Hindi News »Rajasthan »Bhinmal» 7 वर्ष बाद भी जीएलआर नहीं जोड़े पाइप लाइन से, अब गिरने की कगार पर पहुंची कई टंकिया

7 वर्ष बाद भी जीएलआर नहीं जोड़े पाइप लाइन से, अब गिरने की कगार पर पहुंची कई टंकिया

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 25, 2018, 03:50 AM IST

7 वर्ष बाद भी जीएलआर नहीं जोड़े पाइप लाइन से, अब गिरने की कगार पर पहुंची कई टंकिया
जेतू गांव में जीएलआर का निर्माण कावतरा ग्राम पंचायत ने नहीं करवाया है। मुझे इस जीएलआर के बारे में जानकारी नहीं है। अगर बनाया भी होगा तो वहां पेयजल आपूर्ति सुचारू रूप से हो रही होगी। मैं इस बारे में कल पता करवाकर बताउंगा। -नाथाराम, ग्राम सेवक कावतरा

भीनमाल. जेतू में जीएलआर, जिसे पाइप लाइन से जोड़ा ही नहीं, इसी प्रकार थोबाऊ में पाइप के अभाव में नकारा साबित हो रहा जीएलआर।

वर्ष २०१२ में ग्राम पंचायत कावतरा की ओर से अपने अधीन आने वाले जेतू गांव में जेपाराम सुथार व हिरा चौधरी के बेरे के पास जीएलआर व पशु खेली का निर्माण करवाया था। २०११-१२ में स्वीकृत टीएफसी मद के तहत 75 हजार रुपए की लागत से बना यह जीएलआर सात वर्ष गुजर जाने के बाद भी पाइप लाइन से नहीं जुड़ पाया है। ग्रामीणों ने बताया कि सात वर्ष पूर्व बेरों पर पेयजल के लिए किल्लत हो रही थी इस समस्या को लेकर जनप्रतिनिधियों को अवगत करवाया गया। जिस पर यहां जीएलआर की स्वीकृति दी। जीएलआर बनकर तैयार हुआ तो आसपास के बेरे पर निवास करने वाले लोगों में खुशी छा गई। जैसे-जैसे समय बीतता गया तो ग्रामीणों की यह खुशी काफूर हो गई। ग्राम पंचायत ने भी जीएलआर बनाने के बाद कभी इसकी सुध नहीं ली। जिससे यह पेयजल पाइप लाइन से नहीं जुड़ पाया। लंबा समय होने के कारण अब जगह-जगह से क्षतिग्रस्त हो गया है। ऐसे में इसका कोई उपयोग अब नहीं हो सकता है।

केस-1

जीएलआर का निर्माण होने के बाद इसमें अभी तक पानी आया ही नहीं है। अब यह क्षतिग्रस्त हो चुका है। ऐसे में पाइप लाइन से जोड़ने पर भी पानी का लीकेज होगा। इस तरह इसका निर्माण करवाना व्यर्थ साबित हुआ है। - नरपत कुमार, ग्रामवासी जेतू

भीनमाल पंचायत समिति के थोबाऊ गांव में भी जीएलआर बनने के बाद पेयजल पाइप से नहीं जोड़ने का मामला सामने आया है। थोबाऊ में स्वामीनारायण मंदिर के पास जीएलआर का निर्माण करीब तीन माह पूर्व करवाया गया था। जिसको अभी तक पाइप लाइन से नहीं जोड़ा गया है। सत्तार खान ने बताया कि पेयजल को पाइप लाइन जोड़ने के लिए जलदाय विभाग को कई बार लिखित में भी अवगत करवाया, लेकिन कोई समाधान नहीं हुआ है। आगामी दिनों में भयंकर गर्मी पड़ने पर ग्रामीणों को पेयजल के लिए परेशानी झेलनी पड़ेगी। समय रहते अगर विभाग ने इसको पेयजल पाइप लाइन से जोड़ा होता तो ग्रामीणों को पेयजल के लिए काफी राहत मिलती।

केस-1

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bhinmal

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×