• Hindi News
  • Rajasthan
  • Bikaner
  • बदलते परिदृश्य में प्रभावशाली बन कर मुखरित हुआ था, व्यापारी वर्ग
--Advertisement--

बदलते परिदृश्य में प्रभावशाली बन कर मुखरित हुआ था, व्यापारी वर्ग

इन व्यापारियों के आंग्ल क्षेत्रों में चले जाने से इन्हें जहां एक और जागीरदारों के अवांछनीय अंकुश तथा नियंत्रण से...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 03:35 AM IST
बदलते परिदृश्य में प्रभावशाली बन कर मुखरित हुआ था, व्यापारी वर्ग
इन व्यापारियों के आंग्ल क्षेत्रों में चले जाने से इन्हें जहां एक और जागीरदारों के अवांछनीय अंकुश तथा नियंत्रण से मुक्ति मिली वहीं इन्हें आंग्ल क्षेत्रों से जागीरी क्षेत्रों की तुलना के अवसर और दृष्टि भी प्राप्त हुई। परिणामत: अब इन व्यापारियों ने जागीरदारों के बेवजह परेशान करने वाले तथाकथित अधिकारों या प्रावधानों के खिलाफ अावाज उठानी शुरू कर दी। ब्रिटिश इंडिया में रह कर वापिस अपने जागीरी क्षेत्रों में लौटने वाले इन व्यापारियों को जागीरदारों के वे अधिकार अब सर्वथा अनुचित और गैर प्रासंगिक लगने लगे थे, जिन्हें कि वे पहले बिना किसी प्रतिरोध के स्वीकार करते रहे थे। ब्रिटिश अधिकारी तो पहले से ही इन अनुचित और अवांछनीय जागीरदारी अधिकारों के विरुद्ध थे। जब यहां के व्यापारियों के द्वारा भी अब उनका विरोध किया जाने लगा और जागीरदारों के खिलाफ शिकायतें तथा अभ्यावेदन ब्रिटिश अधिकारियों को प्राप्त होने लगे तब ब्रिटिश हुकूमत ने उन शिकायतों को जागीरदारों पर नियंत्रण लगाने का आधार बनाया। यहां पर यह बात सहजता से स्वीकार योग्य थी कि, यह व्यापारी वर्ग आंग्ल संरक्षण प्राप्त हो जाने के फलस्वरूप अब पूर्वापेक्षा काफी सशक्त तथा प्रभावशाली हो गया था। राजनीतिक सत्ता के पास इनकी पहुंच थी। अत: इन जागीरदारों और उनकी अनुचित नीतियों की खिलाफत वही लोग कर सकते थे, तथा उनके पास एेसा करने के लिए पर्याप्त सामर्थ्य भी थी। इस प्रकार यह व्यापारी वर्ग बदलते हुए परिदृश्य में न केवल प्रभावशाली वर्ग के रुप में मुखरित हो सामने आता हुआ दृष्टिगत हुआ वरन् सामाजिक गतिशीलता को प्रोत्साहन प्रदान करने में भी निर्णायक सिद्ध हुआ। (लगातार)

X
बदलते परिदृश्य में प्रभावशाली बन कर मुखरित हुआ था, व्यापारी वर्ग
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..