Hindi News »Rajasthan »Bhinmal» युकां महासचिव ऊमसिंह की जनसंपर्क यात्रा पर विवाद, कांग्रेस जिलाध्यक्ष ने कहा- यह प्रदेशाध्यक्ष के आदेश की अवहेलना

युकां महासचिव ऊमसिंह की जनसंपर्क यात्रा पर विवाद, कांग्रेस जिलाध्यक्ष ने कहा- यह प्रदेशाध्यक्ष के आदेश की अवहेलना

जिलाध्यक्ष से नहीं ली अनुमति, भीनमाल से विस का चुनाव लड़ा था ऊमसिंह ने लेकिन हार गए भास्कर न्यूज | जालोर ...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 31, 2018, 02:05 AM IST

युकां महासचिव ऊमसिंह की जनसंपर्क यात्रा पर विवाद, कांग्रेस जिलाध्यक्ष ने कहा- यह प्रदेशाध्यक्ष के आदेश की अवहेलना
जिलाध्यक्ष से नहीं ली अनुमति, भीनमाल से विस का चुनाव लड़ा था ऊमसिंह ने लेकिन हार गए

भास्कर न्यूज | जालोर

राजस्थान विधानसभा आम चुनावों में अभी तक कुछ महीने बाकी है, लेकिन जालोर जिले की कांग्रेस में वर्चस्व को लेकर घमासान शुरू हो चुका है। प्रदेश कांग्रेस की ओर से जारी किए गए आदेशों के विपरीत बगावत का बिगुल बज उठा है। हाल ही में 28 मार्च को कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट ने एक आदेश जारी किया था, जिसमें स्पष्ट किया था कि किसी भी जिले में चुनावों को लेकर कोई भी पार्टी कार्यकर्ता कार्यक्रम का आयोजन या कोई अभियान शुरू करता है तो उसके लिए ब्लॉक स्तर, जिला स्तर और प्रदेश स्तर से अनुमति आवश्यक लेनी होगी। इसे गंभीरता से नहीं लेने पर पार्टी अनुशासनहीनता की कार्रवाई भी करेगी। प्रदेशाध्यक्ष पायलट के आदेशों को दो दिन भी नहीं बीते कि जिले की भीनमाल विधानसभा क्षेत्र से बगावती तेवर उभरकर सामने आ गए। युवक कांग्रेस प्रदेश महासचिव ने भीनमाल विधानसभा क्षेत्र में 2 अप्रेल से जनसंपर्क यात्रा शुरू करने का ऐलान किया है, लेकिन इस बारे में न तो ब्लॉक स्तर से अनुमति ली गई है और न ही जिला कांग्रेस पार्टी से अनुमति ली। इस बारे में स्वयं प्रदेश युकां महासचिव से पूछने पर उन्होंने भी स्पष्ट कहा कि पार्टी का कोई कार्यक्रम नहीं है, मेरी व्यक्तिगत यात्रा है, इसमें जिलाध्यक्ष से पूछने का कोई मतलब भी नहीं है।

कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट ने दाे दिन पहले ही आदेश जारी कर कहा था कि अग्रिम संगठनों व पदाधिकारियों के लिए किसी भी कार्यक्रम से पहले जिलाध्यक्ष की मंजूरी जरूरी

पिछले चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी रहे ऊमसिंह ने शुरू की तैयारी, जिलाध्यक्ष समरजीतसिंह भी भीनमाल से दावेदार

दरअसल, ऊमसिंह राठौड़ के बगावती तेवर अपनाने के पीछे वजह यह है कि बीते विधानसभा चुनाव वर्ष-2013 में कांग्रेस पार्टी ने ऊमसिंह राठौड़ को पार्टी ने भीनमाल विधानसभा से टिकट दिया था, लेकिन राठौड़ चुनाव में बड़े अंतर से हार गए थे। भीनमाल में वर्ष-1998 से कांग्रेस से डॉ. समरजीतसिंह दावेदार रहे हैं। वर्ष-1998 व 2003 के चुनावों में डॉ. समरजीतसिंह कांग्रेस की टिकट पर चुनाव जीतकर विधायक बने थे, लेकिन वर्ष-2008 में भाजपा के पूराराम चौधरी के सामने हार गए थे। जिस कारण पार्टी ने 2013 में डॉ. सिंह का टिकट काट आहोर विस क्षेत्र के चांदराई निवासी तत्कालीन समय में युवक कांग्रेस के जालोर क्षेत्र लोकसभाध्यक्ष ऊमसिंह राठौड़ को टिकट दिया था, लेकिन राठौड़ हार गए। प्रत्याशी के आधार पर ही इस बार भी ऊमसिंह खुद को भीनमाल से दावेदार के रूप में मानते हुए अब क्षेत्र में सक्रिय हो गए हैं, लेकिन भीनमाल से दो बार विधायक रहे डॉ. समरजीतसिंह अब कांग्रेस के जिलाध्यक्ष है। ऐसे में डॉ. सिंह स्वयं भीनमाल से दावेदार है। दोनों में इसको लेकर तकरार है। ऊमसिंह और जिलाध्यक्ष के बीच दावेदारी को लेकर भी तालमेल ठीक नहीं है। यही वजह है कि ऊमसिंह ने क्षेत्र में अभियान शुरू कर ताकत दिखानी शुरू कर दी है।

ऊमसिंह के दावों और हकीकत में अंतर

हालांकि, ऊमसिंह का कहना है कि ये उनकी निजी यात्रा है, पार्टी की नहीं, लेकिन प्रचार-प्रसार के लिए जो पेंफलेट उपयोग में किए जा रहे हैं, उसमें पार्टी का हवाला देते हुए निवेदक कांग्रेस पार्टी को बताया गया है। जिसमें गहलोत व पायलट के फोटो तो हैं, लेकिन जालोर जिले से किसी भी कांग्रेसी का फोटो शामिल नहीं है। ऊमसिंह की प्रचार सामग्री के अनुसार जनसंपर्क यात्रा 2 अप्रेल से भालनी से शुरू होगी जो कई गांवों में चलेगी। वहीं रात को भीनमाल नगरपालिका क्षेत्र के वार्ड 15 में रात को सभा होगी।

ऊमसिंह चांदराई

जिलाध्यक्ष से मंजूरी की क्या जरूरत : ऊमसिंह

ये यात्रा मैं मेरे स्तर से कर रहा हूं, जिलाध्यक्ष से बातचीत कर अनुमति लेने का कोई मतलब नहीं है। प्रदेश स्तर का कोई कार्यक्रम होता तो अनुमति लेते। -ऊमसिंह राठौड़, प्रदेश महासचिव, युकां

मुझे इस बारे में नहीं बताया

प्रदेशाध्यक्ष का स्पष्ट आदेश है कि किसी भी आयोजना की सूचना जिलाध्यक्ष को देनी जरूरी है। लेकिन यात्रा निकालने की कोई अनुमति नहीं ली गई है। -डॉ. समरजीतसिंह, जिलाध्यक्ष, कांग्रेस

गहलोत- पायलट खेमे में बंटे हैं कांग्रेसी

जिले में ऊमसिंह राठौड़ को पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के गुट का बताया जा रहा है। ऐसे में पिछले दिनों वरिष्ठ कांग्रेसी बद्रीराम जाखड़ बैठक लेने पहुंचे उस समय भी दो स्थानों पर बैठक हुई थी। हालांकि, जालोर में पूर्व में जिलाध्यक्ष नैनसिंह राजपुरोहित थे, लेकिन पायलट के प्रदेशाध्यक्ष बनने के बाद डॉ. समरजीतसिंह को जिलाध्यक्ष बनाया गया। जिस कारण डॉ. सिंह को न केवल पायलट गुट का माना जा रहा है बल्कि इस बार भीनमाल से प्रबल दावेदार भी माना जा रहा है। इसी स्थिति को देखते हुए ऊमसिंह ने अपनी ताकत दिखाने का प्रयास शुरू किया है।

ये तो अनुशासनहीनता, पार्टी को अवगत कराएंगे

मुझसे किसी प्रकार इस बारे में कोई चर्चा नहीं हुई। ऐसी कोई यात्रा मेरे ब्लॉक से कांग्रेसी निकाल रहा है तो अनुशासनहीनता है। पार्टी को अवगत कराएंगे। -इस्माइल खां, ब्लॉक अध्यक्ष, बागोड़ा

पदाधिकारियों को बताएंगे

पार्टी में अनुशासन बनाए रखने के लिए आदेश हैं। आदेशों की अवहेलना करते हुए इस प्रकार से कोई यात्रा निकाल रहा है तो अनुशासनहीनता है। -मांगीलाल, ब्लॉक अध्यक्ष, भीनमाल

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Bhinmal News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: युकां महासचिव ऊमसिंह की जनसंपर्क यात्रा पर विवाद, कांग्रेस जिलाध्यक्ष ने कहा- यह प्रदेशाध्यक्ष के आदेश की अवहेलना
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Bhinmal

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×