बीकानेर से ग्राउंड रिपोर्ट / बीकाणा के युद्ध में अर्जुन की मदन से लड़ाई, दोनों को देवी और गोविंद के घात का डर



भाजपा के अर्जुन गांव-गांव घूम रहे भाजपा के अर्जुन गांव-गांव घूम रहे
मदन शहरी बगीचों में मॉर्निंग टॉक पर मदन शहरी बगीचों में मॉर्निंग टॉक पर
X
भाजपा के अर्जुन गांव-गांव घूम रहेभाजपा के अर्जुन गांव-गांव घूम रहे
मदन शहरी बगीचों में मॉर्निंग टॉक परमदन शहरी बगीचों में मॉर्निंग टॉक पर

  • आठ विधानसभा क्षेत्रों वाले बीकानेर संसदीय क्षेत्र में भाजपा के अर्जुनराम मेघवाल परिचित चेहरा
  • कांग्रेस उम्मीदवार मदन मेघवाल के सामने पहचान का संकट

Dainik Bhaskar

Apr 17, 2019, 04:32 AM IST

(मधु आचार्य संपादक, बीकानेर). बीकानेर में शहर के बीच बड़े बाजार में सड़क से होकर गुजरती रेल देखकर कई बच्चे बड़े हुए। लेकिन आज तक इसका कोई हल नहीं निकला। यहां के लोगों को इसी का मलाल है। फिर भी मोदी के नाम पर ये मुद्दा गौण कर जाते हैं। है तो है। यही कहता है उस्ता बाड़ी पर बैठा युवक मुकुल। बोला- यह चुनाव पीएम चुनने का है। स्थानीय मुद्दे और उम्मीदवार इसमें कोई मायने नहीं रखता।

 

 
आठ विधानसभा क्षेत्रों वाले बीकानेर संसदीय क्षेत्र में भाजपा के अर्जुनराम मेघवाल परिचित चेहरा हैं। अर्जुन दो बार सांसद बने हैं और इस कार्यकाल में केंद्रीय राज्यमंत्री भी हैं इसलिए उनको एंटी इनकंबेंसी का भी थोड़ा शिकार होना पड़ रहा है। उनके खाते में हवाई सेवा, पासपोर्ट केंद्र, ईएसआई हॉस्पिटल आदि के काम हैंै। मेघवाल को टिकट देने के विरोध में कद्दावर नेता देवीसिंह भाटी तो पार्टी से इस्तीफा दे चुके हैं। खाजूवाला में भाजपा नेता विश्वनाथ मेघवाल से भी इनकी पटरी ठीक नहीं। बीकानेर पूर्व की विधायक सिद्धी कुमारी की चुप्पी अखरने वाली है। देवीसिंह भाटी का गैर मेघवाल एससी को एक करने का प्रयास सफल हुआ तो भाजपा पर भारी पड़ेगा। 

 

कांग्रेस उम्मीदवार मदन मेघवाल के सामने पहचान का संकट है। पूर्व नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर लाल डूडी और वरिष्ठ मंत्री डॉ. बीडी कल्ला को मदन का सिपहसालार माना जाता है, इन दोनों ने ही इनके टिकट की पैरवी की थी। डूडी के कारण खाजूवाला विधायक गोविंद राम मेघवाल (बेटी के लिए टिकट मांग रहे थे), लूणकरणसर के वीरेंद्र बेनीवाल और श्रीडूंगरगढ़ के मंगलाराम गोदारा की कम सक्रियता मदन को नुकसान पहुंचा सकती है। रिश्ते में अर्जुन और मदन मौसेरे भाई हैं इसलिए जातीय मतों पर दोनों का ज्यादा जोर रहेगा।

 

लूणकरणसर के विधायक सुमित गोदारा अर्जुनराम मेघवाल के साथ हैं। मुख्यमंत्री यहां सभा कर कांग्रेस के गुटों को एक करने का प्रयास कर गए, असर तो आने वाला समय ही बताएगा। यहां भी तहसील मुख्यालय पर मोदी फैक्टर है। लूणकरणसर के राकेश बोथरा कहते हैं कि केंद्र में मजबूत नेतृत्व को ध्यान में रखकर ही लोग मतदान करेंगे।

 

कोलायत में देवी सिंह भाटी का भाजपा से इस्तीफा भाजपा के लिए परेशानी है। कांग्रेस के भंवर सिंह राज्य में मंत्री हैंै। अजा मतदाताओं में बड़ी संख्या में जो सेंध लगाएगा वो मजबूत रहेगा। व्यापारी गोपाल साध का कहना है, पाकिस्तान पर जवाबी हमला और आतंकवाद से मुकाबला, मतदान के आधार बनेंगे। जाहिर है मोदी फैक्टर यहां भी प्रभावी है।

 

नोखा सदा अनोखा रहता है। विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी को हरा दिया मगर इस बार मिजाज बदला हुआ है। नोखा की संतोष पोटलिया कहती हैं कि रोजगार, महिला सशक्तिकरण, महिला सुरक्षा, विकास आदि मुद्दों पर मतदान होगा। महिलाओं में नोटबंदी का गुस्सा होने की बात भी उन्होंने कही।

 

अनूपगढ़. श्रीगंगानगर जिले की इस अजा आरक्षित सीट पर भाजपा ने विधानसभा में जीत दर्ज की। अर्जुनराम मेघवाल इस बार भी यहां ज्यादा जोर लगा रहे हैं। किसान-पशुपालक और जमीनदार का दबदबा है जो इन्हें अपने मुद्‌दों से संतुष्ट कर देगा, इनके वोट ले लेगा।

 

खाजूवाला. विधानसभा चुनाव कांग्रेस ने जीता। एससी के लिए आरक्षित इस सीट पर अर्जुन को जहां अपनों को साधना है वहीं कांग्रेस को भी यही काम करना है। विधायक अपनी पुत्री के लिए टिकट मांग रहे थे और मदन मेघवाल को टिकट मिलने पर विरोध-प्रदर्शन हुआ। भीतर के विरोध का सामना कांग्रेस के लिए चुनौती है। सीमावर्ती गांव अलाद्दीन का बेरा निवासी रणवीर कुमार कहते हैं, यहां मोदी फैक्टर है क्योंकि हम पाकिस्तान से सटे हैं। राष्ट्रीय सुरक्षा, आतंकवाद पर लोग वोट देंगे।

 

विधानसभा का इशारा कांग्रेस 
2014 के लोकसभा चुनाव और 2018 के विधानसभा चुनाव के आंकड़ों को देखे तो मतदाता का झुकाव कांग्रेस की तरफ है। 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा को 5,84,932 और कांग्रेस को 2,76,853 मत मिले थे। 2018 के विधानसभा चुनाव में बाजी पलट गई। भाजपा को 5,54,601 मत मिले वहीं कांग्रेस को 5,60,702 मत मिले। कांग्रेस 6101 मतों से बढ़त पर है।

 

वोटर कहता है- अर्जुन पर मोदी से ज्यादा भाटी फैक्टर असर करेगा, कांग्रेस में नेताओं की गुटबंदी है


 

देवीसिंह भाटी का विरोध भाजपा पर असर डालेगा। सवर्ण मतदाताओं को उसने सोचने पर विवश किया है। अभी भाटी ने अपने पूरे पत्ते नहीं खोले हैं। भाटी फैक्टर कोलायत, नोखा, खाजूवाला, बीकानेर पूर्व व पश्चिम पर कुछ तो प्रभाव डालेगा। - लालजी, बीकानेर पश्चिम निवासी 

 

खाजूवाला विधायक गोविंदराम और लूणकरणसर के प्रत्याशी रहे वीरेंद्र बेनीवाल, श्रीडूंगरगढ़ में प्रत्याशी रहे मंगलाराम की तिकड़ी का अपना ही राग है। इसका असर कांग्रेस पर पड़ेगा और परिणाम को प्रभावित करेगा। - महावीर माली, श्रीडूंगरगढ़ निवासी 

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना