Hindi News »Rajasthan »Bijaynagar» ऑटोमोबाइल शोरूम पर सर्वे में आयकर विभाग ने पकड़ी 2.20 करोड़ की अघोषित आय

ऑटोमोबाइल शोरूम पर सर्वे में आयकर विभाग ने पकड़ी 2.20 करोड़ की अघोषित आय

राजेश कुमार शर्मा| ब्यावर आयकर विभाग की टीम की ओर से केंद्र सरकार की ओर से शुरू किए गए ऑपरेशन क्लीन मनी अभियान...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 15, 2018, 02:55 AM IST

राजेश कुमार शर्मा| ब्यावर

आयकर विभाग की टीम की ओर से केंद्र सरकार की ओर से शुरू किए गए ऑपरेशन क्लीन मनी अभियान के तहत शहर में स्थित एक ऑटोमोबाइल शोरूम पर शुरू की गई सर्वे कार्रवाई में करीब 2.20 करोड़ की अघोषित आय उजागर की है। दो दिन चली इस कार्रवाई में शोरूम संचालक द्वारा नोटबंदी के दौरान सवा करोड़ से अधिक के 500 और 1000 के नोट जमा कराने व जयपुर, जोधपुर और ब्यावर में बेनामी संपतियां खरीदना सामने आया है। विभाग की इस कार्रवाई के चलते शोरूम संचालक को पेनल्टी और कर के रूप में अघोषित संपति की करीब 50 फीसदी राशि विभाग को जमा करानी होगी। शहर में इसी प्रकार अन्य अति संदेहास्पद खातों पर नजर रखते हुए आईटी की टीम की ओर से आगे भी कार्रवाई करने की संभावना जताई जा रही है।

शोरूम संचालक ने सरेंडर की 2 करोड़ से अधिक की अघोषित आय, विभाग को पेनल्टी और कर के रूप में देनी होगी करीब 50 फीसदी राशि, कार्रवाई में उजागर हुई जयपुर, जोधपुर और ब्यावर में बेनामी संपतियां, नोटबंदी के दौरान खाते में जमा कराए थे 500 और 1000 के सवा करोड़ रुपए

हुई सर्वे कार्रवाई

संयुक्त आयकर आयुक्त एसके मीना के नेतृत्व में 12 फरवरी को उदयपुर रोड स्थित एक दोपहिया वाहन कंपनी के अधिकृत शोरूम पर सर्वे की कार्रवाई शुरू की गई। इस दौरान विभाग की टीम ने इससे जुड़े अजमेर रोड, सेंदड़ा रोड स्थित शोरूम पर भी कार्रवाई की। टीम ने इसके लिए 12 फरवरी की देर रात को भी कार्रवाई जारी रखी जो 13 फरवरी की देर रात तक चलती रही।

उजागर हुई कई बेनामी संपतियां

कार्रवाई के दौरान टीम को शोरूम मालिक की ओर से जोधपुर, जयपुर और ब्यावर में कई संपतियां अपने रिश्तेदारों के नाम से खरीदना सामने आया। इसके अलावा उनकी ओर से अलग कंपनियां भी बताई गई जिनकी टीम ने सघन जांच की। संयुक्त आयकर आयुक्त एसके मीना के नेतृत्व में आयकर अधिकारी आरके बैरवा, प्रदीप कृपलानी सहित अन्य अधिकारी व कर्मचारी शामिल थे।

2.20 करोड़ की अघोषित आय उजागर

प्रारंभिक तौर पर विभाग ने 2.20 करोड़ की अघोषित आय मानते हुए मौके पर मिले दस्तावेज व बही खाते जांच के लिए जब्त किए हैं। मोटे तौर पर आईटी की टीम ने यहां से नोटबंदी के दौरान जमा कराई गई राशि, बेनामी संपतियां और शोरूम पर बोगस खर्च को पकड़ा है।

सब डीलर का शोरूम, स्टॉक अधिकृत डीलर का

शहर समेत बिजयनगर, मसूदा व अन्य स्थानों पर जो गाड़ियां बेची जा रही हैं। उनमें से अधिकांश अपना स्टॉक नहीं बताकर उन गाड़ियों को बिक्री के लिए अपने यहां कमीशन पर रखना बताते हैं। ऐसे में तथाकथित तौर पर सब डीलर के यहां जो स्टॉक पड़ा है वह अधिकृत डीलर का ही है। जब ऐसे किसी सब डीलर के यहां वाहन की बिक्री होती है तो बिल अधिकृत शोरूम से ही बनकर जाता है। इसकी एवज में उसे कमीशन दिया जाता है।

जिले में करीब 250 खाते अति संदेहास्पद

ऑपरेशन क्लीन मनी के तहत आईटी ने जिले में करीब 250 खातों को अति संदेहास्पद की श्रेणी में शामिल किया है। अब कार्रवाई शुरू हो चुकी है। इसी कड़ी में ब्यावर में स्थित शोरूम पर यह कार्रवाई हुई है। बताते हैं कि ये वो व्यापारी है, जिन्होंने नोटबंदी के दौरान अपनी कंपनी या उससे जुड़ी अन्य कंपनी के खाते में लाखों-करोड़ों रुपए जमा कराए। जब विभाग ने बैंक से मिली जानकारी के बाद इन लोगों को नोटिस जारी कर जवाब मांगा तो या तो उन्होंने इसका संतोषजनक जवाब नहीं दिया या अब तक कई लोगों ने रिटर्न ही जमा नहीं कराए। ऐसे लोगों पर अंकुश लगाने के लिए ही केंद्र सरकार के आदेशानुसार आईटी अब ओसीएम के तहत कार्रवाई में जुटा है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bijaynagar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×