• Home
  • Rajasthan News
  • Bhinmal News
  • आहोर में 57 व जालोर में 46 एमएम बारिश, भीनमाल-सांचौर में बूंदाबांदी
--Advertisement--

आहोर में 57 व जालोर में 46 एमएम बारिश, भीनमाल-सांचौर में बूंदाबांदी

भास्कर न्यूज | जालोर/भीनमाल/सांचौर पिछले दिनों गर्मी व उमस से मंगलवार देर रात को राहत मिली। आसमान में छाए बादल...

Danik Bhaskar | Jun 28, 2018, 02:20 AM IST
भास्कर न्यूज | जालोर/भीनमाल/सांचौर

पिछले दिनों गर्मी व उमस से मंगलवार देर रात को राहत मिली। आसमान में छाए बादल बरस ही पड़े। रात को करीब ढाई बजे शुरू हुई बूंदाबांदी के कुछ देर बाद जमकर बारिश हुई। जालोर में 46 व आहोर उपखंड मुख्यालय पर रात को 38 एमएम बारिश हुई। जालोर में कृषि मंडी में खुले में रखी बोरियां भीग गई।

वहीं आहोर में नालियों में निकासी के अभाव में पानी गलियों में जमा हो गया। जिससे लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी। बारिश के बाद बुधवार को सुबह भी आसमान में बादल छाए रहे, कभी हल्की उमस रही तो कभी ठंडी बयार भी चली। हालांकि, जालोर में दिन में बादल बरसे नहीं, लेकिन आहोर में बुधवार को भी दिन में 19 एमएम बारिश दर्ज की गई। वहीं बागोड़ा में भी रात को 21 तथा दिन में 12 एमएम बारिश दर्ज की गई। बारिश के बाद दिनभर मौसम खुशगवार बना रहा। जिससे लोगों को उमस से राहत मिली।

इधर, भीनमाल व सांचौर मुख्यालय पर हल्की बूंदाबांदी हुई। हालांकि आसमान में बादल छाए रहे, लेकिन दिन में बरसात नहीं हुई। जिस कारण उमस से लोग परेशान रहे।

चितलवाना| उपखंड क्षेत्र के आसपास बुधवार को अलसुबह अचानक हल्की बरसात हुई। क्षेत्र के भादरूणा गांव मे सुबह 7 बजे करीब 15 मिनट मूसलधार बरसात से पानी जमा हो गया।

आहोर| रात को बारिश होने के बाद दिन में उमस ने परेशान किया। इसके बाद बुधवार दोपहर को फिर से घनघोर घटा छा गई। दिन में करीब तीन बजे मूसलाधार बारिश हुई। जिससे लोगों को राहत मिली। इस बारिश से किसानों के चेहरे खिल उठे हैं।

पहली ही बारिश में जालोर में कलेक्ट्रेट व एसबीआई बैंक के बाहर जमा हुआ पानी

कहां कितनी हुई बारिश

आहोर. कस्बे में बारिश होने से कई स्थानों पर पानी भर गया। फोटो| भास्कर

कृषि मंडी के अधिकारियों की लापरवाही के कारण मंडी में रखी डेढ़ हजार बोरियां भीगी, नुकसान किसानों को नहीं सरकार को

कृषि मंडी के अधिकारियों की लापरवाही के कारण मंडी परिसर में रखी चने से भरी बोरियां बारिश में भीग गई। सुबह बोरियां को दूसरे स्थान पर रखवाया गया। हालांकि, इससे किसानों को किसी प्रकार का नुकसान नहीं हुआ है। दरअसल, ये बोरियां तोल कर जमा करवाई गई थी। जिस कारण मंडी की जिम्मेदारी थी। करीब डेढ़ हजार बोरियां खुली ही पड़ी थी, जिस कारण बारिश के दौरान सुरक्षित नहीं कर पाए और बोरियों के नीचे का तल भीग गया। कुछ चना खराब होने की आशंका भी बनी है।

आहोर में

57 एमएम

जालोर में

46 एमएम

बागोड़ा में

33 एमएम

जसवंतपुरा में

05 एमएम

एसबीआई के सामने जमा हो गया गंदा पानी

बारिश को लेकर नगरपरिषद ने कोई तैयारी नहीं कर रखी थी। नाले-नालियों की निकासी की व्यवस्था नहीं होने के कारण बुधवार सुबह कलेक्ट्रेट परिसर व एसबीआई बैंक के आगे सड़क पर गंदा पानी जमा हो गया। जिस कारण आमजन को परेशानी झेलनी पड़ी। नगरपरिषद में सफाई समिति की बैठक भी लंबे समय से नहीं हुई है और न ही शहर की नालियों की मरम्मत व निकासी को लेकर कार्य किया जा रहा है। जिस कारण हल्की सी बारिश में ही लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।