Hindi News »Rajasthan »Bhinmal» अंतिम दिन सुदामा चरित्र कथा सुन छलक पड़ी श्रद्धालुओं की आंखें

अंतिम दिन सुदामा चरित्र कथा सुन छलक पड़ी श्रद्धालुओं की आंखें

गुडा बालोतान. भागवत कथा के दौरान कथा वाचन करते कथावाचक व मौजूद श्रद्धालु। रामस्नेही साधु संतो के सानिध्य में...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 14, 2018, 02:35 AM IST

  • अंतिम दिन सुदामा चरित्र कथा सुन छलक पड़ी श्रद्धालुओं की आंखें
    +2और स्लाइड देखें
    गुडा बालोतान. भागवत कथा के दौरान कथा वाचन करते कथावाचक व मौजूद श्रद्धालु।

    रामस्नेही साधु संतो के सानिध्य में व्यासपीठ एवं श्रीमद् भागवत पुराण की महाआरती उतारी गई

    भास्कर न्यूज|गुडाबालोतान

    स्थानीय रामद्वारा परिसर में पुरुषोत्तम मास को लेकर पिछले छ: दिनों से आयोजित हो रही श्रीमद् भागवत गीता महापुराण का बुधवार को समापन हुआ। अंतिम दिन कथावाचक रामस्नेही संत मनसुखराम महाराज ने श्री कृष्ण रूकमणि विवाह, सुदामा चरित्र, दत्तात्रेय के 24 गुरुओं की कथा, परीक्षित मोक्ष का वृत्तांत श्रवण करवाया। भजन गायकों की ओर से सुनो द्वारपालों कन्हैया से कह दो... दर पे तुम्हारे सुदामा आया है... की प्रस्तुति दी गई। समापन पर आहोर महंत सुंदरपुरी महाराज समेत अन्य रामस्नेही साधु संतो के सानिध्य में व्यासपीठ एवं श्रीमद् भागवत पुराण की महाआरती उतारी गई। इस मौके पर शांतीलाल दवे, जगदीश सोनी, जयंतिलाल सोनी, शांतिलाल सोनी, फूलाराम लोहार, फूसाराम लोहार, झालाराम, भेरूमल छीपा, हीराराम सुथार, रामलाल सुथार, सतीश व्यास, जितेन्द्र कुमार व्यास, सरताज खां, मुश्ताक खां, ईदाराम प्रजापत, भंवरसिंह बालोत, मूलसिंह, छैलसिंह, रघुवीरदास, चंपालाल वैष्णव, लेखदास, प्रेमदास आदि मौजूद थे।

    अधिकमास के उपलक्ष्य में किया लघु रूद्राभिषेक

    भीनमाल| स्थानीय बड़े चोहटे पर स्थित इंदेश्वर महादेव मंदिर में अधिक मास के उपलक्ष्य में लघु रूद्र का आयोजन किया गया। वेदपाठी पं. नरोत्तमलाल दवे के आचार्यत्व में एकादश ब्राह्मणों के द्वारा शिवलिंग पर दूध, गन्ना, विजया व जल से मंत्रों के साथ रूद्राभिषेक कर विश्व कल्याण की कामना की गई। इस अवसर पर पंडित प्रदीप त्रिवेदी, अमित व्यास, शंभूलाल दवे, रामचंद्र दवे, दिनेश दवे, बालकृष्ण दवे, जगदीश दवे सहित कई विप्र बंधु उपस्थित रहे।

    केशवना में शंखनाद के साथ शुरू हुई नगर परिक्रमा

    केशवना | केशवना में हिंदू जागरण मंच की ओर से बुधवार को पुरुषोत्तम मास पूर्ण होने पर नगर परिक्रमा व प्रभातफेरी बुधवार सुबह 4 बजे द्वारकाधीश मंदिर से संत दुर्गाराम महाराज व जीतुसिंह धांधल ने शंखनाद कर रवाना की। परिक्रमा रामदेव मंदिर, अंबेमाता मंदिर, सुभद्रा माता, शीतला माता मंदिर, लिखमीदास मंदिर, राजारामजी मंदिर, गोगाजी मंदिर, महादेव मंदिर, हनुमान मंदिर समेत अन्य देवस्थानों के दर्शन कर गांव के मुख्य मार्ग व सुथारों का वास आम चोहटा व रेबारियों का वास चौधरियों का वास होते हुए विसर्जित हुई। इस मौके पर साकलाराम माली, अभयदास, गणपतसिंह पुरोहित, कांतिलाल राव, श्याम शर्मा, वानीसिंह काम्बा, तरुणसिंह, सुमेरसिंह कवराड़ा, प्रवीणसिंह भाटी, मालमसिंह परमार, दिनेश सुथार व अमराराम सहित अन्य मौजूद थे।

    श्रीमद् भागवत कथा का समापन, अंतिम दिन सुनाया कंस वध वृत्तांत

    हरजी | कस्बे के आम चोहटे पर पुरुषोत्तम मास के तहत आयोजित श्रीमद् भागवत कथा महोत्सव का बुधवार को समापन हुआ। अंतिम दिन व्यासपीठ पर विराजमान कथावाचक प्रेमहरि महाराज ने श्री कृष्ण रूकमणि हरण एवं विवाह, श्री कृष्ण द्वारा कंस वध एवं सुदामा चरित्र समेत भागवत कथा की अन्य रचनाओं का संगीतमयी वृतांत श्रवण करवाया। इस दौरान भजन गायक जगदीश माली समदडी, श्याम कुमार फलौदी, जगदीश वैष्णव जोधपुर द्वारा भजनों की संगीतमयी प्रस्तुतियां दी गई। झांकी कलाकार नंदूभाई सुजानगढ़ की ओर से श्रीमद् भागवत प्रसंग से जुड़ी आकर्षक झांकियों की प्रस्तुतियां दी गई। तथा श्रीमद् भागवत गीता पुराण के समापन पर व्यासपीठ महाआरती उतारी गई तथा कथावाचक को विदाई दी गई। इस मौके भाजपा जिला मंत्री छगनसिंह राजपुरोहित, दीपाराम सेन, रमेश पुरोहित, मांगीलाल पुरोहित, दिनेश शर्मा, सुखराम, भंवरपुरी, मदनदास, धनराज नामा, प्रवीण लखारा, मंछाराम सुथार, नेनाराम सुथार, नंदलाल सोनी, यश क्लब के कार्यकर्त्ता समेत ग्रामीण मौजूद रहे।

  • अंतिम दिन सुदामा चरित्र कथा सुन छलक पड़ी श्रद्धालुओं की आंखें
    +2और स्लाइड देखें
  • अंतिम दिन सुदामा चरित्र कथा सुन छलक पड़ी श्रद्धालुओं की आंखें
    +2और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bhinmal

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×