--Advertisement--

कुंडी की झनकार पर खेली गैर, मनाया ढूंढोत्सव

Bichiwara News - गुरुवार रात को शुभ मुहूर्त में होलिका दहन, शुक्रवार को रंगों की बहार में हर वर्ग का व्यक्ति मस्त था। किसी ने...

Dainik Bhaskar

Mar 04, 2018, 02:30 AM IST
कुंडी की झनकार पर खेली गैर, मनाया ढूंढोत्सव
गुरुवार रात को शुभ मुहूर्त में होलिका दहन, शुक्रवार को रंगों की बहार में हर वर्ग का व्यक्ति मस्त था। किसी ने हरा-पीला, तो किसी ने नीला-लाल रंग से एक-दूसरे को तिलक लगाकर होली की शुभकामनाएं दी।

पूरे वातावरण में होली का उल्लास छाया रहा। ढोल की थाप व कुंडी की झनकार पर थिरकते युवक-युवतियां के कदमों का उत्साह देखते ही बनता था। परंपरागत रुप से ढूंढ़ोत्सव की परंपरा का निर्वहन भी किया गया।

होली के दूसरे दिन रविवार को मस्ती भरे माहौल में धुलंडी खेली गई।

करावाड़ा. करावाड़ा सहित क्षेत्र में रंगों का पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। करावाड़ा में ग्रामीणों ने अबीर गुलाल की होली मनाई। गंधवापाल, रास्ता पाल, चारवाड़ा, झोंथरीपाल, पाडली गूजरेश्वर में होलिका दहन किया गया।

धंबोला. शनिवार रात होलिका दहन हुआ। जिसमें होली चौक, भट्टों की खिड़की, मंदिर, आजाद घाटी जगहों पर सैकडों की तादाद में लोगो ने होलिका दर्शन व प्रदक्षिणा कर सुख शां‍ति की कामना की।

दरियाटी. क्षेत्रभर में होली का पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। शुभ मूहूर्त में महिलाओं ने होलिका पूजन किया, इसके बाद होलिका दहन किया गया। ढोल की थाप पर युवाओं ने गैर नृत्य किया।

पुनाली. होली का पर्व क्षेत्रभर में बड़े ही हर्षोल्लास व उमंग के साथ मनाया गया। गुरुवार रात्रि को गांव-गांव में शुभ मूहूर्त में होलिका का दहन किया गया।

सीमलवाड़ा. कस्बे में होली व धुलंडी का पर्व हर्षोल्लास से मनाया। कस्बे के गणेश सागर तालाब के तट पर होलिका दहन किया गया। महिलाओं ने होलिका पूजन किया।

आसपुर. आसपुर सहित कई गांवों में ढोल कि ताल पर गैर खेलने कि रस्म भी कि गई। शाम को बच्चों को ढूंढाने कि रस्म की गई।

सरोदा. होली चौक पर पारंपरिक तरीके से होलिका दहन किया। गोपाल चौक पर गैर नृत्य करके ग्रामीणों की ओर से होली पर्व मनाया गया। महिलाओं और पुरुषों की अलग-अलग टोलियां बनाकर धुलेंडी भी खेली गई।

गणेशपुर. गणेशपुर सहित आसपास के गांवों में होली का त्योहार जोर शोर से मनाया गया। होलिका का दहन कर लोगों ने गैर नृत्य किया। बच्चों का ढूंढ़ोत्सव मनाया गया।

सीमलवाड़ा. क्षेत्र में रंगों का त्योहार होली पर्व बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया। कस्बे में होली चौक पर होली का दहन कर परिक्रमा की गई। धंबोला, बांसिया, पीठ समेत गांवों में होली पर्व मनाया गया।

दरियाटी. होली चौक पर आदिवासी महिलाओं व पुरुषों ने गैर नृत्य खेला। काबेरी बंजारा बस्ती में बंजारों ने गैर नृत्य किया। वहीं ढूंढ वाले घरों में मीठे पकवान बनाए गए।

साबला. कस्बे के अंबिका गरबा चोक में होली का दहन किया गया। जहां पर सभी समाजजन ने भाग लिया।

करावाड़ा. करावाड़ा सहित क्षेत्र के गंधवापाल, पोहरी पटेलान, पोहरी खातुरात, झौथरी, पाडली गूजरेश्वर, गैंजी, विकासनगर, सालमपुरा सहित आसपास के गांवों में रंगों का पर्व होली मनाई गई।

पिंडावल. होली चौक, जवाहर चौक, नई आबादी, भील बावड़ी, डोडिय़ार फला, जोगी मोहल्ला में होलिका दहन के बाद पूजा अर्चना की गई।

गरियाता. गांव में होली का पर्व धूमधाम के साथ मनाया गया। होली का दहन अध्यक्ष लालसिंह राठौड़ ने किया। नवजात शिशुओं को परिक्रमा कराकर सुख समृद्धि की रस्म निभाई। इस वर्ष 40 वर्ष बाद नए जगह पर होली का दहन किया गया। होली पर गैर नृत्य का आयोजन हुआ।

कुआं. रंगोत्सव होलिका महापर्व को कुआं सहित गुन्दलारा, डूंगर, डूंगरसारण, उदड़िया, धनगांव, ढुंड़ी गांवों में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया।

डूंगरपुर। होली का दहन के बाद शहर के भोईवाड़ा में बच्चों का ढूंढ़ोत्सव मनाते हुए।

सरोदा। गांव के होली चौक में गैर नृत्य खेलते ग्रामीण।

भट्ट मेवाड़ा समाज सामूहिक ढूंढ़ोत्सव में पूजन करते हुए।

रास्तापाल में गैर नृत्य का आयोजन हुआ

करावाड़ा। रास्तापाल में पारंपरिक गैर नृत्य का आयोजन किया गया। रास्तापाल के बीस फलों के लोगों के सािा पूर्व सांसद ताराचंद भगोरा, पूर्व विधायक शंकर लाल अहारी भी मौजूद रहे।

सर्वसमाज ने सामाजिक विकास पर की चर्चा

बिछीवाड़ा. होली के त्यौहार पर कनबा में शांति और सौहार्द के लिए सर्वसमाज की बैठक आयोजित की गई। कनबा के लक्ष्मीनारायण मंदिर पर लोग इकट्ठे हुए। सभी ने मिलकर एक साथ बैठकर होली मनाने को लेकर चर्चा की। होली के त्यौहार पर सभी समाज एक ही साथ बैठेंगे और गांव के विकास पर चर्चा करने का निर्णय किया। नारायणशंकर पंड्या, रविश पंड्या, रमेशडी जोशी ने विचार रखे। इसी तरह गांव खजुरी के बोला फला में भी बैठक हुई। ग्रामीणों ने नशाबंदी का का निर्णय कर नशा नहीं करने की शपथ ली। पूर्व सरपंच केवलराम फलेजा ने गांव में स्वच्छता को ध्यान में रखते हुए सफाई करने के बारे में जानकारी दी। पूर्व रेंजर नारायणलाल ननोमा, केंद्राध्यक्ष लक्ष्मणलाल फलेजा, मक्सीराम फलेजा, जीवा, विश्राम, राजु, कांतिलाल, नारायण जीवा ने विचार रखे।

गलियाकोट पुराने कस्बे में खेली कंडों की राड़

गलियाकोट। गलियाकोट पुराने कस्बे में शनिवार शाम को कंडों की राड खेली गई। राड़ में डूंगरपुर व बांसवाड़ा दोनों जिलों से लोगों ने भाग लिया। इसी तरह चीतरी में भी बैंक के पास ग्रामीणों द्वारा टमाटर की राड खेली गई।

रास्तापाल में गैर नृत्य खेलते पूर्व सांसद ताराचंद भगोरा।

X
कुंडी की झनकार पर खेली गैर, मनाया ढूंढोत्सव
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..