Hindi News »Rajasthan »Bhiwadi» सारेकलां बांध में छोड़ सकते हैं भिवाड़ी का गंदा पानी: रामहेत

सारेकलां बांध में छोड़ सकते हैं भिवाड़ी का गंदा पानी: रामहेत

किशनगढ़बास विधायक रामहेत सिंह यादव ने कहा कि भिवाड़ी औद्योगिक क्षेत्र से निकलने वाले पानी का सही तरीके से निस्तारण...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 30, 2018, 02:40 AM IST

किशनगढ़बास विधायक रामहेत सिंह यादव ने कहा कि भिवाड़ी औद्योगिक क्षेत्र से निकलने वाले पानी का सही तरीके से निस्तारण नहीं हो रहा है। यह पानी खुश्खेड़ा में एकत्रित हो रहा है। जिससे आसपास के गांवों में भूजल खराब हो रहा है। गुरुवार को भिवाड़ी आए यादव ने कहा कि यहां सीईटीपी से केवल कुछ क्षेत्र की इकाइयों का ही पानी साफ हो रहा है। शेष जगह पर इकाइयों का पानी तो वहीं भरा रहता है। खुश्खेड़ा देखिए, वहां के हालात तो बहुत खराब हैं। इसके समाधान के लिए इस पानी को सारेकलां बांध में छोड़ा जा सकता है। मैंने कई बार इसके लिए आवाज उठाई है।

जनलेखा कमेटी को बताई थी समस्या : उन्होंने बताया कि गंदे पानी की इस समस्या की जांच के लिए जनलेखा कमेटी खुश्खेड़ा पहुंची थी। रास्ते में लालपुर, आकोली ऊजोजी, कायमपुर, जोखावास, बूढ़ीबावल, राबड़का, कतोपुर, करीरीवास, हजनाका, जाटूवास, सिलपटा, आननका, नरवास आदि गांवों के ग्रामीणों ने उन्हें रोक कर अपनी समस्याएं बताई थी। विधायक ने कहा कि खुश्खेड़ा में पानी एकत्रित रहने से उनके गांवों का भूजल खराब हो रहा है। चूंकि इन गांवों का जलस्तर बहुत ऊंचाई पर है। इससे बहुत समस्या हाे रही है। उस समय कमेटी में आए पदाधिकारियों ने इस समस्या के समाधान का आश्वासन दिया था।

पहले थी बहुत बड़ी समस्या

विधायक यादव ने कहा कि पहले यह पानी भिवाड़ी औद्योगिक क्षेत्र से पाइप से लालपुर पुलिया के पास जा रहा था। वहां खुले में ऊजोली गांव की सीमा में भरता था। वर्ष 2011 में उन्होंने विधायक रहते हुए विधानसभा में यह बात रखी। इसकी जांच के लिए तत्कालीन मुख्यमंत्री अशोक गहलाेत ने इसकी जांच के लिए एक उच्च स्तरीय कमेटी बनाई। तब तक यह पानी खुश्खेड़ा में ही रोक दिया गया। इसके बाद ग्रामीणों ने पाइप लाइनों में सीमेंट कंक्रीट लगाकर इस पानी को रोक दिया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bhiwadi

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×