• Home
  • Rajasthan News
  • Bhiwadi News
  • 18 हजार फीट की ऊंचाई पर आंध्रप्रदेश के 16 बच्चों को जाटूबास पीएचसी की स्टाफ नर्स ने दिया प्रशिक्षण
--Advertisement--

18 हजार फीट की ऊंचाई पर आंध्रप्रदेश के 16 बच्चों को जाटूबास पीएचसी की स्टाफ नर्स ने दिया प्रशिक्षण

भिवाड़ी | क्षेत्र की जाटूबास पीएचसी में स्टाफ नर्स के पद पर तैनात पर्वतारोही आशा झाझडिय़ा ने आंध्रप्रदेश सरकार के...

Danik Bhaskar | Apr 06, 2018, 03:35 AM IST
भिवाड़ी | क्षेत्र की जाटूबास पीएचसी में स्टाफ नर्स के पद पर तैनात पर्वतारोही आशा झाझडिय़ा ने आंध्रप्रदेश सरकार के आमंत्रण पर वहां के 16 बच्चों को वर्ष 2018 में माउंट एवरेस्ट पर जाने के लिए प्रशिक्षण दिया है। हाल ही में प्रशिक्षण देकर वापस लौटी आशा झाझडिय़ा ने बताया कि आंध्रप्रदेश सरकारी आदिवासी वेलफेयर एजुकेशन सोसाइटी ने 11वीं व 12 वीं कक्षा के 16 बच्चों को 2018 के लिए माउंट एवरेस्ट पर भेजने की तैयारी के लिए लेह होते हुए लद्दाख के स्टोक कांगरी पहाड़ी इलाके में भेजा गया था।आशा की मेहनत व प्रथम प्रयास में माउंट एवरेस्ट फतेह करने के जज्बे को देखकर आंध्रप्रदेश सरकार ने आशा को उक्त सोसाइटी की टीम के लिए बतौर प्रशिक्षक के तौर पर चयनित किया। प्रशिक्षण के दौरान 4 दिन स्टोक कांगरी बेस कैम्प में बिताने के बाद टीम खरदुंगला तक गई। जिसकी ऊंचाई 18 हजार 380 फीट है। इस दौरान आशा ने अपने अनुभव का लाभ देते हुए बच्चों को पहाडिय़ों पर चढऩे के गुर सिखाने के साथ-साथ माउंट एवरेस्ट की चढ़ाई के दौरान आने वाली परेशानियों के बारे में भी जानकारी दी। सफलतापूर्वक प्रशिक्षण देने के बाद आशा हाल ही में वापस लौटी। उनका कहना है कि पर्वतारोहण के क्षेत्र में नई पीढ़ी को आगे बढ़ाने के लिए वो हमेशा कार्य करती रहेंगी। ज्ञातव्य है कि आशा ने 22 मई 2017 को 39 साल कि उम्र में दो वर्ष की कड़ी मेहनत के बाद प्रथम प्रयास में ही माउंट एवरेस्ट पर तिरंगा फहरा दिया था। अब उनका लक्ष्य सभी महाद्वीपों की सबसे ऊंची चोटियों पर देश के तिरंगे के साथ बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, महिला सशक्तिकरण व इनकम टैक्स का प्रतीक चिन्ह लहरा कर विश्व में भारत का नाम रोशन करने का है। आशा ने बताया कि जहां दूसरे राज्य की सरकार उनके कार्य से प्रभावित होकर प्रोत्साहित कर रही हैं वहीं राजस्थान सरकार से उन्हें अभी तक कोई प्रोत्साहन नहीं मिल सका है।

भिवाड़ी. प्रशिक्षण के दौरान टीम के साथ मौजूद जाटूबास पीएचसी में स्टाफ नर्स आशा झाझड़िया।