--Advertisement--

शांति और आनंद में जीना है तो अतीत को याद रखो

Dainik Bhaskar

Mar 09, 2018, 03:40 AM IST

Bijaynagar News - पू. खरतरगच्छाधिपति आचार्य जिनमणिप्रभ सूरीश्वरजी महाराज ने कहा कि शां‍ति और आनंद में जीना है तो अपने अतीत का सदैव...

शांति और आनंद में जीना है तो अतीत को याद रखो
पू. खरतरगच्छाधिपति आचार्य जिनमणिप्रभ सूरीश्वरजी महाराज ने कहा कि शां‍ति और आनंद में जीना है तो अपने अतीत का सदैव स्मरण रखो। वे गुरुवार को राजदरबार सिटी में अंजनशलाका महोत्सव के तहत निर्मित वाराणसी नगरी में आयोजित पार्श्वनाथ जन्मकल्याणक महोत्सव के दौरान सम्बोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि जीवन में हमें जो भी अनुकूलताएं मिली हैं, वे परमात्मा की कृपा से मिली है। परमात्मा की जीवन यात्रा का प्रारंभ सम्यक दर्शन से हुआ। सम्यक दर्शन का उपार्जन करने के लिए हमें परमात्मा का दर्शन करना है। पूज्यश्री ने कहा कि भाव से ही कर्म बंधन और भाव से ही कर्मों की निर्जरा होती है। महोत्सव के तहत आज के दिन परमात्मा पार्श्वनाथ के जन्मकल्याणक का अवसर है। परमात्मा पार्श्वनाथ की छवि को निहारना है। छवि के वर्तमान में अतीत की अवस्था और अतीत के पुरुषार्थ को टटोलना है। बिना अतीत के पुरुषार्थ को जाने हम परमात्मा की वर्तमान छवि को जान पाएंगे। परमात्मा रूपी दीपक की रोशनी को पाना मेरा लक्ष्य नहीं है। मेरा लक्ष्य तो अपने दीपक को प्रगटाना है। जन्मोत्सव की रोशनी में अपनी राह को अवश्य निहारना है, लेकिन उतने से संतोष नहीं करना है। अपने भीतर भी परमात्मा जैसे बनने के भाव रखने है।

बिजयनगर. पार्श्वनाथ पंचकल्याणक पूजा सम्पन्न करवाते खरतरगच्छाधिपति आचार्य जिनमणिप्रभसूरीश्वर महाराज।

आराधना भवन का लोकार्पण

आराधना भवन का लोकार्पण

इससे पूर्व आचार्य प्रवर की निश्रा एवं पूज्य गुरुवर्या डॉ. विद्युत्प्रभाश्री महाराज के सान्निध्य में साध्वी डॉ. नीलांजनाश्री महाराज की प्रेरणा से सिंघवी नाकोड़ा चेरीटेबल ट्रस्ट की ओर से निर्मित मणि-विद्युत खरतरगच्छ आराधना भवन का विधिवत लोकार्पण किया। इस मौके पर उपाश्रय निर्माण के पुण्यशाली पारसकंवर, विनयराज व योगेन्द्रराज सिंघवी परिवार ने पूज्य श्री से आशीर्वाद लिया। इसी प्रकार खरतरगच्छाधिपति ने वाराणसी नगर, मणि-विद्युत नगर व गौतम भैरव का विधिवत फीता खोलकर उद्घाटन किया। वाराणसी नगर व गौतम भैरव नगर के लाभार्थी सोहनलाल निहालचंद तातेड़ व बसन्तीलाल राजकुमार काल्या परिवार रहे। जबकि मणि विद्युत नगर के लाभार्थी पारसकंवर विनयराज योगेन्द्रराज सिंघवी परिवार रहे। दोपहर में पूज्यश्री की निश्रा में मंगलगृह में पार्श्वनाथ पंचकल्याणक पूजा हुई।

इससे पूर्व आचार्य प्रवर की निश्रा एवं पूज्य गुरुवर्या डॉ. विद्युत्प्रभाश्री महाराज के सान्निध्य में साध्वी डॉ. नीलांजनाश्री महाराज की प्रेरणा से सिंघवी नाकोड़ा चेरीटेबल ट्रस्ट की ओर से निर्मित मणि-विद्युत खरतरगच्छ आराधना भवन का विधिवत लोकार्पण किया। इस मौके पर उपाश्रय निर्माण के पुण्यशाली पारसकंवर, विनयराज व योगेन्द्रराज सिंघवी परिवार ने पूज्य श्री से आशीर्वाद लिया। इसी प्रकार खरतरगच्छाधिपति ने वाराणसी नगर, मणि-विद्युत नगर व गौतम भैरव का विधिवत फीता खोलकर उद्घाटन किया। वाराणसी नगर व गौतम भैरव नगर के लाभार्थी सोहनलाल निहालचंद तातेड़ व बसन्तीलाल राजकुमार काल्या परिवार रहे। जबकि मणि विद्युत नगर के लाभार्थी पारसकंवर विनयराज योगेन्द्रराज सिंघवी परिवार रहे। दोपहर में पूज्यश्री की निश्रा में मंगलगृह में पार्श्वनाथ पंचकल्याणक पूजा हुई।

X
शांति और आनंद में जीना है तो अतीत को याद रखो
Astrology

Recommended

Click to listen..