गणगौर पूजन : परंपराओं को निभाना जरूरी पर सुरक्षित रहना भी आवश्यकबुर्जुग महिलाएं बोली, इस बार घर में ही निभाएं गवर भोळावण की रस्म

Bikaner News - धूलंडी के दिन से बालिकाअाें ने 16 दिन तक गणगाैर मां की पूजा की। 16 दिन गणगाैर की पूजा के बाद बालिकाअाें की अाेर से गवर...

Mar 27, 2020, 07:10 AM IST
Bikaner News - rajasthan news gangaur pujan it is important to keep the traditions but also to be safe

धूलंडी के दिन से बालिकाअाें ने 16 दिन तक गणगाैर मां की पूजा की। 16 दिन गणगाैर की पूजा के बाद बालिकाअाें की अाेर से गवर काे तालाब, कुएं या बावड़ी पर पानी पिलाने की रस्म निभाई जाती है। यानी गणगाैर काे घर से विदा किया जाता है। हाेलिका दहन की राख से बनी पिंडलियाें के साथ पाळसिए में गणगाैर की पूजा कर उसे तालाब या बावड़ियाें में विसर्जित किया जाता है। 16 दिन तक उगाए गए ज्वारे भी इसमें साथ डाल दिए जाते हैं। बालिकाअाें के लिए पूरे प्रदेश में गणगाैर का मेला भी लगता है।

काेराेना महामारी के कारण घराें से निकलने पर पाबंदी है। एेसे में सभी बालिकाअाें काे चिंता सताने लगी है कि वे अपनी गणगाैर काे कैसे विदा करेंगी, कहां पानी पिलाएंगी।

इसी चिंता काे दूर करने के लिए “भास्कर’ ने बुजुर्ग महिलाअाें व पंडिताें इसके उपाय पूछे। पता चला कि मां गवरजा पहले सभी की सुरक्षा चाहती है। वे चाहती हैं कि हर घर में रहने वाले उसके सभी भक्त सुरक्षित रहे। इस महामारी वे इस बार उनसे दूर नहीं जाएगी। सभी बालिकाएं अपने घर के नजदीकी किसी पीपल या वट वृक्ष काे ज्वारा व पाळसिए साैंप दे। ध्यान रखें, दूरी बनाए रखे अाैर एक-दाे से ज्यादा काेई बाहर ना निकले।

मुझे पानी पिलाने के िलए घर का काेई एक सदस्य किसी तालाब, कुएं या बावड़ी जाकर पानी ला सकता है, वह मैं स्वीकार कर लूंगी।

गांवाें में लगने वाले सभी मेले स्थगित

बीकानेर ग्रामीण | गणगाैर मेला ग्रामीण अंचल के अधिकांश गांवाें में बड़े स्तर पर लगता है। इस बार सभी काे स्थगित कर दिया गया है। ग्रामीणाें ने अापसी सहमति के अाधार पर हर जिंदगी की सुरक्षा काे अपनी अास्था का पहला प्रतिक बनाया है। कोलायत. एसडीएम प्रदीप कुमार चाहर ने बताया कि इस बार गवर का विसर्जन कपिल सराेवर में नहीं हाेगा। पानी की टंकी या किसी भी तलाई पर भी पानी पिलाने की रस्म नहीं निभाई जाएगी। सभी बालिकाएं घराें में रहे अाैर वहीं पर इस बार पर्व मनाए। लूणकरणसर. 27-28 मार्च को प्रस्तावित गणगौर सवारी व मेला कोरोना वायरस से बचाव के चलते निरस्त किया गया है। मेला कमेटी के ब्रजमोहन चौहान ने सभी लाेगाें से घर में ही रहने की अपील की है। गजनेर. घर-घर जाकर गणगाैर की खाेल भराई इस बार नहीं हाेगी। बाबूलाल छंगाणी ने बताया कि रेफरल हाॅस्पिटल के पास लगने वाला मेला भी स्थगित कर दिया गया है। गणगाैर माता की सवारी भी नहीं निकालेंगे।

कोलायत। श्रृंगारित ईसर एवं गवर।

X
Bikaner News - rajasthan news gangaur pujan it is important to keep the traditions but also to be safe

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना