• Hindi News
  • Rajasthan
  • Bhinmal
  • 24 घंटे तक चली वन्यजीव गणना नीलगाय की संख्या में बढ़ोतरी किसानों के लिए बनेगी मुसीबत
--Advertisement--

24 घंटे तक चली वन्यजीव गणना नीलगाय की संख्या में बढ़ोतरी किसानों के लिए बनेगी मुसीबत

भीनमाल. हातिमताई जोड़ में वन्यजीव गणना करते हुए वन विभाग के कर्मचारी। भास्कर न्यूज | भीनमाल क्षेत्र में खेती...

Dainik Bhaskar

May 03, 2018, 02:25 AM IST
24 घंटे तक चली वन्यजीव गणना 
 नीलगाय की संख्या में बढ़ोतरी किसानों के लिए बनेगी मुसीबत
भीनमाल. हातिमताई जोड़ में वन्यजीव गणना करते हुए वन विभाग के कर्मचारी।

भास्कर न्यूज | भीनमाल

क्षेत्र में खेती को बर्बाद करने वाले जंगली वन्यजीव नीलगाय की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। वन-विभाग की ओर से इस बार करवाई गई वन्यजीव गणना के आंकड़ों की मानें तो इनकी आबादी तेजी से बढ़ी है। इनकी संख्या में हो रहा इजाफा किसानों के लिए और बड़ी मुसीबत बनता जा रहा है। भीनमाल क्षेत्र के वन संरक्षण क्षेत्र हातिमताई जोड व जुंजाणी जोड के पास रहने वाले किसान खेती करने से डरते हैं। इसकी वजह है कि नीलगाय के झुंड इन खेतों पर आक्रमण कर देते हैं। यही नहीं इनके झुंड खड़ी फसलों का नुकसान पहुंचाते है। कई बार नीलगाय किसान पर हमला तक कर देती हैं।

वनविभाग के रेंजर मगसिंह चौहान ने बताया की नीलगाय की संख्या गतवर्ष में 149 थी तथा वर्तमान में इनका आंकड़ा 449 तक पहुंच गया है। आंकड़े से साफ है कि इनकी आबादी में तेजी से इजाफा हो रहा है। इधर राष्ट्रीय पक्षी मोर की संख्या में भी इजाफा हुआ है। 2014 में मोर की संख्या 206 थी वही वर्तमान में इनकी संख्या 562 तक पहुंच गई है। रेंजर मगसिंह चौहान ने बताया कि नीलगाय व मोर की सबसे ज्यादा संख्या हातिमताई जोड व जुंजाणी जोड में है यहा पर घना जंगल होने की वजह से लोगों की आवाजाही न के बराबर है। वही पानी व विचरण के लिए पर्याप्त जगह होने से नीलगाय व मोर की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है।

X
24 घंटे तक चली वन्यजीव गणना 
 नीलगाय की संख्या में बढ़ोतरी किसानों के लिए बनेगी मुसीबत
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..