--Advertisement--

जालिया द्वितीय में पेयजल संकट गहराया

बिजयनगर| जालिया द्वितीय के ग्रामीण पेयजल समस्या से जूझ रहे हैं। जालिया द्वितीय निवासी सत्यप्रकाश छीपा ने बताया...

Danik Bhaskar | Apr 25, 2018, 03:50 AM IST
बिजयनगर| जालिया द्वितीय के ग्रामीण पेयजल समस्या से जूझ रहे हैं। जालिया द्वितीय निवासी सत्यप्रकाश छीपा ने बताया कि यहां 48 से 60 घंटे की बजाय 96 से 108 घंटे के अंतराल में जलापूर्ति हाे रही है। वह भी नाम मात्र, इतना ही नहीं जल आपूर्ति के दौरान मामूली प्रेशर से पानी आता है।

नतीजन 10 हजार की आबादी वाले इस गांव में पानी के लिए इस भीषण गर्मी के दौर में त्राहि-त्राहि मची हुई है। उन्होंने अवगत कराया कि जलदाय विभाग एईएन से सम्पर्क साधते है तो सिवाय टालमटोल के कुछ नहीं किया जा रहा है।

2015 में की थी भूख हड़ताल: जालिया द्वितीय में पेयजल संकट को लेकर 4 जुलाई 2015 को ग्रामीण सत्यप्रकाश छीपा ने भूख हड़ताल की थी। तब अधिकारियों ने लिखित समझौता कर 48 से 60 घंटों के अन्तराल में जलापूर्ति करने का वायदा करते हुए हड़ताल समाप्त करवाई थी। लेकिन यह समझौता महज कागजों तक सिमट कर रह गया।

एक कर्मचारी के भरोसे व्यवस्था: जालिया द्वितीय में जलापूर्ति व्यवस्था से लेकर उपभोक्ताओं की शिकायतों का निवारण करने का जिम्मा मात्र एक कर्मचारी पर है। गांव में 3 ओपन वेल, 4 ट्यूबवेल व 2 पानी की टंकियां बनी हुई है। वहीं करीब 1400 कनेक्शन है।

फ्लोराईड युक्त पानी पीने को मजबूर: जालिया द्वितीय में करीब 1400 उपभोक्ताओं ने कनेक्शन ले रखे है। बावजूद घरों में चार से पांच दिनों में पानी की बूंद टपकने का हश्र यह है कि हैड़पम्प से खारा व फ्लोराईडयुक्त पानी पीने के लिए ग्रामीण विवश ंहै।