भीनमाल

--Advertisement--

कभी कचरे के ढेर थे, वहां अब नजर आ रही हरियाली की छांव

उपखण्ड क्षेत्र के अधिकतर गांवों में जहां कूडा, कचरा और गंदगी नजर आती है, वही उपखण्ड से मात्र 14 किमी दूर कोटकास्ता...

Dainik Bhaskar

Apr 30, 2018, 02:05 AM IST
कभी कचरे के ढेर थे, वहां अब नजर आ रही हरियाली की छांव
उपखण्ड क्षेत्र के अधिकतर गांवों में जहां कूडा, कचरा और गंदगी नजर आती है, वही उपखण्ड से मात्र 14 किमी दूर कोटकास्ता गांव में साफ-सफाई व शुद्ध जलवायु मिलती है। स्वच्छ भारत मिशन के तहत दिसंबर माह में ही पंचायत समिति स्तर पर कोटकास्ता ग्राम पंचायत का चयन मॉडल के रूप में किया गया था। अब सरपंच ने स्वच्छता में चार चांद लगाने के लिए गांव के तालाब में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के तहत पार्क तैयार करवाया है।

स्वच्छता में मॉडल चयनित कोटकास्ता गांव में ३४.०७ लाख की लागत से बनाया जा रहा है पार्क

भीनमाल. पार्क को विकसित करने के लिए कार्य करते मजदूर।

अब तक लगाए २२०० पेड-पौधे

गांव के सौंदर्यीकरण के लिए कोटकास्ता में बनाए जा रहे इस पार्क में अब तक २ हजार २०० पेड-पौधे लगाए गए हैं जिसमें नीम, पीपल, आसोपाल, गुलाब, नींबू, अनार, चीकू सहित कई फलों के वृक्ष शामिल है। इन वृक्षों को पानी देने के लिए रोजाना मजदूरों को लगाया जाता है। सरपंच स्वयं प्रतिदिन यहा पहुंच कार्य की प्रगति के बारे में दिखते हैं।

विकसित होगा पार्क



X
कभी कचरे के ढेर थे, वहां अब नजर आ रही हरियाली की छांव
Click to listen..