Hindi News »Rajasthan »Bhinmal» बालसमंद बांध किसानों के लिए साबित हो रहा वरदान, कुओं का बढ़ा जलस्तर

बालसमंद बांध किसानों के लिए साबित हो रहा वरदान, कुओं का बढ़ा जलस्तर

शहर का बालसमंद बांध आसपास के किसानों के लिए तो वरदान साबित हो रहा है साथ ही शहर में जहां-जहां पेयजल की समस्या है...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 06, 2018, 03:55 AM IST

बालसमंद बांध किसानों के लिए साबित हो रहा वरदान, कुओं का बढ़ा जलस्तर
शहर का बालसमंद बांध आसपास के किसानों के लिए तो वरदान साबित हो रहा है साथ ही शहर में जहां-जहां पेयजल की समस्या है वहां रोजाना बांध के आसपास स्थित कुओं से सैकडों टैंकर पानी पहुंचा रहे हैं। बालसमंद बांध में पिछले दो सालों से पानी की आवक होने से भीनमाल शहर सहित आस-पास की ढाणियां, पांचकुआं, निम्बावास, भागलभीम, निम्बोड़ा, भागलभीम, जुंजाणी सहित दर्जनों ढाणियों के किसानों के कृषि कुओं का जलस्तर बढ़ा है। इधर, गर्मी की दस्तक के साथ ही शहर में पेयजल आपूर्ति भी प्रभावित हो रही है ऐसे में बालसमंद बांध के आसपास स्थित कृषि कुओं से शहरवासी पानी मंगवा रहे हं। इस वर्ष अच्छी बारिश से बालसमंद बांध लबालब होने से लोगों को पीने के लिए मीठा पानी उपलब्ध हो रहा है। बांध के आसपास स्थित किसानों के कुओं से रोजाना सैकड़ों की संख्या में टैंकरों के माध्यम से शहर के विभिन्न इलाकों में पेयजल पहुंच रहा है ऐसे में लोगों को पहले जहां टैकरों के माध्यम से खारा पानी उपलब्ध होता था जिससे अब निजात मिल पाई है और उन्हें मीठा पानी उपलब्ध हो रहा है। हालांकि इसके लिए लोगों को प्रति टैंकर शुल्क खर्च करना पड़ता है। गर्मी के मौसम में जलदाय विभाग भी कई बार हाफ जाता है। कई कॉलोनियों में भीषण गर्मी में सप्ताह भर तक पेयजल संकट रहता है तो लोग इन टैंकरों पर ही निर्भर रहते हैं।

इस वर्ष अच्छी बारिश से बालसमंद बांध लबालब होने से लोगों को पीने के लिए मीठा पानी उपलब्ध हो रहा है

बालसमंद बांध क्षेत्र के खेतों में लहलहा रही गेहूं की फसल।

दो साल से लगातार बढ़ रहा जलस्तरआसपास के किसानों ने बताया कि वैसे तो यहां कुओं का जलस्तर ठीक ही रहता है लेकिन पिछले दो सालों से जलस्तर लगातार बढ़ा है। वर्ष 2015 से पूर्व बालसमंद बांध के खाली रहने से पर्याप्त पानी नहीं मिल पा रहा था। महंगे दाम देने पर भी टैंकर मुश्किल से मिलते थे। अब टैंकर २५०-३०० रुपए में मिल जाता है वहीं वर्ष 2015 से पूर्व एक टैंकर ५००-७०० रुपए में भी बड़ी मुश्किल से उपलब्ध होता था।

बांध में पानी की आवक के बाद बढ़ा कुओं का जलस्तर।

मीठे पानी से होती है अच्छी पैदावार

दो साल से बालसमंद बांध में पानी की अच्छी आवक होने से कुओं का जलस्तर बढ़ा है। इस बार मैंने अरण्डी, गेहूं इत्यादि की फसल बोई है। पानी मीठा होने से फसल भी अच्छी होती है ऐसे में बालसमंद बांध आसपास के किसानों के लिए वरदान साबित हो रहा है। -खीमचंद राजपुरोहित, प्रगतिशील किसान, भीनमाल

बारिश में बालसमंद बांध के लबालब होने के बाद कुओं का जलस्तर बढ़ गया है। फिलहाल शहर में पेयजल आपूर्ति सुचारू हो रही है लेकिन कई बार तकनीकी समस्या की वजह से जलापूर्ति बाधित होती है तो लोग स्वयं के स्तर पर टैंकर भी मंगवाते हैं। -डीसी डांगी, अधीक्षण अभियंता, जलदाय विभाग, भीनमाल

हो रही सब्जियों की बंपर पैदावार

बालसमंद बांध क्षेत्र के चारों तरफ स्थित कृषि कुओं का जलस्तर बढ़ा हुआ होने से दर्जनों किसान हरी सब्जियों की बंपर पैदावार ले रहे हैं। किसान टमाटर, मिर्च, बैंगन, गोभी, धनिया, गाजर व मूली की पैदावार ले रहे हैं। अनाज के मुकाबले सब्जियों में अधिक आय होने की वजह से किसान सब्जियों की तरफ ज्यादा ध्यान दे रहे हैं। मीठा पानी होने से सब्जियां भी अच्छी गुणवत्ता की हो रही है। मीठे पानी की सब्जियां होने से मंडी में इसकी अधिक डिमांड रहती है। हरी सब्जियों के साथ कई किसान तो फूलों की भी खेती कर रहे हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Bhinmal News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: बालसमंद बांध किसानों के लिए साबित हो रहा वरदान, कुओं का बढ़ा जलस्तर
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Bhinmal

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×