढ़ किले के 10 किलाेमीटर दायरे में खनन बंद करने का निर्णय काेर्ट ने सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ माइनिंग एंड फ्यूल रिसर्च की जांच रिपाेर्ट के अाधार पर लिया था।

भास्कर संवाददाता | भीलवाड़ा

पुर के मकानाें व अन्य स्थानाें पर दरारों की जांच करने केंद्रीय संस्थानों की टीम शनिवार को पहुंची। जांच शुरू कराने से पहले इन्हें लाेगाें ने घाटारानी मंदिर ले जाकर शपथ दिलाई। पुर संघर्ष समिति ने मंदिर में अखंड भी ज्योत जलाई। यह ज्योत जांच जारी रहने तक अनवरत रहेगी। ज्याेत जलाकर लाेगाें ने जांच टीम को कहा कि हमें घाटारानी पर विश्वास है। इसलिए अब आप पर भी विश्वास हाे गया। पूरा उपनगर आपके विश्वास पर टिका हुआ है। सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ माइनिंग एंड फ्यूल रिसर्च, सेंट्रल बिल्डिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट के वरिष्ठ वैज्ञानिकाें वाली टीम के सदस्याें ने भी लाेगाें को आश्वासन दिया कि हम जांच निष्पक्ष करेंगे। जांच में करीब छह महीने लग सकते हैं। समिति के लाेगाें ने एक खनन कंपनी पर आरोप लगाया कि उसका प्रबंधन जांच प्रभावित करता है। घाटारानी मंदिर में पुर के कई लाेग, समिति से जुड़े लाेग समेत एसडीएम टीना डाबी व तहसीलदार अजीतसिंह मौजूद थे। उल्लेखनीय है कि केंद्रीय संस्थानाें की टीमाें में करीब 15 से 20 सदस्य हैं। इनके साथ कई उपकरण भी हैं। समय-समय पर ये टीमें डेटा अपने संस्थानाें में ले जाकर अध्ययन करेंगे। इनकी सहायता के लिए स्थानीय स्तर से भी अधिकारी-कर्मचारी रहेंगे। इस तरह पूरी टीम में करीब 40-45 सदस्य हाेंगे। चित्ताैड़गढ़ किले के 10 किलाेमीटर दायरे में खनन बंद करने का निर्णय काेर्ट ने सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ माइनिंग एंड फ्यूल रिसर्च की जांच रिपाेर्ट के अाधार पर लिया था।

इन तीन बिंदुअाें पर केंद्रित रहेगी जांच

विशेषज्ञों की टीम तीन बिंदुअाें माइनिंग, सब सरफेस एवं स्ट्रक्चर के आधार पर जांच करेगी।

1. माइनिंग से पड़ने वाले प्रभाव का अध्ययन करने के लिए जिंदल सॉ लिमिटेड की ओर से पिछले डेढ़ साल के दाैरान की गई ब्लास्टिंग के डेटा लेकर डिजाइन बनाई जाएगी। सिस्मोग्राफ से प्रायोगिक ब्लास्ट एवं उससे होने वाले प्रभावों का अध्ययन किया जाएगा।

2. सब सरफेस में हाइड्रो जियोलाॅजिकल इन्वेस्टिगेशन के तहत जल स्त्रोतों के पानी के नमूनों का विश्लेषण, ड्रेनेज सिस्टम और सब सरफेस का अध्ययन किया जाएगा। वहां की मिट्टी और चट्टान के बारे में भी पता लगाया जाएगा।

3. स्ट्रक्चर यानि उपनगर के प्रभावित निर्माणाें की नींव पर पड़ने वाले असर का अध्ययन टीम करेगी। पुर के भवनों का स्ट्रक्चर जांचेंगे। इनसे दरारों के कारणों का पता लगाने में मदद मिलेगी।

X
Bhilwara News - rajasthan news the team of three central agencies reached ghatarani39s oath before the investigation
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना