• Home
  • Rajasthan News
  • Bhinmal News
  • वाहनों की हो रही थी चैकिंग, रोडवेज बस की तलाशी ली तो मिला 1 किलो 500 ग्राम अफीम
--Advertisement--

वाहनों की हो रही थी चैकिंग, रोडवेज बस की तलाशी ली तो मिला 1 किलो 500 ग्राम अफीम

भीनमाल में उदयपुर-भीनमाल की रोडवेज बस से दो युवकों के कब्जे से अफीम का दूध बरामद भास्कर न्यूज | भीनमाल वाहनों...

Danik Bhaskar | Jun 26, 2018, 02:50 PM IST
भीनमाल में उदयपुर-भीनमाल की रोडवेज बस से दो युवकों के कब्जे से अफीम का दूध बरामद

भास्कर न्यूज | भीनमाल

वाहनों की जांच अभियान के दौरान स्थानीय पुलिस ने रविवार रात्रि में राजस्थान रोडवेज की बस से दो आरोपियों के कब्जे से एक किलो 500 ग्राम अवैध अफीम का दूध बरामद किया गया। दोनों आरोपी मध्यप्रदेश के नीमच जिले के रहने वाले है। दूध की सप्लाई कहा दी जानी थी इसके बारे में आरोपियों को पुलिस रिमांड पर लेकर पूछताछ चल रही है। पुलिस उप निरीक्षक जगतसिंह ने बताया कि रविवार रात्रि 8 बजे वाहनों की चैकिंग के दौरान रामसीन रोड पर 72 जिनालय के पास राजस्थान रोडवेज की उदयपुर से भीनमाल चलने वाली बस को रुकवाया गया। बस के अंदर तलाशी ली गई तो सीट नं. २५ व २६ पर बैठे मध्यप्रदेश के नीमच जिलान्तर्गत मनासा निवासी भोपालसिंह (४०) पुत्र कमलसिंह सिसोदिया व सुरेश कुमार (२०) पुत्र रामलाल नायक की गतिविधियां संदिग्ध पाई गई। दोनों के बैग की तलाशी ली गई तो बैग के अंदर एक किलो 500 ग्राम अवैध अफीम का दूध पाया गया। पुलिस ने एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्यवाही कर आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। अफीम दूध की सप्लाई किसको दी जानी थी इसका खुलासा पुलिस रिमांड के बाद ही खुल पाएगा। दोनों आरोपियों को न्यायालय में पेश करने पर पुलिस रिमांड पर सौंपा गया।

एमपी से जुड़े है तस्करी के तार : मध्यप्रदेश का मालवा इलाका अफीम की खेती के लिए जाना जाता है। यहा नारकोटिक्स ब्यूरो की निगरानी में लाइसेंस सुद्दा अफीम की खेती की जाती है। लेकिन तस्कर सांठ-गांठ कर जहा अफीम की डिमांड ज्यादा रहती है वहा डिलेवरी देने के लिए खुद आते है इसके लिए उन्हें मोटी रकम मिलती है। अफीम दूध की सप्लाई देने के लिए ज्यादातर सिरोही जिले के स्थित रास्तों का उपयोग किया जाता है। पिछले रिकॉर्ड देखे तो अफीम दूध परिवहन में गिरफ्तार ज्यादातर आरोपी मध्यप्रदेश के ही रहने वाले है।

निकलते हैं कई अवैध वाहन

स्थानीय पुलिस द्वारा रविवार रात्रि में 72 जिनालय के पास वाहनों की चैकिंग के लिए अभियान के तहत नाकाबंदी कर बस को रुकवाया गया था तभी संदिग्ध आरोपी गिरफ्त में आए। लेकिन 24 घंटो में रोजाना ऐसे कई अवैध वाहन निकलते है जिनकी नंबर प्लेट भी संदिग्ध होती है। कई वाहनों के काले सीसे लगे होते है ऐसे में पुलिस गश्त का अभाव होने से ऐसे वाहन बेखौफ निकल जाते है।