बिजयनगर

--Advertisement--

महावीर को मानें या न मानें, महावीर की जरूर मानें

बिजयनगर|भगवान महावीर की 2617वीं जन्म जयंती शहर के न्यू लाइट कॉलोनी स्थित तेरापंथ भवन में आचार्य श्री महाश्रमण के...

Dainik Bhaskar

Mar 30, 2018, 02:45 AM IST
बिजयनगर|भगवान महावीर की 2617वीं जन्म जयंती शहर के न्यू लाइट कॉलोनी स्थित तेरापंथ भवन में आचार्य श्री महाश्रमण के आज्ञानुवर्ती शासन श्री मुनि सुरेश कुमार “हरनावां “ के सान्निध्य में समारोहपूर्वक आयोजित हुई।

नमस्कार महा मंत्रोच्चारण व महावीर अष्टकम् के आगाज से शुरू हुए समारोह को संबोधित करते हुए मुनिश्री सुरेश कुमार “हरनावां” ने कहा कि महावीर ने हमें अंतहीन दिया है मगर आश्चर्य हम एक प्रतिशत भी नहीं ले पाए। भगवान महावीर के अहिंसा, अनेकांत, अपरिग्रह के सिद्धान्त संपर्यदायतित होकर विश्व व्यापी हो गए हैं। मुनि प्रवर ने कहा अहिंसा की प्राण प्रतिष्ठा अनेकांत और अपरिग्रह के पथ पर कदमताल करने से ही हो सकेगी। कानून के डंडे के बल पर जो काम नहीं हो सकते वे अहिंसा के बल पर सहजता से संपन्न हो जाते है। महावीर को माने ना माने महावीर को माने तभी महावीर जयंती जीवन के द्वार पर सिद्धिया लेकर आएगी। धर्मसभा में मुनिश्री सम्बोध कुमार ने कहा कि हम जिन्दगी भर सिर्फ तीन काम करते हैं भागादौड़ी, हाथाजोड़ी और माथाफोड़ी। जो बेहतर होते हैं उन्हें नाम मिलता है, जो बेहतरीन होते हैं उनके नाम पर इनाम मिलता है। कार्यक्रम की अध्यक्षता नगरपालिका अध्यक्ष श्रीमान सचिन सांखला ने की। मुख्य अतिथि अपर जिला मजिस्ट्रेट मेघना जैन ने कहा महावीर का जन्मदिवस समूची मानवता का जन्म दिवस है। जिनकी आत्मा में बचपन से समर्पण सृष्टि के प्रति संवेदना थी ऐसे महामहिम महावीर के विचारों की इस युग को सख्त जरूरत है।

विशिष्ट अतिथि गुलाबपुरा नगरपालिका उपाध्यक्ष प्रदीप रांका रहे। इस मौके पर तेरापंथ महिला मंडल गुलाबपुरा, महिला मंडल-युवती समूह बिजयनगर, रश्मि-शीतल जैन, प्रज्ञा-प्रेक्षा-संयम लोढा, श्वेता श्रीश्रीमाल, सीमा जैन, उषा छाजेड़ ने सुमधुर गीतों से प्रभु महावीर के प्रति भावांजलि अर्पित की। मंच संचालन डी.सी. जैन ने किया। स्वागत सभामंत्री दिलीप तलेसरा ने व आभार अध्यक्ष बाबूलाल छाजेड़ ने व्यक्त किया।

X
Click to listen..