• Home
  • Rajasthan
  • Bikaner
  • Bikaner - रामदेवरा पदयात्रियों की सेवा कर रहे सेवादार के साथ मारपीट, मौत मुर्दाघर के आगे परिजनों का प्रदर्शन
--Advertisement--

रामदेवरा पदयात्रियों की सेवा कर रहे सेवादार के साथ मारपीट, मौत मुर्दाघर के आगे परिजनों का प्रदर्शन

क्राइम रिपोर्टर | बीकानेर/कोलायत राष्ट्रीय राजमार्ग 15 पर दियातरा के पास एक सेवा शिविर में रामदेवरा पद यात्रियों...

Danik Bhaskar | Sep 13, 2018, 02:50 AM IST
क्राइम रिपोर्टर | बीकानेर/कोलायत

राष्ट्रीय राजमार्ग 15 पर दियातरा के पास एक सेवा शिविर में रामदेवरा पद यात्रियों की सेवा कर रहे सेवादार को तीन युवकों ने इस कदर पीटा कि हॉस्पिटल ले जाते समय रास्ते में ही उसकी मृत्यु हो गई। कोलायत पुलिस ने तीन युवकों के विरुद्ध हत्या का मुकदमा दर्ज किया है। मृतक के परिजनों ने बुधवार को मुर्दाघर के आगे रास्ता जामकर शव लेने से इंकार कर दिया। पुलिस से आरोपियों की दो दिन में गिरफ्तारी का आश्वासन मिलने के बाद शव उठाया।

घटना मंगलवार रात की है। कोलायत में दियातरा के पास मोदी खत्री युवा मंडल ने सेवा शिविर लगा रखा है, जहां बीकानेर में कसाइयों की बारी में रहने वाला चांदरतन अपने परिवार सहित पद यात्रियों की सेवा कर रहा था। रात करीब आठ बजे तीन युवक शिविर में खाना खाने रुके। खाना खाकर वे अपनी गाड़ी में सवार हुए। गाड़ी बैक करने लगे तो चांदरतन की प|ी हेमलता ने उन्हें टोका। क्योंकि पीछे बर्तन रखे थे। हेमलता का भाई जितेन्द्र भी मौके पर ही था। इस बात को लेकर उनके बीच कहासुनी हो गई। शोर-शराबा सुनकर चांदरतन पंडाल के बाहर पहुंचा। युवकों को समझाने लगा तो युवकों ने उसके साथ लात, घूंसों से मारपीट शुरू कर दी। चांदरतन अचेत होकर नीचे गिर पड़ा। मौके पर भीड़ जमा हो गई। मारपीट कर युवक गाड़ी छोड़कर भाग निकले। परिजन चांदरतन को लेकर रात ट्रोमा सेंटर पहुंचे, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। कोलायत एसएचओ जगदीश सिंह ने बताया कि मृतक के साले की रिपोर्ट पर आरोपी सुनील, ललित और सुनील कुमार के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है। उनकी गाड़ी जब्त कर ली गई है।

गिरफ्तारी के लिए मुर्दाघर के बाहर प्रदर्शन

कसाइयों की बारी क्षेत्र में रहने वाले चांदरतन मोदी की हत्या की खबर बुधवार सुबह शहर में आग की तरह फैल गई। मोदी खत्री समाज के लोग बड़ी संख्या में पीबीएम हॉस्पिटल स्थित मुर्दाघर के बाहर जमा हो गए। परिजन भी वहीं पर मौजूद थे। उन्होंने हत्यारों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर रास्ता जाम कर दिया और शव लेने से इंकार कर दिया। सूचना मिलने पर सीओ सदर भोजराज मुर्दाघर पहुंचे। उन्होंने परिजनों से बातचीत कर दो दिन में आरोपियों को गिरफ्तार करने का आश्वासन दिया। उसके बाद शव का पोस्टमार्टम हुआ। परिजन शव लेकर चले गए।