बिजयनगर

--Advertisement--

आयकर विभाग ने पकड़ी 25 लाख की अघोषित आय

जिन लोगों ने सरकार को अब तक अपना बकाया टैक्स नहीं चुकाया है उन पर सख्ती बरतते हुए आयकर विभाग ने रिकवरी सर्वे शुरू कर...

Dainik Bhaskar

Feb 04, 2018, 03:30 AM IST
जिन लोगों ने सरकार को अब तक अपना बकाया टैक्स नहीं चुकाया है उन पर सख्ती बरतते हुए आयकर विभाग ने रिकवरी सर्वे शुरू कर दिया है।

इसके तहत आयकर अधिकारियों की टीम ने बिजयनगर और बांदनवाड़ा में 3 जगह रिकवरी सर्वे और एक जगह विभागीय सर्वे की कार्रवाई करते हुए टीम ने 25 लाख की अघोषित आय उजागर करने के अलावा रिकवरी सर्वे में करीब 23 लाख की पेनल्टी भी बनाई है। संयुक्त आयकर आयुक्त एसके मीना ने आयकर अधिकारी प्रदीप कृपलानी, आरके बैरवा और आरके जैन को कार्रवाई शुरू करने के आदेश दिए। अब तक आईटी की इस टीम ने 3 रिकवरी सर्वे और एक जगह विभागीय सर्वे की कार्रवाई की है। अधिकारियों के मुताबिक जो लोग डिफॉल्टर थे और विभाग की ओर से नोटिस देने के बाद भी बकाया कर जमा नहीं करा रहे थे उनके यहां रिकवरी सर्वे की कार्रवाई की गई। इनमें बांदनवाड़ा स्थित एक पेट्रोल पम्प, बिजयनगर क्रय-विक्रय सहकारी समिति और वहीं पर स्थित एक ड्राई फ्रूट व्यापारी शामिल है। इनके यहां कार्रवाई करते हुए विभाग की टीम ने करीब 23 लाख रुपए रिकवरी के रूप में वसूली करने की कार्रवाई शुरू की। जबकि बिजयनगर में ही डेयरी और ड्राइफ्रूट व्यवसायी के यहां आयकर सर्वे भी हुआ। इस दौरान टीम ने करीब 25 लाख रुपए की अघोषित आय उजागर की। इस मामले में विभागीय जांच अब भी जारी है।

अधिकारियों के मुताबिक बकाया कर के मामले में प्रथम अपील तक 20 प्रतिशत राशि जमा कराने के बाद विभागीय छूट दी जाती है। मगर निर्णय आने के बाद पूरी राशि जमा करानी होती है। ऐसे लोगों पर विभाग अब नजर रखते हुए कार्रवाई करने का मानस बना चुका है। बकायादारों में एक उपखंड अधिकारी भी शामिल है। बकाया कर जमा नहीं कराने वालों के खिलाफ विभाग कार्रवाई के तहत बैंक खाता सीज करने, देनदार से सीधे वसूली करने, चल-अचल संपति कुर्क करने सहित जेल की सजा का भी प्रावधान है।

X
Click to listen..