कविताएं मनुष्यता के भाव व सकारात्मकता जाग्रत करने का सबसे सहज माध्यम

Bikaner News - बीकानेर | कविताएं मनुष्य में मनुष्यता के भाव व सकारात्मकता जाग्रत करने का सबसे सहज माध्यम हाेती है। कविता अाैर...

Dec 23, 2019, 07:35 AM IST
Bikaner News - rajasthan news poems are the easiest way to awaken the expressions and positivity of humanity
बीकानेर | कविताएं मनुष्य में मनुष्यता के भाव व सकारात्मकता जाग्रत करने का सबसे सहज माध्यम हाेती है। कविता अाैर कविताअाें के मर्म पर इन विचाराें के साथ कवि राजाराम स्वर्णकार के काव्य संग्रह तीसरी अांख का सच का लाेकार्पण किया गया। नरेंद्र सिंह अाॅडिटाेरियम में हुए समाराेह के दाैरान साहित्यकार भवानी शंकर व्यास विनाेद व मधु अाचार्य अाशावादी ने संग्रह की कविताअाें काे काेमल मन की साफगाेई से रची निर्मल रचनाएं बताया। राजेंद्र जाेशी व शंकरलाल कट्टा ने लाेकार्पित कृति काे जीवन विमर्शाें की कविताएं कहा। इस माैके पर कवि राजाराम स्वर्णकार ने चुनिंदा कविताअाें का वाचन किया। कृति पर डाॅ.कृष्णा अाचार्य ने पत्रवाचन ताे गाैरीशंकर साेनी ने कविताअाें की प्रस्तुतियां दी। डाॅ.अजय जाेशी ने स्वागत व अशफाक कादरी ने अाभार जताया।

लाेकार्पण समाराेह में यह रहे साक्षी

कृति लाेकार्पण समाराेह के दाैरान लेखक राजाराम स्वर्णकार का विभिन्न संस्था-संगठनाें की अाेर से अभिनंदन किया गया। इस माैके पर नंदकिशाेर साेलंकी, डाॅ.रेणुका व्यास, शिवशंकर व्यास, नेमचंद गहलाेत, रामेश्वर बाड़मेरा, बीएल नवीन, बाबूलाल छंगाणी, श्रीगाेपाल स्वर्णकार, वली माेहम्मद गाैरी, कासिम बीकानेरी, डाॅ.बसंती हर्ष, कृष्णा वर्मा, प्रेमनारायण व्यास, मीनाक्षी स्वर्णकार, नासिर जैदी अादि माैजूद थे।

X
Bikaner News - rajasthan news poems are the easiest way to awaken the expressions and positivity of humanity
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना