बीकानेर

  • Hindi News
  • Rajasthan
  • Bikaner
  • बीकानेर बंद आज, अजा-जजा संगठनों ने कमर कसी, सवर्ण जातियां विरोध में उतरीं
--Advertisement--

बीकानेर बंद आज, अजा-जजा संगठनों ने कमर कसी, सवर्ण जातियां विरोध में उतरीं

सर्वोच्च न्यायालय द्वारा एससी-एसटी एक्ट में किए गए संशोधन के फैसले के विरोध में सोमवार को भारत बंद के आह्वान पर...

Dainik Bhaskar

Apr 02, 2018, 02:15 AM IST
सर्वोच्च न्यायालय द्वारा एससी-एसटी एक्ट में किए गए संशोधन के फैसले के विरोध में सोमवार को भारत बंद के आह्वान पर बीकानेर बंद कराने की तैयारी को रविवार को अंतिम रूप दिया गया। समस्त अनुसूचित जाति-जनजाति संविधान बचाओ संघर्ष समिति ने बंद शांतिपूर्ण कराने की घोषणा की है।

संविधान बचाओ संघर्ष समिति ने रविवार को एक बैठक आयोजित कर बंद की रणनीति पर चर्चा की। सदस्यों ने कहा कि यदि सर्वोच्च न्यायालय का आदेश निरस्त नहीं किया तो देश में दलित वर्ग पर अपराध और बढ़ जाएंगे। ज्ञान प्रकाश बारासा, सुनील मेघवाल, नंदलाल जावा ने बताया कि एससी-एसटी वर्ग के लोग सोमवार को सुबह कोटगेट पर एकत्रित होंगे। ग्रामीण क्षेत्रों से भी लोगों को कोटगेट ही बुलाया गया है। वहां से अलग-अलग टोलियों में बाजार बंद कराने के लिए निकलेंगे। शिवलाल तेजी ने बताया कि व्यापारियों से दुकानें बंद करने का आग्रह किया जाएगा। किसी से जोर जबरदस्ती नहीं की जाएगी। बैठक में जगदीश सोलंकी, धर्मेंद्र नायक, डॉ. गौरीशंकर डाबी, सोहनलाल, सुनील जावा आदि मौजूद थे। प्रगतिशील मेघवाल समाज के अध्यक्ष डॉ. सीताराम गोठवाल ने बंद शांतिपूर्ण रखने की अपील की है। भीम आर्मी राजस्थान, डॉ. आंबेडकर समाजोत्थान समिति, नायक समाज क्रांति मंच व्यापारियों को पुष्प देकर बंद के लिए समर्थन मांगा। रात को कोटगेट से अंबेडकर सर्किल तक मशाल जुलूस भी निकाला।

ब्राह्मण संगठन फूंकेंगे कोटगेट पर एक्ट का पुतला

ब्राह्मण संगठनों ने सोमवार को प्रस्तावित बंद का विरोध करते हुए कोटगेट पर सुबह 11 बजे एट्रोसिटी एक्ट का पुतला फूंकने का फैसला किया है। इस मुद्दे को लेकर रविवार को रानी बाजार गौड़ सभा भवन में विभिन्न संगठनों की बैठक हुई। समता आंदोलन समिति के पाराशर नारायण शर्मा ने कहा कि भारत बंद का आयोजन सर्वोच्च न्यायालय के उन न्यायाधीशों पर दबाव बनाने के लिए किया जा रहा है, जो समता आंदोलन समिति के अनुसूचित जाति एवं जनजाति प्रकोष्ठ की ओर से दायर की गई क्रीमिलेयर की याचिका की सुनवाई कर रहे हैं। याचिका में अजा-जजा वर्ग में ओबीसी की तरह क्रीमिलेयर का सिद्धांत लागू करने की प्रार्थना की गई है। ताकि इस वर्ग के वंचित एवं वास्तविक पिछड़े लोगों को आरक्षण का लाभ मिल सके। इस मौके पर वाई के शर्मा, ओमप्रकाश जोशी, मोहनलाल सारस्वत, श्रवण पालीवाल, बनवारी शर्मा, के के शर्मा, गजेंद्र शर्मा, विश्वनाथ गौड़, डॉ. देवकृष्ण सारस्वत, शिव प्रसाद गौड़ आदि मौजूद थे। इससे पहले पूर्व महापौर भवानी शंकर शर्मा, प्रभा ओझा और पंडित घनश्याम शर्मा को श्रद्धांजलि अर्पित की गई। केके ने बताया कि इसे लेकर आईजी, कलेक्टर और एसपी को ज्ञापन भी दिया गया है।

बाजार खुलेगा, पुलिस से मांगी सुरक्षा : समस्त अनुसूचित जाति-जनजाति संविधान बचाओ संघर्ष समिति के बीकानेर बंद का व्यापारियों ने विरोध किया है। इस मुद्दे पर रविवार को बीकानेर व्यापार उद्योग मंडल बैठक हुई। कोषाध्यक्ष घनश्याम लखाणी ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हुए सोमवार को पूरा बाजार खुलेगा। जिला व पुलिस प्रशासन से उन्होंने सुरक्षा मुहैया कराने की मांग की है। पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्मृति मंच, राष्ट्रवादी भारतीय ब्रिगेड ऑफ इंडिया ने बंद का विरोध किया है।


शिक्षण संस्थाएं और स्वास्थ्य सेवाएं बंद से मुक्त : संविधान बचाओ संयुक्त संघर्ष समिति के सदस्यों ने कहा है कि शिक्षण संस्थाओं और स्वास्थ्य सेवाओं को बंद से मुक्त रखा गया है। समस्त स्कूल, कॉलेज खुले रहेंगे। रेल और सड़क मार्गों पर आवागमन बाधित नहीं किया जाएगा। मेडिकल की दुकानें बंद नहीं कराई जाएंगी। एंबुलेंस सेवाएं यथावत रहेंगी।

X
Click to listen..