भीनमाल

  • Hindi News
  • Rajasthan News
  • Bhinmal News
  • विरोध से बचने के लिए देर रात ऊर्जा राज्यमंत्री ने धानपुर मंदिर में ली बैठक, फिर भी झेलना पड़ा आक्रोश
--Advertisement--

विरोध से बचने के लिए देर रात ऊर्जा राज्यमंत्री ने धानपुर मंदिर में ली बैठक, फिर भी झेलना पड़ा आक्रोश

सरकार की ओर से दी गई जिम्मेदारी को निभाने के लिए जालोर जिले में तीन दिन के प्रवास पर आए ऊर्जा मंत्री...

Dainik Bhaskar

Mar 30, 2018, 02:40 AM IST
विरोध से बचने के लिए देर रात ऊर्जा राज्यमंत्री ने धानपुर मंदिर में ली बैठक, फिर भी झेलना पड़ा आक्रोश
सरकार की ओर से दी गई जिम्मेदारी को निभाने के लिए जालोर जिले में तीन दिन के प्रवास पर आए ऊर्जा मंत्री पुष्पेन्द्रसिंह राणावत को अन्य स्थानों पर पार्टी कार्यकर्ताओं का आक्रोश झेलना पड़ा। इसी डर के चलते मंत्री ने जालोर विधानसभा क्षेत्र की बैठक मुख्यालय के बजाय बुधवार देर रात को धानपुर के आशापुरा मंदिर में ही रख ली। हालांकि, देर रात होने के कारण कई कार्यकर्ता व पदाधिकारी पहले ही चले गए, लेकिन इसके बाद भी मंत्री को कार्यकर्ताओं का आक्रोश झेलना पड़ा। इस पर मंत्री ने संबंधित अधिकारियों को निर्देश जारी किए। इस अवसर पर विधायक अमृता मेघवाल, जिला प्रमुख वन्नेसिंह गोहिल, जिलाध्यक्ष रविन्द्रसिंह बालावत, महिला मोर्चा जिलाध्यक्ष सरजूबाला मत्तड़, सभापति भंवरलाल माली, किसान मोर्चा जिलाध्यक्ष बजरंगसिंह राठौड़, महामंत्री हीराराम जाखड़, मानवेन्द्रसिंह राजपुरोहित, शंकरलाल भादरू, दीपसिंह धनानी, जगदीश आर्य, ओबाराम देवासी, अंबालाल व्यास, अमनदेवेन्द्र मेहता, तीखी सरपंच नाथूसिंह समेत कार्यकर्ता उपस्थित थे।

पूर्व मंत्री गर्ग ने दिया सुझाव : बैठक में पूर्व मंत्री जोगेश्वर गर्ग ने ऊर्जा मंत्री को एक सुझाव दिया कि गांवों में पड़ी गोचर भूमि को गांवों के पशुओं की संख्या के मुताबिक उपयोग में लिया जाए। शेष जमीन पंचायतों के अधीन करने का सुझाव सरकार तक पहुंचाने का आह्वान किया।

जिला परिषद सदस्य मंगलसिंह सिराणा ने कहा कि कर्जा माफी सिर्फ सोसायटी से की है, किसानों को क्या जवाब दें, मंत्री बोले-मैडम का फैसला, मैं कुछ नहीं कर सकता

जालोर. भाजपा की बैठक लेते ऊर्जा मंत्री। फाेटो| भास्कर

सिराणा ने कहा किसानों को क्या जवाब दें

बैठक में जिला परिषद सदस्य मंगलसिंह सिराणा ने मंत्री से सवाल करते हुए कहा कि सरकार ने बजट में किसानों के पचास हजार रुपए तक का कर्ज माफ किया, लेकिन इसमें भी उन किसानों का कर्जा माफ किया, जिन्होंने सोसायटी से ऋण लिया है। सिराणा ने बताया कि सोसायटी से ऋण लेने वाले किसानों की संख्या जिले में बहुत कम है, जिस कारण स्टेट बैंक या अन्य बैंकों से ऋण लेने वाले किसानों को कोई फायदा नहीं मिला है। जब भी क्षेत्र में जाते हैं तो किसान कोसते हैं, हम किसनों को क्या जवाब दें, इस पर मंत्री राणावत बोले कि यह फैसला मैडम (मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे) का है, मैं कुछ नहीं कर सकता।

जो चापलूसी करता है, उनका ही काम होता है : राणावत

आहोर. ऊर्जा राज्य मंत्री पुष्पेंद्रसिंह राणावत ने गुरुवार को आहोर विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ताओं की बैठक ली। कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया कि पार्टी में पक्षपात की बातें होती है, जो चापलूसी करता है, केवल उनका ही काम बनता है। कार्यकर्ताओं ने पंचायतों में बजट को लेकर भी विधायक शंकरसिंह राजपुरोहित के विरुद्ध रोष जताया। इस मौके पर राज्य पशु कल्याण बोर्ड के उपाध्यक्ष भूपेंद्र देवासी, जिलाध्यक्ष रविन्द्रसिंह बालावत व आहोर प्रधान राजेश्वरी कंवर सहित पार्टी पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद रहे।

बिजली कनेक्शन काटने पर जताया विरोध

बैठक में पूर्व नगरध्यक्ष ओटाराम सोलंकी ने ऊर्जा मंत्री के सामने आक्रोश जताया कि किसी उपभोक्ता का एक महीने का बिल भी बकाया है तो डिस्कॉम के अधिकारी जाकर उपभोक्ता का विद्युत कनेक्शन काट देते हैं। इस कारण सरकार की किरकिरी हो रही है। उन्होंने कहा कि कम राशि होने के बाद भी कनेक्शन काटने पर उपभोक्ताओं को जुड़वाने में परेशानी होती है। इस पर मंत्री ने उपस्थित डिस्कॉम के एक्सईएन को निर्देश देते हुए सुधार करने की नसीहत दी।

इसलिए लेनी पड़ी रात को बैठक

दरअसल, भीनमाल व सांचौर में बैठक के दौरान कार्यकर्ताओं का आक्रोश झेलना पड़ा था। जिला मुख्यालय पर भी विधायक की कार्यशैली से कई कार्यकर्ता नाराज नजर आ रहे थे। ऐसे में कार्यकर्ताओं का विरोध कम करने के उद्देश्य से रात को ही मंदिर में बैठक का आयोजन किया गया।

X
विरोध से बचने के लिए देर रात ऊर्जा राज्यमंत्री ने धानपुर मंदिर में ली बैठक, फिर भी झेलना पड़ा आक्रोश
Click to listen..