हम खुद से सवाल करना अाैर अपने अाप काे जगाना ही भूल गए है, वक्त अा गया है कि हम बदलाव लाए

Bikaner News - हम खुद से सवाल करना अाैर अपने अाप काे जगाना ही भूल गए है। इसी का नतीजा है कि माहाैल बदल गया है। हर मन में...

Feb 16, 2020, 07:45 AM IST
Bikaner News - rajasthan news we have forgotten to question ourselves and wake up ourselves the time has come to bring change

हम खुद से सवाल करना अाैर अपने अाप काे जगाना ही भूल गए है। इसी का नतीजा है कि माहाैल बदल गया है। हर मन में नकारात्मकता घर कर गई है। इन बदहाल स्थितियाें काे बदलना जरूरी हाे गया है। यह कहना है अभिनेत्री तहनाज ईरानी का। ताेलाराम बाफना अकादमी में रविवार काे अायाेजित कार्यक्रम के सिलसिले में शनिवार काे बीकानेर पहुंची अभिनेत्री तहनाज ने दैनिक भास्कर से खास बातचीत करते हुए कहा कि बरसाें से फिल्म अाैर सीरियल लाइन में हूं। ढेर सारे अनुभवाें काे हासिल किया। अब तय किया है कि हासिल किए हुए काे बांटू। इसलिए अब लाइफ काेच के रूप में अपने अाप काे व्यक्त करने की काेशिश कर रही हूं। किताब भी लिख रही हूं। बदलते माहाैल काे महसूस कर साेचा कि अब वक्त अा गया है कि जाे समाज-परिवार ने हमें दिया वाे वापस कंरू अाैर दूसराें काे इस बात के लिए तैयार भी कंरू। इसलिए जीवन की नई पारी की शुरूअात कर रही हूं। इस नई पारी में एेसे विचार जाग्रत करने के लिए कार्य करूंगी जिससे अामजन अपने में एेसे विचार जगा सके ताकि सकारात्मक बदलाव हाे पाए।

जाे मिला उसे लाैटाऊ इसलिए बन रही हूं लाइफ काेच, किताब भी लिख रही हूं

तहनाज बाेली मेरा एक बेटा 28 अाैर दूसरा 8 साल का है। इन 28 से 8 साल के बीच के बरसाें में बहुत से पड़ाव तय किए। अनेक अनुभवाें काे हासिल किया। पिछले कुछ समय से अासपास के माहाैल में जाे असहनीय बदलाव अा रहा है उसे राेकना जरूरी है। इसके लिए यही साेचा है कि फिल्माें अाैर सीरियलाें के साथ ही लाइफ काेच के रूप में काम करु। लाेगाें काे जगाने के लिए प्रयास करू ताकि दुनियां अाैर समाज में सकारात्मक बदलाव ला पाऊ। इसके साथ ही लाइफ काेच, टेक-2 नाम से एक किताब भी लिख रही हूं। जिसमें अपने अनुभवाें काे कहानियाें के जरिए सामने लाऊंगी।

फिल्म अाैर टीवी लाईन में बहुत किरदार किए अब रियल किरदार निभाने की बारी

पिछले 28 सालाें से फिल्म अाैर टीवी लाईन में हूं। बहुत से किरदार किए। सेल्फी नाम से एक नाटक का निर्देशन कर पांच महिलाअाें के जरिए महिलाअाें की स्थितियाें काे सामने रखते हुए मैं चूप क्यूं रहूं का संदेश दिया। इस बीच जेनरेशन गैप काे महसूस करते हुए साेचा बदलाव लाना है। मुश्किल है। पर असंभव नहीं। इच्छा है फिल्म में स्ट्रांग लाॅयर का राेल अाैर रियल लाइफ में लाेगाें काे जगाने का काम करु। इस माैके पर बाफना अकादमी के सीईअाे डाॅ.पीएस वाेहरा ने तहनाज का स्वागत किया।

X
Bikaner News - rajasthan news we have forgotten to question ourselves and wake up ourselves the time has come to bring change

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना