जेनरिक की जगह खरीदी महंगी ब्रांडेड दवाइयां, सरकार काे कराेड़ाें रुपए का नुकसान

Bikaner News - सहकारी उपभाेक्ता हाेलसेल भंडार के अधिकारी-कर्मचारियाें ने अापसी मिलीभगत से पेंशनर्स काे मिलनी वाली दवाइयां...

Bhaskar News Network

Jun 11, 2019, 06:25 AM IST
Bikaner News - rajasthan news major branded medicines purchased in place of generics loss of rupees by government
सहकारी उपभाेक्ता हाेलसेल भंडार के अधिकारी-कर्मचारियाें ने अापसी मिलीभगत से पेंशनर्स काे मिलनी वाली दवाइयां जेनरिक ना खरीदकर महंगी ब्रांडेड खरीदी जिससे सरकार काे कराेड़ाें रुपए का नुकसान हुअा। भ्रष्टाचार निराेधाक ब्यूराे ने घाेटाला करने के अाराेप में मेडिकल काॅलेज के अतिरिक्त प्राचार्य, हाेलसेल भंडार के तत्कालीन महाप्रबंधक सहित छह अधिकारी-कर्चारियाें व अन्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।

ब्यूराे की बीकानेर चाैकी के एएसपी रजनीश पूनिया ने बताया कि पेंशनर्स काे देने के लिए जेनरिक दवाइयां ना खरीदकर महंगी ब्रांडेड दवाइयां खरीदने अाैर डाॅक्टर्स की अाेर से ब्रांडेड दवाइयां ही लिखने की शिकायत मिली थी। ब्यूराे ने हाेलसेल भंडार का रिकार्ड जप्त कर संबंधित लाेगाें से छानबीन की। वर्ष, 14-15 से 16-17 तक तीन साल के िरकाॅर्ड की गहनता से जांच-पड़ताल कर संबंधित लाेगाें से पूछताछ की ताे सामने अाया कि सरकार की अाेर से पेंशनर्स काे देने के लिए जेनरिक दवाइयां खरीदने के अादेश हैं, लेकिन हाेलसेल भंडार के अधिकारी-कर्मचारियाें ने मिलीभगत ब्रांडेड दवाइयां खरीदी। ब्रांडेड दवाइयां भी वाे, जाे सबसे ज्यादा महंगी हैं। तीन सालाें में ही सरकार काे पांच कराेड़ रुपए से ज्यादा के नुकसान का अनुमान है। सरकारी अस्पताल के डाॅक्टर्स काे जेनरिक दवाइयां लिखने के निर्देश हैं, लेकिन जांच में पता चला है कि मेडिकल काॅलेज के अतिरिक्त प्राचार्य डाॅ. एल. ए. गाैरी ने मरीजाें काे बार-बार महंगी ब्रांडेड दवाइयां लिखीं। ब्यूराे मुख्यालय ने डाॅ. गाैरी, हाेलसेल भंडार के तत्कालीन महाप्रबंधक मनमाेहन सिंह यादव, तत्कालीन स्टाेर कीपर अनिल गुप्ता, विनाेद गाैड़, लिपिक रामकुमार बिस्सा, मेडिकल सुपरवाइजर बजरंग महात्मा व अन्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।

तीन सालाें में ही सरकार काे 5 कराेड़ रुपए से ज्यादा के नुकसान का अांकलन

X
Bikaner News - rajasthan news major branded medicines purchased in place of generics loss of rupees by government
COMMENT