चीफ जस्टिस ने कहा- डर और दहशत बन रही कोरोनावायरस से बड़ी समस्या

Bikaner News - पलायन करने वालों को सुविधा देने से जुड़ी मांग पर केंद्र को नोटिस उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने ग्रामीण...

Mar 31, 2020, 07:11 AM IST
पलायन करने वालों को सुविधा देने से जुड़ी मांग पर केंद्र को नोटिस

उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण से लड़ने हेतु पंचायती राज संस्थाओं को राशि आवंटित की है। कोरोना वायरस संक्रमण को गांवों में प्रभावी तरीके से रोकने हेतु सुरक्षा किट व दवा छिड़काव पर लगभग 60 करोड़ रुपये व्यय किये जायेंगे।

पंचायती राज संस्थाएं इस राशि से स्वच्छता सामग्री यथा-सेनेटाइजर, मास्क, हाथ के दस्ताने आदि तथा कोरोना संक्रमण को रोकने हेतु आवश्यक दवाओं यथा-सोडियम हाइपो क्लोराइट का छिड़काव एवं वितरण की व्यवस्था करवा सकेगी। पायलट ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण से लड़ने में सहयोग प्रदान कर रहे कार्मिकों एवं जनप्रतिनिधियों को स्वच्छता सामग्री उपलब्ध कराने हेतु पंचायती राज संस्थाओं को निर्देश दिये हैं। ग्राम पंचायत को अधिकतम 50 हजार रु., विकास अधिकारी, पंचायत समिति को अधिकतम 1 लाख रुपये तथा मुख्य कार्यकारी अधिकारी, जिला परिषद को अधिकतम 1.5 लाख रुपये की स्वीकृति जारी करने की अनुमति प्रदान की गई है। यह राशि उक्त अधिकारी व संस्थाएं राज्य वित्त आयोग पंचम के अनुदान मद से व्यय कर सकेंगे। बता दें कि कई राज्यों से मजदूर पलायन करके गांवों में पहुंच रहे हैं। सरकार ने एहतिहात के तौर पर यह कदम उठाया है।

दौसा-सवाईमाधोपुर के आइसोलेशन वार्ड से भागे 11 संदिग्ध, 8 नहीं मिले

दौसा-सवाई माधोपुर | दौसा और सवाई माधोपुर के आइसोलेशन सेंटरों से सोमवार को 11 संदिग्ध भाग गए। इनमें 10 तो दौसा के मीणा छात्रावास के आइसोलेशन वार्ड से भागे। दौसा से भागे दो संदिग्ध रात तक खुद ही लौट आए। सवाईमाधोपुर के जनरल अस्पताल में भर्ती सूरवाल गांव का संदिग्ध भी भाग कर गांव पहुंच गया, जिसे तुरंत पीछा कर पकड़ लिया। दौसा के 10 में से 8 अभी गायब है। हुआ यह कि दौसा के मीणा छात्रावास में बनाए गए आइसोलेशन वार्ड से सोमवार को 10 कोरोना संदिग्ध अचानक भाग गए। पता चलने पर हड़कंप मच गया। छात्रावास के गेट पर छह होमगार्ड के जवान तैनात हैं। वहीं, पांच चिकित्साकर्मी डयूटी पर रहते हैं। आइसोलेशन वार्ड का चैनल गेट भी बंद रहता है। बाहरी व्यक्ति का प्रवेश पूरी तरह वर्जित है, लेकिन वार्ड में भर्ती रिंकू, नरसी, कृष्ण कुमार, राहुल, कमलेश, सोदान, मीठालाल, मथुरेश, इंद्राज व विनोद कुमार गार्डों को चकमा देकर वार्ड में से भाग गए। इससे जिन मरीजों के सैंपल की रिपोर्ट नहीं आई, उनसे आबादी में संक्रमण का खतरा और बढ़ गया। बाद में कमलेश व इंदर राज वापस आ गए। अन्य को भी वापस लाने के लिए विभाग के अधिकारी व कर्मचारी देर रात तक प्रयास करते रहे। संदिग्धों के परिजनों से संपर्क करने की कोशिश में जुटे रहे। इनमें रिंकू, नरसी, कृष्ण कुमार व विनोद कुमार के सैंपल की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। शेष छह की रिपोर्ट अभी नहीं आई। जिला
अस्पताल के पीएमओ डॉ. सी. एल. मीणा का कहना है कि सुरक्षाकर्मियों की लापरवाही से संदिग्ध भागे हैं। जो नहीं लौटे हैं, उनको वापस लाने के प्रयास किए जा रहे हैं। आइसोलेशन वार्ड की सुरक्षा और बढ़ाई जाएगी।


सीकर : आरोप- पुलिस की पिटाई से मौत हुई

रानोल ी(सीकर) | रानोली थाना क्षेत्र के त्रिलाकपुरा गांव निवासी रामसिंह पुत्र अवतारसिंह की सोमवार को सुबह अचानक मौत हो गई। इस मामले में मृतक रामसिंह के भाई हरिसिंह निवासी त्रिलोकपुरा ने रानोली थाने में पुलिस द्वारा मारपीट करने का मामला दर्ज कराया है। रानोली थाने में दी गई रिपोर्ट में हरिसिंह ने बताया कि उसका भाई रामसिंह कुचामन में लक्ष्यराज डिफेंस एकेडमी में नौकरी करता था। 24 मार्च को वह त्रिलोकपुरा आया। 28 को वह वापस घर से कुचामन के लिए रवाना हुआ। शाम को उनके पास डिफेंस एकेडमी संचालक देवाराम का फोन आया कि रामसिंह की तबीयत खराब है, इसे घर ले जाओ। पूछा कि क्या बात हुई तो देवाराम बताया कि रास्ते में कुचामन नाका चुंगी पर पुलिस ने उसे रोककर मारपीट की।

हाईकोर्ट व अधीनस्थ कोर्ट में अब 14 अप्रैल तकवॉट्सएप से होगी सुनवाई

जोधपुर | लाॅकडाउन काे देखते हुए राजस्थान हाईकोर्ट जोधपुर व जयपुर पीठ सहित प्रदेश की सभी अधीनस्थ अदालतों में अब 14 अप्रैल तक अर्जेंट मामलों की वॉट्सएप व स्काई पे के जरिए वीडियो कांफ्रेसिंग से सुनवाई होगी। इसके अलावा जोधपुर मुख्य पीठ व जयपुर पीठ में केवल तीन-तीन बेंच सुनवाई करेंगी।

मंगलवार को जोधपुर मुख्यपीठ में सुबह 11 बजे से 12.30 बजे के बीच वॉट्सएप, स्काइपे के द्वारा वीडियो कांफ्रेसिंग से सुनवाई की जाएगी। वहीं, राजस्थान राज्य उपभोक्ता आयोग प्रशासन ने कोविड: 19 महामारी को देखते हुए एक अादेश जारी कर राज्य उपभोक्ता आयोग सहित प्रदेश के सभी जिला उपभोक्ता मंचों में 14 अप्रैल तक लॉकडाउन घोषित कर दिया है।

केरल के सांसद बोले- कर्नाटक लॉकडाउन का फैसला वापस ले

कर्नाटक सरकार के नाकेबंदी के फैसले का केरल में कासरगोड से कांग्रेस सांसद राजमोहन उन्नीथन ने विरोध किया है। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर फैसला वापस लेने को कहा।

जेल में बंद 50 साल से ज्यादा उम्र के कैदियों को रिहा करने की मांग

एक वकील ने 50 साल से अधिक उम्र के कैदियों को पेरोल या जमानत पर रिहा करने पर विचार का निर्देश देने की मंाग को लेकर याचिका दी।

इंतजाम: यूपी ने 600 शेल्टर होम, बिहार ने क्वारेंटाइन केंद्र बनाए

{बिहार में यूपी के सीमावर्ती शहरों में 1.3 लाख लोगों के लिए 6 शिविर बनाए। इनमें लोगों को क्वारेंटाइन भी किया जाएगा।

{यूपी लौट रहे लोगों के लिए 600 शेल्टर होम बने, जो क्वारेंटाइन सेंटर भी होंगे। {दिल्ली में 550 स्कूलों में 4 लाख लोग ठहराए हैं।

  आपकी मांग वैसी है, जिन पर सरकारें पहले ही काम कर रही हैं: चीफ जस्टिस

याचिकाकर्ता: प्रवासी मजदूर अपने गांव की ओर पैदल चल पड़े हैं। न तो परिवहन साधन हैं, न खाना और चिकित्सा सुविधा। इन प्रवासियों को ये सुविधाएं देने के लिए केंद्र और राज्यों को आदेश दिया जाए।

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता: केंद्र और राज्य सरकारों ने इन समस्याओं के निदान के लिए जरूरी उपाय पहले ही शुरू कर दिए हैं। हम उन उपायों के बारे में कोर्ट को बताना चाहते हैं। हमें इसके लिए मोहलत दी जाए।

याचिकाकर्ता: मजदूरों के पैदल निकलने से पैदा हुई समस्या से निपटने के लिए राज्य सरकारों के बीच सहयोग की कमी है।

चीफ जस्टिस: हम उन मामलों में दखल देना नहीं चाहते, जिसके लिए केंद्र सरकार या राज्य सरकारें सकारात्मक प्रयास कर रही हैं।

याचिकाकर्ता: कुछ काउंसलर नियुक्त किए जाने चाहिए। जो शहर से गांव जा रहे लोगों को समझा सकें।

चीफ जस्टिस: देश मंे इस समय लोगों में डर और दहशत कोरोना से कहीं बड़ी समस्या है। इस बारे में केंद्र सरकार स्थिति रिपोर्ट पेश करे।

एक अन्य याचिकाकर्ता रश्मि बंसल- सुविधाएं देने के साथ उनके समूह को सैनेटाइज किया जाना चाहिए।

मेहता: लोगों में यह संदेश नहीं जाना चाहिए कि हम पलायन को सुविधाजनक कर रहे हैं और सुप्रीम कोर्ट पलायन करने वालों की मदद करने जा रहा है। यह पलायन रोका जाना चाहिए।

चीफ जस्टिस: हम किसी भी तरह का आदेश जारी कर इस मुद्दे को उलझाना नहीं चाहते। इसलिए हम पहले केंद्र सरकार के जवाब को देखेंगे। अब इस मामले को मंगलवार को सुनेंगे।

समाचार वितरक बंधु सुबह 10:30 बजे तक पाठकाें से अखबार का भुगतान ले सकेंगे

जयपुर | समाचार पत्र वितरक आज से सुबह 10:30 बजे तक कलेक्शन कर सकेंगे। पुलिस कमिश्नर अानंद श्रीवास्तव ने ये अादेश दिए। कमिश्नर का कहना है कि मीडिया जरूरी सेवाओं में आता है, इसलिए समाचार पत्र वितरकों को कलेक्शन के लिए आज से सुबह 10:30 बजे तक छूट रहेगी। इस दौरान किसी भी समाचार पत्र वितरक को राेका नहीं जाएगा। समाचार वितरकाें काे सुबह 8 बजे तक अखबार वितरण अाैर उसके बाद ढाई घंटे तक पाठकाें से बिल भुगतान लेने की छूट दी गई है।

सबसे बड़ा जोखिम उठा रहे...विदेश से लाए जा रहे भारतीय नागरिकों की देखरेख खुद कर रहे

{इस वक्त सबसे बड़ा खतरा िवदेश से लाए जा रहे भारतीय नागरिक हैं। इनके लिए सेना ने राजस्थान में जोधपुर, जैसलमेर और सूरतगढ़ मिलिट्री स्टेशन में वेलनेस सेंटर बनाए हैं।

{जैसलमेर में 484 और जोधपुर में ईरान से लाए गए 277 भारतीयों को क्वारेंटाइन करने का जिम्मा सेना ने उठा रखा है।

{अापाद स्थिति में राहत सामग्री के लिए विमान भी तैयार खड़े हैं।

सेना की कोरोनाबंदी; होली से पहले ही बाहरियों की एंट्री रोकी, जो जवान विदेश गए, उन्हें जांचा, नतीजा- कोई पॉजिटिव नहीं

डीडी वैष्णव | जोधपुर

जंग बारूद की हो या वायरस की, सेना के जवान सबसे पहले अलर्ट मोड पर आते हैं। क्योंकि उन्हें खुद को बचाने के साथ-साथ देशवासियों और देश की सीमा की रखवाली भी करनी होती है। कोरोना से युद्ध में भी उनका यही जज्बा देखने को मिला। जैसे ही देश में कोरोना की दस्तक हुई तो रक्षा मंत्रालय ने तीनों सेनाओं को अलर्ट कर दिया। राजस्थान में सेना के प्रवक्ता कर्नल सोम्बित घोष बताते हैं कि होली से पहले ही सभी मिलिट्री स्टेशनों, एयरफोर्स स्टेशनों और बीएसएफ के आवासीय क्षेत्रों में बाहरी लोगों की एंट्री बंद कर दी गई। स्टेशनों के जो अभी अफसर, जवान और उनके परिजन हाल-फिलहाल विदेश गए थे, उनकी सूची तैयार की गई। उनके स्वास्थ्य की जांच कराई गई। ज्यादा बीमार होने पर तुरंत विशेष वार्ड में भर्ती किया गया। जब पीएम मोदी ने 20 मार्च काे जनता कर्फ्यू की घोषणा की तो सेना के सभी स्टेशनों को लॉकडाउन कर दिया गया। लोगों को मिलिट्री एक्ट के तहत घर में रहने का अादेश दिया गया। अनुशासन भी ऐसा कि इसे तुरंत लागू भी कर दिया गया। फिर भी पालना के लिए सेना पुलिस ने आवासीय क्षेत्र में पेट्रोलिंग शुरू कर दी। अनुशासन का फायदा रहा कि कोई जवान कोरोना पॉजिटिव नहीं मिला है। वरना घातक हाे सकता था।

जयपुर में एक ही दिन में दोगुने हुए मामले, भीलवाड़ा में केस बढ़ने की रफ्तार 333%

नरेंद्र जाट . भीलवाड़ा | काेराेना से प्रदेश में सबसे ज्यादा प्रभावित भीलवाड़ा में पिछले 10 दिनाें में 333% की रफ्तार से संक्रमण फैला। वहीं जयपुर में सोमवार को एक ही दिन में 10 नए मामले मिलने से आंकड़ा दोगुना हो गया। दूसरे सर्वाधिक प्रभावित जिले झुंझूनू में संक्रमण फैलने की रफ्तार 133% रही। राजस्थान में संक्रमण फैलने की रफ्तार 340% रही।

खुशखबर : बाघिन एसटी-10 ने शावक को जन्म दिया, मां के साथ खेलता दिखा

आईपीएल का मौजूदा सीजन कैंसल होने की कगार पर- पढ़ें स्पोर्ट्स पेज पर

हर गांव को सेनेटाइजर, मास्क खरीदने को 50 हजार मिलेंगे

दो और याचिकाएं

कैसे हो डिस्टेंसिंग... घट नहीं रही लौटने वालोें की भीड़

94 साल की दादी ह्रदय- मोहिनी ब्रह्मकुमारी संस्था की मुख्य प्रशासिका होंगी

सुखद खबर


हां घर में रहेगा देश

इस देश को प्यार बुजुर्गों से

यहां खुद से पहले अपने हैं

कर्तव्य यहां पहले आता

और बाद में आते सपने हैं

बस यह ही एक संदेश

हां घर में रहेगा देश

इक्कीस दिन का उपवास लिए

जीवन की लम्बी सांस लिए

सीमा रेखा ना तोड़ेंगे

एक संयम एक विश्वास लिए

चलो मन को दें आदेश

हां घर में रहेगा देश

संकल्प नया एक करते हैं

चलाे मिल कर पीड़ा हरते हैं

इस देश के रहने वाले तो

हर दिन ही तपस्या करते हैं

बढ़ जाने दो यह केश

हां घर में रहेगा देश

-प्रसून जोशी

ऐतिहासिक सफलता के 23 वर्ष

विशेष खबरें

100

कर्नाटक से 66 बसों मेेंं प्रतापगढ़ पहुंचे 2430 लोग, साढ़े 7 घंटे स्क्रीनिंग

लॉकडाउन का असर मार्च से ज्यादा अप्रैल में

सेमको सिक्योरिटीज के रिसर्च प्रमुख उमेश मेहता का कहना है कि मार्च में लाॅकडाउन के बाद जिस तरह कारोबारी गतिविधियां थमी हैं, उससे 40% तक जीएसटी कलेक्शन सीधे घट सकता है। अप्रैल में इसका असर ज्यादा व्यापक रहेगा, क्योंकि मार्च के पहले पखवाड़े तक कारोबारी गतिविधियां सामान्य थीं।

ज्यादा असर इन सेक्टर्स पर

एफएमसीजी, कंज्यूमर ड्यूरेबल, ऑटोमोबाइल, रिफाइनरीज और पेट्रोल आउटलेट्स।

केंद्र और राज्य सरकारों का टैक्स कलेक्शन 80 हजार करोड़ रु. तक घट सकता है

मार्च में जीएसटी कलेक्शन प्रभावित होने की आशंका

69 पॉजिटिव के संपर्क में आने वालों की ट्रेसिंग जारी

राजस्थान में 14 काेराेना राेगी स्वस्थ, 4 अस्पताल से डिस्चार्ज भी हाे गए, प्रदेश में 78 लाख से ज्यादा लाेगों की स्क्रीनिंग हाे चुकी



कोरोनाप्रहार

गुरुदत्त तिवारी | नई दिल्ली/मुंबई

लॉकडाउन से केंद्र सरकार का इस महीने यानी मार्च का जीएसटी कलेक्शन लक्ष्य से करीब 40 हजार करोड़ रुपए तक कम रह सकता है। केंद्र ने मार्च के लिए 1.20 लाख करोड़ रुपए के जीएसटी कलेक्शन का लक्ष्य तय किया था, लेकिन विशेषज्ञों का अनुमान है कि अब यह एक तिहाई कम हाे सकता है। एके बत्रा एंड एसोसिएट्स के अशोक बत्रा ने बताया कि लॉकडाउन से कुछ दिन पहले से ही मॉल्स बंद होना शुरू हो गए थे। अनुमान है कि सरकार का मार्च माह का जीएसटी कलेक्शन 80 हजार करोड़ रुपए तक सिमट सकता है। विशेषज्ञाें का यह भी अनुमान है कि पेट्रोल-डीजल उत्पादन 75% घटने से केंद्र को 20 हजार करोड़ रुपए कम मिलेंगे। पेट्रोल-डीजल की बिक्री घटने से राज्य सरकारों को भी वैट के रूप में 20 हजार करोड़ रुपए का नुकसान होगा। सरकार ने 13.48 लाख करोड़ रुपए का सेंट्रल और स्टेट जीएसटी के कलेक्शन का लक्ष्य तय किया था, जिससे वह पहले ही काफी पीछे चल रही है। फरवरी तक उसे केवल 10.76 लाख करोड़ रुपए ही मिले हैं। मार्च में 1.20 लाख करोड़ रुपए मिलाकर उसे 11.96 लाख करोड़ रुपए ही मिलते। अब मार्च में 40 हजार करोड़ घटकर 11.56 लाख कराेड़ रुपए ही बचेंगे।

राजस्थान के सरिस्का अभयारण्य में बाघ-बाघिनों की संख्या 17 हुई।

भास्कर न्यूज. अलवर | राजस्थान के सरिस्का अभयारण्य में बाघिन एसटी-10 ने शावक को जन्म दिया है। सोमवार को बाघिन के साथ वाटर हाेल पर अठखेलियां कर रहे शावक का फोटो कैमरे में ट्रैप हुआ। सरिस्का प्रशासन ने बाघिन एवं उसके शावक की निगरानी बढ़ा दी है। शावक की उम्र करीब 3 माह है। सरिस्का डीएफओ एसआर यादव ने बताया कि बाघिन एसटी-10 की तीन महीने से लगातार मॉनीटरिंग की जा रही थी। तालवृक्ष रेंज में रह रही इस बाघिन पर निगरानी रखने के लिए कैमरे लगाए गए थे। सोमवार को कैमरे को चैक किया तो उसमें बाघिन के साथ शावक का फोटो दिखाई दिया। इसी के साथ सरिस्का में बाघ-बाघिनों की संख्या 17 हो गई है। इनमें 10 बाघिन, 6 बाघ और एक शावक है।

आबूरोड (सिरोही) | ब्रह्माकुमारी संस्थान की मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी जानकी के निधन के बाद संस्थान का नेतृत्व अब 94 साल की अतिरिक्त मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी हृदयमोहिनी करेंगी। वे संस्था की मुख्य प्रशासिका होंगी। सोमवार को ब्रह्मकुमारीज संस्थान के मैनेजमेंट कमेटी की हुई बैठक में यह निर्णय हुआ। संयुक्त मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी रतनमोहिनी को अतिरिक्त मुख्य प्रशासिका बनाया गया है।

60 करोड़ रु. खर्च करेगा विभाग : पायलट

बड़ी लापरवाही } हॉस्टल के गेट पर 6 होमगार्ड तैनात थे

तस्वीर पटना की है। वहां यूपी और अन्य राज्यों से लौट रहे लोगों की भीड़ बढ़ती जा रही है। ऐसे ही नजारे अन्य शहरों में भी दिख रहे हैं।

नई दिल्ली | सुप्रीम कोर्ट में साेमवार को उन हजारों प्रवासी मजदूरों का मुद्दा उठा, जो लॉकडाउन के बीच साधन न होने से भूखे-प्यासे पैदल ही घर लाैट रहे हैं। चीफ जस्टिस एसए बोबडे के नेतृत्व वाली पीठ ने इन्हें राहत दिए जाने की मांग से जुुड़ी याचिका पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से सुनवाई की। चीफ जस्टिस ने कहा, मौजूदा समय में लोगों के बीच डर और दहशत कोरोनावायरस से बड़ी समस्या बन रहा है। केंद्र सरकार इस मामले में बताए कि उसने इन लोगों के लिए क्या व्यवस्था की है। इस बारे में अपना जवाब एक दिन में दायर करे। कोर्ट अब मंगलवार दोपहर 12:15 बजे मामले की सुनवाई करेगा। याचिका में वकील अलख आलोक ने कहा कि कोरोना के इस संकट में सबसे बड़े पीड़ित अपंजीकृत प्रवासी मजदूर हैं। उनके पास संसाधन या इतने पैसे नहीं हैं कि वे 21 दिन गुजार सकें। केंद्र ने 1.7 लाख करोड़ का पैकेज घोषित किया है, पर सफर में फंसे होने से इन्हें उसका लाभ नहीं मिल पाएगा।

बीकानेर, मंगलवार, 31 मार्च, 2020

अजय पारीक. प्रतापगढ़ | राजस्थान, यूपी व हरियाणा के अलग-अलग जिलों से मजदूरी करने गए 2430 लोगों को लेकर कर्नाटक की 66 बसें सोमवार सुबह 7 बजे राजपुरिया बाॅर्डर में दाखिल हुई। इन बसों में मजदूर, दिहाड़ी श्रमिक बैठे थे। इन्हें वरमंडल हवाईपट्टी पर लाया गया। वहां पहले तो पर्याप्त डिस्टेंसिंग के साथ बैठाया गया। वहां मौजूद करीब 90 चिकित्सकों, पैरा मेडिकल स्टाफ ने स्क्रीनिंग की। सुबह करीब 11 बजे से दोपहर 2.30 बजे तक स्क्रीनिंग चलती रही। गनीमत रही कि किसी भी व्यक्ति या महिला में कोरोना के लक्षण नजर नहीं आए।

 }कोरोनायुद्ध में सबसे पहले अलर्ट मोड पर आकर न सिर्फ खुद को और बल्कि दूसरों को भी बचाया

इसमेंे पेट्रोल-डीजल से मिलने वाले 40 हजार करोड़ का टैक्स भी शामिल

चिंता : 10 दिन में संक्रमण 4 से 11 जिलाें में फैला, प्रदेश में पाॅजिटिव मरीज 18 से बढ़कर 79 हाे गए

जिला 20 मार्च 30 मार्च मरीज बढ़े बढ़ाेतरी (%)

भीलवाड़ा 6 26 20 333

झुंझुनंू 3 7 4 133

जयपुर 8 20 12 150

प्रतापगढ़ 1 2 1 100

राजस्थान 18 79 61 340

घबराएं नहीं, इस महामारी से बचा जा सकता है : रघु शर्मा


जयपुर | प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव 69 में से सोमवार तक 14 रोगी इस बीमारी से ठीक हाे गए। सरकार ने दावा किया कि चिकित्सकों की मेहनत से 14 पॉजिटिव मरीजों की रिपोर्ट अब निगेटिव आई है। इनमें से 4 को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है। 10 को अभी निगरानी में रखा गया है। चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने यह जानकारी दी। मंत्री ने बताया कि चिकित्सा विभाग की एक्टिव सर्विलांस टीम राज्य के 78 लाख 74 हजार 337 परिवारों के 3 करोड़ 26 लाख सदस्यों की स्क्रीनिंग कर चुकी है। इसके अलावा पैसिव सर्विलांस यानी ओपीडी में 28 लाख 43 हजार 362 की जांच की गई है। इस कदम से न केवल बढ़ते कोरोना के संक्रमण पर रोक लगेगी बल्कि भविष्य के लिए योजना बनाई जा सकेगी। उन्होंने बताया कि 69 पॉजिटिव मरीजों के संपर्क में आए लोगों की ट्रेसिंग करके भी सैंपल लिए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश के जिलों में 302 लोग अभी आइसोलेशन में भर्ती हैं। भीलवाड़ा के कलेक्टर ने दावा किया कि 26 में से 8 की रिपोर्ट निगेटिव आई है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना