• Hindi News
  • Rajasthan News
  • Bhiwadi News
  • रात के अंधेरे में उड़ रही आबकारी नियमों की धज्जियां, शहर के अधिकांश ठेकों पर ऐसे ही हालात
--Advertisement--

रात के अंधेरे में उड़ रही आबकारी नियमों की धज्जियां, शहर के अधिकांश ठेकों पर ऐसे ही हालात

शहर में आबकारी नियमों को ताक पर रखकर रात आठ बजे बाद भी ठेकों से शराब की खुलेआम बिक्री की जा रही है। निर्धारित समय...

Dainik Bhaskar

Apr 06, 2018, 03:35 AM IST
रात के अंधेरे में उड़ रही आबकारी नियमों की धज्जियां, शहर के अधिकांश ठेकों पर ऐसे ही हालात
शहर में आबकारी नियमों को ताक पर रखकर रात आठ बजे बाद भी ठेकों से शराब की खुलेआम बिक्री की जा रही है। निर्धारित समय रात आठ बजे बाद शटर के नीचे से और पिछले दरवाजों से सेल्समैन शराब बेचते देखे जा सकते हैं। शहर के यूआईटी थाने से महज 200 मीटर की दूरी पर पुलिस की नाक के नीचे यह खेल खुलेआम चल रहा है। इसके अलावा शहर के अन्य ठेकों पर भी अमूमन ऐसे ही हालात हैं। शिकायतों के बाद भी आबकारी व पुलिस विभाग इनके खिलाफ प्रभावी कार्रवाई नहीं कर पा रहे हैं। शहर में स्थित अंग्रेजी शराब के ठेकों पर रात में भी खुलेआम शराब बिक्री को लेकर दैनिक भास्कर ने जायजा लिया तो ये साफ हो गया कि बेरोकटोक शराब की बिक्री की जा रही है। आठ बजे के बाद भी ठेकों से किसी भी ब्रांड की शराब लेना बेहद आसान काम है बस इसके लिए ग्राहकों को कुछ अतिरिक्त कीमत चुकानी पड़ती है। शराब ठेकों के कर्मचारी जिसे बेखौफ तरीके से निर्धारित समय के बाद भी बिक्री करते हैं, उससे संबंधित विभागों की मिलीभगत से भी इंकार नहीं किया जा सकता।

रात 8 बजे के बाद थाने से 200 मीटर की दूरी पर बिकती है शराब

भिवाड़ी में रात आठ बजे के बाद एक ठेके की शटर के नीचे से शराब खरीदते लोग।



थाने से दो सौ मीटर दूरी पर ही चलता है खेल

यूआईटी फेज 3 थाने से महज दो सौ मीटर की दूरी पर स्थित एक अंग्रेजी शराब के ठेके पर रात आठ बजे के बाद शराब बिक्री का खुला खेल पिछले दरवाजे से चलता हुआ देखा जा सकता है। सामने से देखने पर ठेका बंद नजर आता है। लेकिन ठेके के पिछले रास्ते से ग्राहकों को बेझिझक शराब सप्लाई की जाती है। इसके लिए प्रत्येक ब्रांड की निर्धारित कीमत से 30-40 रुपए अतिरिक्त वसूले जाते हैं। ग्राहक भी निर्धारित समय के बाद शराब मिलने की सहूलियत को देखते हुए इन्हें देने में कोई आनाकानी नहीं करता।

गश्ती दल का भी नहीं खौफ शहर के बस स्टैंड रोड पर स्थित एक ठेके पर दैनिक भास्कर को रात के समय शटर के नीचे से ग्राहक शराब खरीदते नजर आए। यहां दुकान के आगे अंधेरा कर दिया जाता है ताकि शटर के नीचे झुककर शराब लेते लोग नजर नहीं आएं। अलवर बाइपास पर स्थित एक ठेके पर देखे गए। यहां भी शटर बजाने पर ग्राहक से उसका ब्रांड पूछा जाता है और फिर पैसे लेकर शटर के नीचे से सामान सरका दिया जाता है। अलवर बाइपास पर रात में पुलिस की गश्ती गाड़ी भी कई बार गुजरती है लेकिन उसकी निगाह इन पर नहीं जाती।

दिन में एमआरपी से अधिक की वसूली : शहर के कुछ ठेकों पर तो दिन में भी एमआरपी से अधिक की वसूली की जा रही है। शराब को सामाजिक बुराई के रूप में देखा जाता है, ऐसे में ग्राहक इसको लेकर ज्यादा हो-हल्ला भी नहीं करते। ग्राहकों ने बताया कि दिन में भी निर्धारित एमआरपी से 10 से 20 रुपए सेल्समैन वसूलते हैं। विरोध करने पर कहीं भी शिकायत करने की बात कहते हैं। ठेकों पर काम करने वाले सेल्समैनों का वेतन बहुत कम होता है, एमआरपी से अधिक वसूली करके ही वो अपना काम चलाते हैं, जिसमें मालिक का भी हिस्सा होता है।

यहां कर सकते हैं शिकायत : दिन में एमआरपी से अधिक रुपए वसूलने व रात में निर्धारित समय के बाद शराब बिक्री की शिकायत आम आदमी राजस्थान आबकारी विभाग के टोलफ्री नंबर 18001806436 पर कर सकता है। यहां आपकी जानकारी गुप्त रखी जाकर जांच करा कार्रवाई की जाती है।

X
रात के अंधेरे में उड़ रही आबकारी नियमों की धज्जियां, शहर के अधिकांश ठेकों पर ऐसे ही हालात
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..